70 मिनट में मेरठ से दिल्ली का सफर कराने वाली रैपिड रेल के लिए सुरंग का काम शुरू, जानिए खासियत

मेरठ (Meerut) और दिल्ली (delhi) के बीच दो स्थानों पर बनेंगी रैपिड रेल (Delhi Meerut Rapid Rail Project) के लिए सुरंग, पहली सुरंग आनंद विहा रेलवे स्टेशन के लिए दूसरी सुरंग मेरठ के भैसाली रोडवेज के पास हो रही तैयार

By: shivmani tyagi

Updated: 14 Jun 2021, 08:44 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ. रैपिड रेल ( Delhi Meerut Rapid Rail Project ) के माध्यम से दिल्ली से मेरठ मात्र 70 मिनट में पहुंचने का सपना तेजी से परवान चढ़ रहा है। दिल्ली से लेकर मेरठ की सीमा तक पिलर खड़े करने का करीब 70 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। अब रैपिड की दूसरी कड़ी में सुरंग बनाने के काम में तेजी आ गई है। दिल्ली से मेरठ के बीच रैपिड के लिए दो सुरंग प्रस्तावित हैं। पहली सुरंग आनंद विहार पर बनाई जाएगी जबकि दूसरी सुरंग मेरठ में बनाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: बिना मास्क मिलने पर पुलिस आवास निगम के जेई का कटा चालान, अभी तक का सबसे बड़ा चालान

आनंद विहार ( Anand Vihar ) में बनने वाली सुरंग का काम अब शुरू हो चुका है। सुरंग बनाने के लिए 20 मीटर गहरी यानी कि 10 मंजिला इमारत की ऊंचाई के बराबर और 5 मीटर चौड़े आकार का डायफ्राम वॉल (डी-वॉल) पैनल जमीन में उतारा गया है। डी-वॉल भूमिगत हिस्से में मिट्टी की खुदाई करते समय ढाल या फ्रेम के रूप में कार्य करता है। इससे मिट्टी के गिरने की संभावना कम हो जाती है, साथ ही यह पानी के रिसाव को भी रोकता है। यह लॉन्चिंग शाफ्ट 20 मीटर लंबा और 16 मीटर चौड़ा है। यह आनंद विहार भूमिगत आरआरटीएस स्टेशन पर स्थित है। आनंद विहार से सराय काले खां की ओर आरआरटीएस के जुड़वां सुरंगों की खुदाई करने के लिए इस शाफ्ट में दो टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) को उतारा जाएगा। इन मशीनों से करीब तीन किलोमीटर लंबी सुरंग बनाई जाएगी। यह देश में मेट्रो प्रणालियों के दो स्टेशनों के बीच सबसे लंबा सुरंग खंड होगा।

यह भी पढ़ें: कोर्ट में सरेंडर से पहले पुलिस ने सपा नेता धर्मेंद्र यादव को किया अरेस्ट, ये था पूरा मामला

आपात स्थिति में सुरक्षा के लिए सुरंगों के दोनों किनारों को जोड़ने वाले इस बड़े खंड के बीच एक वायु संचार या एयर वेंटिलेशन शाफ्ट का निर्माण किया जाएगा। आनंद विहार से मेरठ की तरफ करीब दो किलोमीटर लंबी जुड़वा सरंग बनाई जाएंगी। इनका काम जल्दी शुरू किया जाएगा। सुरंगों की चौड़ाई मेट्रो के मुकाबले ज्यादा रखी जाएगी। सुरंगों का आंतरिक व्यास करीब 6.5 मीटर होगा।

यह भी पढ़ें: जिला पंचायत अध्यक्ष चुनावः बाहुबली धनंजय सिंह और विजय मिश्रा के गढ़ में कैसे हैं समीकरण
यह भी पढ़ें: बलरामपुर में समाजसेवी ने सीएचसी व पीएचसी को लिया गोद, कहा- तीसरी लहर से पहले दुरुस्त होंगे दोनों अस्पताल

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned