मुस्लिम उलेमाओं ने कहा घर पर रहकर करें अलविदा जुमे की नमाज

उलेमाओं ने कहा पैगम्बर के बताए रास्ते को अपनाए रोजेदार शुक्रवार सात अप्रैल को है अलविदा जुमा महामारी से देश और दुनिया को बचाने के लिए करेंगे दुआ

By: shivmani tyagi

Updated: 06 May 2021, 12:13 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ meerut news शुक्रवार से पहले मुस्लिम उलेमाओं Muslim Ulema ने रोजेदारों Rojedar से घर पर रहकर ही अलविदा जुमे की नमाज अता करने की अपील की है। उन्हाेंने कहा कि वर्तमान हालात ठीक नहीं है महामारी फैल रही है ऐसे में सभी रोजेदार मिलकर देश और दुनिया में अमन चैन की दुआ करें।

यह भी पढ़ें: इस रमजान खास खजूरों से करिए इफ्तार, तीन साल के बच्चे से 100 साल तक के बुजुर्ग खा सकते हैंये खजूर

माह-ए-रमजान के तीसरे और अंतिम अशरे में लोगों ने अल्लाह की इबादत में गुजारा। मगरिब की नमाज के बाद लोगों ने मस्जिदों में एताकाफ में बैठना शुरू कर दिया। उधर लोगों ने पहली ताक रात को शब ए कद्र की तलाश की। शहर काजी जैनुस्साजिददीन ने कहा कि पैगम्बर ने इंसान को अधिक उदार बनाया है। अपने आप को पाक साफ करो, सभी संकीर्णताओं से दूर रहो। अल्लाह ने इंसान को वह ज्ञान दिया है जिसे वह जानता नहीं है। परदे को हटाकर जागों और सावधान हो जाओ। उन्होंने रोजेदारों से घर पर ही अलविदा जुमा की नमाज पढ़ने की अपील करते हुए कहा कि महामारी से देश और दुनिया को बचाने की दुआ करें।

यह भी पढ़ें: Ramadan mubarak 2021: महामारी के बीच रमजान मुबारक में रखें इन बातों का खास खयाल

शहर काजी ने कहा कि धार्मिक ग्रंथ की सीखों की व्याक्ष्या आज के दुनिया और समाज के अधिकारों की एवज में जानी चाहिए। आज दुनिया की भलाई के लिए मांगी गई एक दुआ हमेशा के लिए बन्दों की भलाई के लिए है। उन्होंने यह भी कहा कि मस्जिदों में किसी प्रकार भी भीड़ नहीं होनी चाहिए। बता दें कि रमजान के तीसरे और अंतिम अशरे जहन्नुम से निजात के पहले दिन सहरी के बाद से ही इबादत शुरू हेती है। फजर की नमाज अदा की और कुरान ए करीम की तिलावत में बैठ जाते हैं। पूरा दिन इबादत में गुजारा और गुनाहों से तौबा कर अल्लाह को राजी करने का प्रयास किया जाता है।

यह भी पढ़े: एक रुपया भी नहीं होगा खर्च, बढ़ जाएगी आपके पंखे की रफ्तार और घट जाएगा बिजली बिल
यह भी पढ़े: आजकल क्यों लग रहे हैं कुछ भी छूने से बिजली जैसे करंट के झटके ? एक्सपर्ट से जानिए वजह

यह भी पढ़ें: मर्सिडीज से पर्चा दाखिल करने पहुंचा गांव वाला प्रत्याशी, सवा करोड़ रुपये है कार की कीमत

यह भी पढ़ें: अनोखा दरबार जहां मांगी गई मन्नत पूरी हाेने पर हिन्दू-मुस्लिम सभी चढ़ाते हैं मुर्गा

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned