scriptChirag Paswan wrote a letter to PM Modi regarding Ram temple | राम मंदिर को लेकर चिराग ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, भावुक होकर कही ये बात | Patrika News

राम मंदिर को लेकर चिराग ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, भावुक होकर कही ये बात

locationनई दिल्लीPublished: Jan 22, 2024 12:33:54 pm

Submitted by:

Shaitan Prajapat

लोजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर श्री राम मंदिर में प्रभु श्री राम की विग्रह मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होने को लेकर धन्यवाद दिया है। उन्होंने यह भी लिखा है कि आज मेरे पिता रामविलास पासवान जी जीवित होते तो यकीनन वे भी इस ऐतिहासिक क्षण के साक्षी होते।

chirag_paswan567.jpg

अयोध्‍या में रामलला की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्‍ठा को लेकर देशभर में दिवाली की तरह जश्‍न मनाया जा रहा है। इसी बीच लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा हैं। चिराग ने लेटर में अपनी भावना व्यक्त कर इस विशेष अवसर पर उन्होंने पीएम मोदी को लिखकर जमुई और बिहार की जनता की ओर से बधाई दी है। चिराग पासवान ने भावुक होते हुए लिखा कि मुझे इस ऐतिहासिक पल का साक्षी होने का सौभाग्य मिला है। उन्होंने यह भी लिखा है कि आज मेरे पिता रामविलास पासवान जी जीवित होते तो यकीनन वे भी इस ऐतिहासिक क्षण के साक्षी होते। पापा आज जहां कहीं भी होंगे बहुत खुश होंगे। आज आपकी वजह से करोड़ों राम भक्तों का सपना पूरा हुआ है।

आपकी वजह से करोड़ों रामभक्तों का सपना पूरा हुआ

लोजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग ने कहा है कि आपकी वजह से करोड़ों रामभक्तों का सपना पूरा हुआ। बिहार के जमुई के सांसद चिराग ने पीएम को लिखे पत्र में कहा कि हम सभी 140 करोड़ देशवासियों के लिए अत्यंत हर्ष की बात है कि आपके नेतृत्व में रिकॉर्ड समय के अंदर अयोध्या धाम के भव्य राम मंदिर में प्रभु श्री रामलला की विग्रह मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है।

500 वर्षों से हमारे पूर्वज करते आ रहे थे परिकल्पना

चिराग ने पत्र में कहा गया है कि आज का दिन हम सभी भारतवासियों के लिए स्वर्णिम दिन है जिसकी परिकल्पना लगभग 500 वर्षों से हमारे पूर्वज करते आ रहे थे, आज वो सार्थक हो पाया है। राम मंदिर का निर्माण हिंदुओं की आस्था से जुड़ा एक महत्त्वपूर्ण विषय है। यह आपके साहसिक प्रयासों का परिणाम है। देश की न्यायिक प्रक्रिया के ऐतिहासिक निर्णय से ही राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण संभव हो पाया है।

ट्रेंडिंग वीडियो