टूलकिट मामला: एक लाख के मुचलके पर दिशा रवि को अदालत ने दी जमानत

Highlights

  • जैकब और मुलुक सोमवार को जांच में शामिल हुए थे।
  • निकिता और शांतनु को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ हुई।

नई दिल्ली। टूलकिट एडिट करने की आरोपी पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा की कोर्ट ने एक लाख के निजी मुचलके पर जमानत दे दी है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फिलहाल उन्हें जेल जाना होगा जहां से कागजी कार्रवाई के बाद ही रिहाई हो सकेगी। पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि किसान आंदोलन के समर्थन में ‘टूलकिट गूगल डॉक्यूमेंट’ की जांच के मामले में मंगलवार को दिल्ली पुलिस के साइबर सेल के कार्यालय पहुंची। यहां पर उनसे निकिता और शांतनु को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ हुई।

कोरोना वायरस के नए वैरियंट का पता लगाएगा जीनोम सीक्‍वेंसिंग, 900 सैम्‍पल भेजे गए

दिल्ली की कोर्ट ने सोमवार को रवि को एक दिन की पुलिस हिरासत में डाला गया था। पुलिस ने कहा कि दिशा के मामले में अन्य आरोपियों निकिता जैकब और शांतनु मुलुक के साथ आमना-सामना कराना है।

जैकब और मुलुक सोमवार को जांच में शामिल हुए थे। द्वारका में दिल्ली पुलिस के साइबर प्रकोष्ठ के कार्यालय में उनसे पूछताछ की गई। पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा साझा किए गए ‘टूलकिट गूगल डॉक्यूमेंट’ की जांच के मामले में दिल्ली पुलिस ने बेंगलुरू की कार्यकर्ता दिशा रवि को गिरफ्तार किया था। वहीं जैकब और मुलुक को कोर्ट ने अग्रिम जमानत दे दी थी।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned