शुभ संकेत धीमी पड़ी कोरोना की रफ्तार: देश के 200 जिलों में कम हुए रोजाना केस, पॉजिटिविटी रेट में भी घटी

कोरोना के कहर के बीच राहत की खबर मिल रही है। कई दिनों बाद देश में अब शुभ संकेत मिलने लगे हैं। देश के करीब 200 जिलों में रोजाना कोरोना वायरस के मामलों में कमी दर्ज की गई है। वहीं पॉजिटिविटी रेट में भी बड़ी गिरावट आई है।

नई दिल्ली। पूरा देश महामारी कोरोना वायरस ( Coronavirus in india ) से जूझ रहा है। कोरोना की दूसरी लहर ने देशभर में तबाही मचा रखी है। देश का ऐसा कोई भी राज्य अछूता नहीं है जो कोरोना वायरस की चपेट में नहीं आया है। कोरोना के कहर के बीच राहत की खबर मिल रही है। कई दिनों बाद देश में अब शुभ संकेत मिलने लगे हैं। देश के करीब 200 जिलों में रोजाना कोरोना वायरस के मामलों में कमी दर्ज की गई है। वहीं पॉजिटिविटी रेट में भी बड़ी गिरावट आई है। केंद्र सरकार ने बताया कि पिछले 13 हफ्तों से कोरोना के लगातार मामले बढ़ोतरी के बाद अब कमी दर्ज की गई है। देश के करीब 200 जिलों में पिछले 15 दिनों में संक्रमण की रफ्तार कम हुई है। वहीं पिछले 7 दिनों में कोविड-19 पॉजिटिव रेट में भी कमी आई है।

यह भी पढ़ें :— Patrika Positive News: स्वयंसेवी संस्थाओं ने खोला दूसरा कोविड केयर सेंटर, 24 घंटे डॉक्टर—ऑक्सीजन सहित इलाज की सभी व्यवस्थाएं

 

देश के 200 जिलों में कोरोना मामलें गिरावट
देश के कुल 200 जिलों में पिछले दो सप्ताह से कोरोना के केसों में गिरावट दर्ज की जा रही है। यूपी के 39 और मध्य प्रदेश के 33 जिलों में कोरोना वायरस के नए मामलों में कमी दर्ज की है। तेलंगाना 27 और महाराष्ट्र के 24 जिलों में भी कोरोना के मामलों में गिरावट आई है। इसके अलावा, पुणे, नागपुर, नासिक, लखनऊ, वाराणसी, सूरत, ग्वालियर और रायपुर में पिछले तीन सप्ताह से कोरोना के केस और पॉजिटिविटी रेट में कमी आई है।

यह भी पढ़ें :— चक्रवाती तूफान तौकते का कहर : समुद्र के बीच में फंसे थे 21 लोग, कोस्ट गार्ड ने इस तरह बचाई जान


पॉजिटिविटी रेट 16.9 फीसदी
कोरोना टास्क फोर्स के प्रमुख डॉ. वीके पॉल ने बताया कि देश में कोरोना के नए मामलों का ग्राफ स्थिर हो रहा है यानी महामारी कुल मिलाकर सिकुड़ती नजर आ रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, 11 मई से 17 मई के बीच में प्रतिदिन औसतन 18.45 लाख कोरोना टेस्ट हुए और इस दौरान पॉजिटिविटी रेट 16.9 फीसदी रही। मंत्रालय ने कहा कि 16-22 फरवरी के बाद यह पहला हफ्ता था, जब देश में पॉजीटिविटी रेट में गिरावट देखी गई है। ठीक इसी तरह 27 से 3 मई के बीच 18.13 लाख टेस्ट किए गए और पजिटिविटी रेट 21.3 फीसदी रही और फिर 4-10 मई के हफ्ते में रोज औसतन 18.16 लाख कोरोना टेस्ट हुए और पॉजिटिविटी रेट 21.9 फीसदी रही।


इन राज्यों की चिंताजनक स्थित
एक रिपोर्ट के अनुसार, डॉ. वीके पॉल ने बताया कि टेस्टिंग, पाबंदियां और बेहतर प्रयासों की वजह से कई राज्यों में ग्राफ स्थिर हो रहा है। लेकिन तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और ओडिशा आदि राज्यों में नए मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की है जो गहरी चिंता का विषय है। आंकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, गोवा, लक्षदीप और पुडुचेरी में पॉजिटिविटी रेट 30 फीसदी से अधिक दर्ज की गई है। वहीं, तमिलनाडु, त्रिपुरा, सिक्किम, अरुणाचल प्रदश, मणिपुर और मिजोरम ऐसे पांच राज्य हैं, जहां कोरोना के केस और पॉजिटिविटी रेट में बढ़ोतरी देखी जा रही है।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned