script72 year old woman asked for wheelchair from indigo airline, airport staff did not help | दुबई जा रही 72 वर्षीय महिला ने एयरलाइन से मांगी व्हीलचेयर, स्टाफ बोला- पैदल जाओ या छोड़ दो फ्लाइट, और फिर वृद्धा ने लगाया… | Patrika News

दुबई जा रही 72 वर्षीय महिला ने एयरलाइन से मांगी व्हीलचेयर, स्टाफ बोला- पैदल जाओ या छोड़ दो फ्लाइट, और फिर वृद्धा ने लगाया…

locationनई दिल्लीPublished: Feb 12, 2024 12:25:19 pm

Submitted by:

Akash Sharma

IndiGo Airline: डॉ. सिद्धार्थ अरोड़ा ने बताया कि जब उनकी मां दुबई पहुंची, तब उनका बीपी गिर गया था। वृद्धा के बेटे डॉ. सिद्धार्थ ने इंडिगो एयरलाइन स्‍टाफ को हार्टलेस रोबोट बताते हुए उनकी मां के स्‍वास्‍थ्‍य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है।

ndiGo Airline
ndiGo Airline

एयरपोर्ट पर तैनात एयरलाइन स्‍टाफ की मानवीय संवदेनाएं पूरी तरह से मर चुकी है। मामला चौधरी चरण सिंह अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट का है। यहां एक 72 वर्षीय वयोवृद्ध बीमार महिला ह्वीलचेयर के लिए एयरलाइन स्‍टाफ के सामने गुहार लगाती रही। वहां मौजूद किसी भी स्टाफ नहीं सुनी। आखिर में परेशान होकर वृद्धा ने अपने डॉक्‍टर बेटे को फोन लगाया। बेटे ने भी बहुत कोशिश की, लेकिन उसकी वयोवृद्ध मां की किसी ने नहीं की।
डॉ. सिद्धार्थ अरोड़ा ने बताया कि उनकी वयोवृद्ध मां 72 वर्षीय उर्मिला अरोड़ा कार्डिएक पेसमेकर सपोर्ट पर हैं। उनकी मां को इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से 9 फरवरी 2024 को दुबई के लिए रवाना होना था। उन्‍होंने अपनी मां की इस फ्लाइट के लिए वेब चेक-इन के साथ व्हीलचेयर भी बुक कराई थी। 9 फरवरी को उनकी मां समय पर लखनऊ एयरपोर्ट पहुंच गई। टर्मिनल में प्रवेश करने के साथ ही उनकी बीमार मां ने एयरलाइंस स्‍टाफ से व्हीलचेयर की मदद मांगी, लेकिन किसी ने उनकी मदद नहीं की।

एयरलाइन ने दिया ये बहाना

डॉ. सिद्धार्थ अरोड़ा का आरोप है कि इंडिगो के ग्राउंड स्‍टाफ उनकी मां की बातों को अनसुना कर दिया। बाद में अंग्रेजी में कुछ बोलने लगी। इस पर उनकी मां ने कहा कि उन्‍हें अंग्रेजी समझ में नहीं आती है। एयरलाइन ग्राउंड स्‍टाफ ने फिर भी कुछ मदद नहीं की।आखिर में परेशान होकर उनकी मां ने उन्हें फोन लगाया। उन्होंने जब एयरलाइन स्‍टाफ से बात की, तो उन्‍होंने बहाना किया कि एयरपोर्ट पर‍ सिर्फ चार व्हीलचेयर ही हैं और वह खाली नहीं हैं। इसके बाद उनकी मां ने एयरलाइन से अपनी बीमारी और उम्र का हवाला देकर मदद की गुहार लगाई। वहां पर मौजूद एयरलाइन ग्राउंड स्‍टाफ ने बोला कि आप पैदल जाइए या फिर फ्लाइट छोड़ दीज‍िए। इसके बाद उनकी मां किसी तरह अपने सामान के साथ एयरपोर्ट की प्रक्रिया पूरी कर विमान में सवार हो गईं।

AI photoदुबई पहुंचने से पहले बिगड़ी तबियत

डॉ. सिद्धार्थ अरोड़ा ने बताया कि जब एयरपोर्ट स्‍टाफ से किसी तरह की मदद नहीं मिली, तो उन्‍होंने X एकाउंट पर पोस्ट कर अपनी परेशानी जाहिर की। इस पर इंडिगो ने अपना जवाब देते हुए लिखा कि नमस्ते, आपको हुई असुविधा के लिए हमें खेद है। कृपया अपना पीएनआर हमारे साथ डायरेक्‍ट मैसेज पर साझा करें, ताकि हम जांच कर सकें और आपको सही सहायता प्रदान कर सकें। एयरपोर्ट ऑपरेटर फीडबैक का ईमेल देकर अपनी जिम्‍मेदारी से हाथ झाड़ लिया।
डॉ. सिद्धार्थ ने बताया कि X एकाउंट पर औपरिकता पूरी करते हुए मदद का आश्‍वासन तो मिला, लेकिन उनकी मां तक मदद नहीं पहुंची। जब उनकी मां दुबई पहुंची, तब उनका बीपी गिर गया था। डॉ. सिद्धार्थ अरोड़ा ने इंडिगो एयरलाइन स्‍टाफ को ‘हार्टलेस रोबोट’ बताते हुए उनकी मां के स्‍वास्‍थ्‍य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है।
ये भी पढ़ें: कौन हैं राजीव अरिक्कट्ट? UAE में जीता ₹33 करोड़ का जैकपॉट, जानें कैसे बदली किस्मत

ट्रेंडिंग वीडियो