scriptCouple could not establish emotional bond with adopted child in five months adoption cancelled | गोद लिए बच्चे से पांच महीने में नहीं हो पाया दंपती का भावनात्मक जुड़ाव, अडॉप्शन रद्द | Patrika News

गोद लिए बच्चे से पांच महीने में नहीं हो पाया दंपती का भावनात्मक जुड़ाव, अडॉप्शन रद्द

locationनई दिल्लीPublished: Feb 05, 2024 10:39:57 am

Submitted by:

Prashant Tiwari


Bombay high court: डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन यूनिट ने की असमर्थता की पड़ताल गोद लिए बच्चे से पांच महीने में नहीं हो पाया दंपती का भावनात्मक जुड़ाव।

 Couple could not establish emotional bond with adopted child in five months adoption cancelled

बॉम्बे हाईकोर्ट ने चार साल के बच्चे के हित में उसका अडॉप्शन रद्द कर दिया। अगस्त 2023 में बाल आशा ट्रस्ट के माध्यम से याचिका दायर कर एक दंपती ने बच्चे को गोद लिया था। अडॉप्शन के पांच महीने बाद दंपती ने ट्रस्ट से बच्चे के अनियंत्रित व्यवहार और आदतों की शिकायत की। उन्होंने कहा कि उनका बच्चे से भावनात्मक लगाव नहीं हो पाया है, इसलिए बच्चे को वापस करना चाहते हैं।

दंपती की पहले से एक बेटी है। ट्रस्ट ने दंपती को बच्चे के व्यवहार को समझने के लिए काउंसलिंग का सुझाव दिया, ताकि बच्चे के बर्ताव में सुधार के लिए जरूरी कदम उठाए जा सकें। डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन यूनिट ने दंपती के बच्चे को साथ न रख पाने की असमर्थता के पहलू की पड़ताल की। काउंसलिंग में बच्चे के अधिक खाने के व्यवहार का खुलासा हुआ। दंपती ने बच्चे के कूड़ेदान से खाना उठाने की बात भी बताई। बच्चे के ब्लड टेस्ट में पता चला कि वह लेप्टिन और डायबिटीज की बॉर्डर लाइन पर है। डॉक्टरों के मुताबिक बच्चा मोटापे और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से पीडि़त हो सकता है।

bombay_hc_j.jpg

 

पुलिस को मिला था

काउंसलिंग के दौरान पता चला कि दंपती का बच्चे से कोई भावनात्मक लगाव नहीं है, लेकिन बच्चे का उनसे जुड़ाव है। दपंती के हलफनामे के साथ ट्रस्ट ने अडॉप्शन रद्द करने की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। अडॉप्शन में दिया गया बच्चा पुलिस को मिला था। उसे बाल आशा ट्रस्ट को सौंप दिया गया था।

दोबारा अडॉप्शन के लिए होगा पंजीकृत

हाईकोर्ट के जस्टिस रियाज छागला ने सभी रिपोर्ट और हलफनामे पर गौर करने के बाद अडॉप्शन के 17 अगस्त, 2023 के आदेश को रद्द कर दिया। साथ ही अडॉप्शन एजेंसी को बच्चे को दोबारा अडॉप्शन के लिए पंजीकृत करने का निर्देश दिया।

ट्रेंडिंग वीडियो