Covid-19 पर नई एडवाइजरी: छींक से 10 मीटर तक जा सकता है वायरस, मास्क और पंखों को लेकर नए निर्देश

सरकार ने कोविड-19 के खिलाफ जारी लड़ाई में अपनी एक नई ईजी टू फॉलो एडवाइस जारी की है। इसमें कहा गया है कि छींक के साथ 10 मीटर तक वायरस जा सकता है। इसके साथ ही मास्क और पंखे को लेकर नई गाइडलाइंस जारी की गई है।

 

नई दिल्ली। महामारी कोरोना वायरस ने देशभर में तबाही मचा रखी है। कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकारें अपने—अपने स्तर पर हर संभव कोशिश कर रही है। केंद्र सरकार ने माना है कि कोविड-19 हवा में 10 मीटर तक जा सकता है। हाल ही में सरकार ने कोविड—19 के खिलाफ जारी लड़ाई में अपनी एक नई ईजी टू फॉलो एडवाइस जारी की है। इसमें कहा गया है कि कोरोना के संक्रमण मुख्य तौर पर लाल और नाक के जरिए होता है। इसमें कहा गया है कि छींक के साथ 10 मीटर तक कोरोना वायरस जा सकता है। इसके साथ ही मास्क और पंखे को लेकर सरकार की नई गाइडलाइंस जारी की गई है।

हवा में 10 मीटर तक फैल सकता है कोरोना
केंद्र सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन के कार्यालय के मुताबिक, कोरोना से लड़ने के लिए फेस मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग, साफ-सफाई और जरूरी वेंटिलेशन अभी भी प्रभावी तरीके हैं। एडवाइजरी में कहा गया है कि कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के ड्रॉपलेट्स हवा में दो मीटर तक जा सकते हैं। जबकि एयरोसोल उन ड्रॉपलेट्स को 10 मीटर तक आगे बढ़ा सकता है और संक्रमण का खतरा पैदा कर सकता है। अगर किसी संक्रमित शख्स में लक्षण नहीं भी हैं तब भी उससे पर्याप्त ड्रॉपलेट्स निकल सकती हैं जिससे और लोग भी संक्रमित हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें :— शुभ संकेत धीमी पड़ी कोरोना की रफ्तार: देश के 200 जिलों में कम हुए रोजाना केस, पॉजिटिविटी रेट में भी घटी

डबल मास्क या एन95 मास्क पहनना चाहिए
एडवाइजरी में कहा गया है कि संक्रमित व्यक्ति द्वारा सांस छोड़ने, बात करने, बोलने, गाने, हंसने, खांसने या छींकने आदि के दौरान लार और नाक के जरिए ड्रॉपलेट्स और एरोसोल बन सकते हैं जो वायरस का ट्रांसमिशन फैला सकते हैं। एडवाइजरी में कहा गया है कि लोगों को डबल मास्क या एन95 मास्क पहनना चाहिए। गाइडलाइन में बताया गया है कि उन चीजों की नियमित रूप से सफाई होनी चाहिए, जिनके संपर्क में लोग ज्यादा रहते हैं। इसमें दरवाजे का हैंडल, लाइट स्विच, टेबल, कुर्सी आदि शामिल हैं।

यह भी पढ़ें :— Patrika Positive News: स्वयंसेवी संस्थाओं ने खोला दूसरा कोविड केयर सेंटर, 24 घंटे डॉक्टर—ऑक्सीजन सहित इलाज की सभी व्यवस्थाएं

पंखों को लेकर भी एडवाइजरी
सरकारी की नई गाइडलाइन के मुताबिक, बंद और गैर-हवादार इनडोर जगहों में ड्रॉपलेट्स और एयरोसोल कोरोना वायरस के फैलाव के जोखिम को बहुत बढ़ा देते हैं। हालांकि विशेषज्ञ हमेशा से ये कहते आए हैं कि वेंटिलेशन वाले जगहों पर और आउटडोर जगहों पर संक्रमण के फैलने का खतरा कम रहता है। एडवाइजरी में ऑफिस, ऑडिटोरियम, शॉपिंग मॉल आदि में गैबल फैन सिस्टम और रूफ वेंटिलेटर के उपयोग की सिफारिश की गई है। इसके साथ यह भी कहा गया है कि पंखा ऐसी जगह पर लगना चाहिए जहां से किसी पास भी दूषित हवा सीधी ना पहुंच पाए। यदि किसी कमरे की खिड़कियां और दरवाजे बंद हैं, तो एग्जॉस्ट पंखे चलते रहने चाहिए। हवा का प्रवाह बना रहता है और संक्रमण का खतरा कम होता है।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned