scriptBio toilets with multilingual signage will keep city and Saryu coast clean | अयोध्या: शहर और सरयू तट को स्वच्छ रखेंगे बहुभाषी साइनेज वाले बायो टॉयलेट्स | Patrika News

अयोध्या: शहर और सरयू तट को स्वच्छ रखेंगे बहुभाषी साइनेज वाले बायो टॉयलेट्स

locationअयोध्याPublished: Jan 15, 2024 08:48:10 pm

Submitted by:

anurag mishra

अयोध्या नगर निगम की ओर से सरयू के घाटों पर बड़ी संख्या में बायो टॉयलेट्स स्थापित किए गए हैं।

bio_toilet.jpg
अनुराग मिश्रा। अयोध्या: अयोध्या में लोगों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पावन भूमि और पवित्र सरयू की साफ़ सफ़ाई एक चुनौती बन गई थी। इससे निपटने के लिए यूपी सरकार ने अफ़सरों को फ़ौरन कदम उठाने के लिए कहा। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए कई कदम उठाए और इसी सिलसिले में सरयू नदी के घाटों पर बायो टॉयलेट्स स्थापित किए गए हैं। इनके माध्यम से न सिर्फ पर्व पर स्नान करने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को सुविधा प्रदान की जा रही है, बल्कि स्वच्छ अयोध्या के संकल्प को भी अमली जामा पहनाया जा रहा है। ये सभी बायो टॉयलेट्स अयोध्या नगर निगम द्वारा स्थापित किए गए हैं।
धार्मिक पर्यटन और स्वच्छता को दिया जा रहा बढ़ावा
अयोध्या के नगर आयुक्त एवं अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विशाल सिंह ने कहा कि अयोध्या में बड़े पैमाने पर विकास हो रहा है। धार्मिक पर्यटन और स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए सरयू घाटों के किनारे बायो टॉयलेट्स स्थापित कर रहे हैं। अयोध्या नगर निगम की इस पहल का उद्देश्य स्नान और पर्यटन के लिए प्रमुख घाटों पर आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा में सुधार करना है।

ये बायो टॉयलेट सिर्फ सुविधाओं से कहीं अधिक हैं। ये अयोध्या को धार्मिक पर्यटन और पर्यावरणीय स्थिरता के लिए एक मॉडल शहर बनाने की एक बड़ी योजना का हिस्सा हैं। सुविधाओं में 24/7 टोल-फ्री हेल्पलाइन, मुफ्त सार्वजनिक पहुंच, स्वच्छता और संचालन का रखरखाव शामिल है।
बहुभाषी साइनेज वाले शौचालय
उपयोगकर्ता के अनुभव पर भी ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। इसके लिए महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए बहुभाषी साइनेज और शौचालय, सभी के लिए पहुंच और सुविधा सुनिश्चित की गई है। इसके अलावा पर्यावरणीय दिशानिर्देशों का पालन करते हुए, ये बायो टॉयलेट्स ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016, एनजीटी दिशानिर्देशों और स्वच्छ भारत मिशन एसबीएम 2.0 निर्देशों के अनुरूप बनाए गए हैं। अयोध्या को स्वच्छता, स्थिरता और आध्यात्मिक महत्व का प्रतीक बनाने की दिशा में इस यात्रा में लोगों का सहयोग माना जा रहा है।

ट्रेंडिंग वीडियो