बहन-बेटी से प्यार करने वाले नहीं करेंगे ट्रिपल तलाक पर आए फैसले का विरोधः राठौर

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने तीन तलाक को खत्म करने के फैसले को महिलाओं के लिए सम्मानजनक बताया।

By: ​Vineet singh

Published: 22 Aug 2017, 05:01 PM IST

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर केंद्र सरकार की उपलब्धियां गिनाने के लिए मंगलवार को कोटा आए थे। जहां उन्होंने तीन तलाक को खत्म करने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ऐतिसाहिक निर्णय बताते हुए कहा कि इससे मुस्लिम महिलाओं के सम्मान में बढ़ोत्तरी होगी और उन्हें अब समाज में बराबर का हक मिल सकेगा। विरोध के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि जिसे अपनी बहन बेटी से प्यार नहीं होगा वही इस फैसले का विरोध करेगा।

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को तीन तलाक को असंवैधानिक घोषित कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को छह महीने में इस पर संसद में कानून बनाने का भी आदेश दिया है। इस दौरान कोटा में मौजूद केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को भारतीय न्याय व्यवस्था का एतिहासिक फैसला बताया। राठौर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से भारतीय महिलाओं की स्थिति में रचनात्मक सुधार होगा।

Read More: OMG! जब जेल से छूटने का नहीं मिला कोई रास्ता तो पेड़ पर चढ़ गया कैदी

महिलाओं का बढ़ेगा सम्मान

राज्यवर्धन सिंह राठौर ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मुस्लिम महिलाओं का सम्मान बढ़ाने वाला बताते हुए कहा कि कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद ट्रिपल तलाक को गैरकानूनी और असंवैधानिक बताया है। यह कोर्ट ने इसलिए कहा है क्योंकि भारतीय संविधान हर किसी को बराबर हक देता है चाहे वह किसी भी धर्म की महिला हो या पुरुष। संविधान की इसी भावना को मजबूत करते हुए सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले ने मुस्लिम महिलाओं को बराबरी का हक दिया है। जिससे निश्चित तौर पर उनकी सामाजिक स्थित में सुधार होगा और उनका सम्मान बढ़ने के साथ ही समाज में बराबर का हक भी मिलेगा।

Read More: लोड टेस्टिंग रिपोर्ट 'लापता', हुंडई की गारंटी पर एनएचएआई ने खेला उदघाटन का दांव

विरोध को बताया अनुचित

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्य वर्धन सिंह राठौर ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध को अनुचित करार दिया। उन्होंने कहा कि सामाजिक व्यवस्था गलतियों को सुधारकर लोगों का जीवन स्तर बेहतर बनाने का काम करती है, ना कि लोगों की जिंदगी को बद्त्तर बनाने का। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले ने मुस्लिम महिलाओं के जीवन को सुधारने वाला फैसला सुनाया है, जिसे अपनी बहन या बेटी से प्यार नहीं होगा वही इस फैसले का विरोध करेगा।

Show More
​Vineet singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned