पहली बार भारत सरकार का कैलेंडर और डायरी डिजिटल प्रारूप में, हर महीने होगी अलग थीम

  • फिलहाल यह एप हिंदी और अंग्रेजी भाषा में ही उपलब्ध होगा। हालांकि बताया जा रहा है कि जल्द ही इस एप को 15 अन्य भाषाओं में भी उपलब्ध कराया जाएगा।
  • हर साल हम 11 लाख कैलेंडर और 90,000 डायरी छपवाते हैं।

By: Mahendra Yadav

Updated: 09 Jan 2021, 03:33 PM IST

भारत सरकार ने पहली बार सरकारी कैलेंडर और डायरी को डिजिटल रूप में पेश किया है। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने डिजिटल कैलेंडर और डायरी एप लॉन्च किया। फिलहाल यह एप हिंदी और अंग्रेजी भाषा में ही उपलब्ध होगा। हालांकि बताया जा रहा है कि जल्द ही इस एप को 15 अन्य भाषाओं में भी उपलब्ध कराया जाएगा। इस कैलेंडर और डायरी की थीम हर महीने बदली जाएगी। नेशनल मीडिया सेंटर में प्रकाश जावड़ेकर ने एक बटन दबाकर कैलेंडर और डायरी के लिए एंड्रायड और आईओएस एप की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि हर साल हम 11 लाख कैलेंडर और 90,000 डायरी छपवाते हैं लेकिन इस साल यह डिजिटल प्रारूप में है।

कैलेंडर छपाई का खर्च
2021 के लिए डिजिटल कैलेंडर और डायरी एप की लॉन्चिंग के मौके पर सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने बताया कि इससे कैलेंडर की छपाई पर आने वाले खर्च में करीब पांच करोड़ रुपए की बचत होगी। बता दें कि यह पहली बार है जब सरकारी कैलेंडर और डायरी को डिजिटल प्रारूप में जारी किया गया है। इस डिजिटल कैलेंडर और डायरी को एंड्रॉयड और आईओएस दोनों डिवासेज पर काम करेगा।

दो करोड़ की लागत
पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) के प्रमुख के एस धतवालिया ने बताया कि पिछले साल कैलेंडर और डायरी छपवाने में सात करोड़ रुपए खर्च हुए थे, लेकिन इस बार डिजिटल प्रारूप में होने के कारण मंत्रालय को करीब दो करोड़ रुपये की लागत आई। साथ ही प्रकाष जावड़ेकर ने खुशी जताते हुए कहा कि दीवारों पर लगाया जाने वाला कैलेंडर अब मोबाइल फोन में उपलब्ध होगा।

यह भी पढ़ें-Mitron TV ने लॉन्च किया आत्मनिर्भर एप्स, स्वदेशी एप्स की कराएगा पहचान

calendar_2.png

हर महीने की होगी अलग थीम
प्रकाष जावडेकर ने जानकारी देते हुए बताया कियह एप हर साल नए कैलेंडर की जरूरत पूरी करेगा। इसमें हर महीने की एक अलग थीम हागी। हर महीने एक निर्धारित होगा और उसमें संदेश दिए जाएंगे और एक महापुरुष का जिक्र होगा। साथ ही यह एप यूजर्स को सरकारी कार्यक्रमों के बारे में भी जानकारी उपलब्ध कराएगा।

यह भी पढ़ें-मोबाइल से तुरंत डिलीट करें ये 17 एप्स, चुराते हैं पर्सनल डेटा, गूगल ने किया बैन

ब्यूरो ऑफ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन ने किया डिजाइन
इस एप को सूचना और प्रसारण मंत्रालय के ‘ब्यूरो ऑफ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन’ ने डिजाइन और डेवलेप किया है। जावडेकर ने बताया कि दूसरे डिजिटल कैलेंडर एप की तुलना में इसमें ज्यादा विशेषताएं हैं और यह इस्तेमाल करने में भी आसान है। साथ ही उन्होंने बताया कि यह एप बिल्कुल फ्री है और 15 जनवरी से 11 भाषाओं में उपलब्ध होगा।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned