scriptबांदकपुर कॉरिडोर के लिए १०० करोड़ की बनाई गई है कार्ययोजना, जल्द होगा काम शुरू | An action plan of Rs 100 crore has been made for Bandakpur Corridor, work will start soon- Marathon meeting held in Collectorate regarding vision document-MLAs and ministers of four assembly constituencies of the district participated.- Will send the report of vision document to the government by July 15 Damoh. A marathon meeting was organized in the Collectorate on Thursday regarding development in four assembly constituencies of the district Jabera, Damoh, Patharia and Hata. Tourism Minister Dharmendra Singh Lodhi, Animal Husbandry Minister Lakhan Patel, Damoh MLA Jayant Malaiya and Hata MLA Umadevi Khatik were mainly present in this meeting. The meeting was chaired by Collector Sudhir Kumar Kochar. SP Shritkirti Somvanshi and other officials were present in the meeting. Let us tell you that Mohan Sarkar has given instructions to make a road map of every assembly. For this, every MLA has been given the responsibility to make a road map of his area and incorporate it with the government. In this connection, during the meeting, public representatives sought suggestions regarding development assembly wise from the people present. The meeting started at 11 am. - The project of Vyarma river has been prepared: Minister Patel. State Minister Patel said that there are many suggestions regarding irrigation and suggestions have come on other points too. They have been discussed with the officials. Work will be done to add them to the document. He said that there is a soil testing building in every development block, where unemployed youth will get some work. He said that the project of Vyarma river has been prepared. About 2 lakh hectares will be irrigated by it. If we add it, then our entire district which is left, because we are getting some water from Ken Betwa and in our five projects, about 175000 acres will also be irrigated by it. - A project of 100 crores has been made: Minister Lodhi. Tourism Minister Dharmendra Singh said that Damoh is a very rich district in the field of tourism and culture. For this, we are starting with the Bandakpur corridor. A project of 100 crores has been made for the corridor. Work will start on it soon. We will prepare a vision document and send it through the collector and work will be done on that vision document by preparing a plan in the cabinet through the cabinet. Today, a discussion was held on the vision document with all the departments and all the intellectuals of the district were also called, in which they gave their opinion. - There is a plan to connect 5 rivers: Dr. Kusmaria, Chairman of the Backward Class Commission, Dr. Ramakrishna Kusmaria said that 5 rivers Bebas, Sunar, Kopra and Vyarma originate from the district. If these five rivers are connected, then there will never be a shortage of water in Damoh district. He said that the dream project should be completed, there was a discussion with the Chief Minister. He said that 10 ponds have been built very well in Kumhari area. Canals should be made for irrigation so that water can reach the fields. He said that the work of improving the equipment of the disabled was done a long time ago. - Document has to be prepared by July 15 Former Finance Minister and Damoh MLA Jayant Kumar Malaiya said that people from different sections were called in every assembly of Damoh district to prepare a vision document. Everyone expressed their views about each department. Everyone has been invited by the collector and after this, it has been said to prepare the vision document by July 15. | Patrika News
समाचार

बांदकपुर कॉरिडोर के लिए १०० करोड़ की बनाई गई है कार्ययोजना, जल्द होगा काम शुरू

-विजन डॉक्यूमेंट को लेकर कलेक्ट्रेट में हुई मैराथन बैठक
-जिले की चार विधानसभा क्षेत्रों के विधायक-मंत्री हुए शामिल।
-१५ जुलाई तक शासन को भेजेंगे विजन डॉक्यूमेंट की रिपोर्ट

दमोहJun 27, 2024 / 07:31 pm

आकाश तिवारी

-विजन डॉक्यूमेंट को लेकर कलेक्ट्रेट में हुई मैराथन बैठक
-जिले की चार विधानसभा क्षेत्रों के विधायक-मंत्री हुए शामिल।
-१५ जुलाई तक शासन को भेजेंगे विजन डॉक्यूमेंट की रिपोर्ट
दमोह. जिले की चार विधानसभा जबेरा, दमोह, पथरिया और हटा में विकास के संबंध में गुरुवार को कलेक्ट्रेट में एक मैराथन बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में पर्यटन मंत्री धर्मेंद्र सिंह लोधी, पशुपालन मंत्री लखन पटेल, दमोह विधायक जयंत मलैया और हटा विधायक उमादेवी खटीक मुख्य रूप से मौजूद थी। बैठक की अध्यक्षता कलेक्टर सुधीर कुमार कोचर ने की। बैठक में एसपी श्रृतकीर्ति सोमवंशी सहित अधिकारी मौजूद थे।
बता दें कि मोहन सरकार ने हर विधानसभा का रोड मेप बनाने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए हर विधायक को जिम्मेदारी दी गई है कि अपने यहां का रोड मेप बनाकर लाए और शासन के साथ इसको समाहित करें। इसी कड़ी में बैठक के दौरान जनप्रतिनिधियों ने मौजूद लोगों से विधानसभा वार विकास संबंधी सुझाव मांगे। बैठक सुबह ११ बजे शुरू हुई थी।
-व्यारमा नदी का प्रोजेक्ट तैयार हो चुका है: मंत्री पटेल
राज्य मंत्री पटेल ने कहा सिंचाई के संबंध में बहुत सारे सुझाव है और भी बिंदुओं पर सुझाव आए हैं। उन पर अधिकारियों से बात की गई है। उसको डॉक्यूमेंट में जोडऩे का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा हर विकासखंड में मिट्टी परीक्षण की बिल्डिंग बनी हुई है, जिन बेरोजगार युवाओं को कोई काम मिलेगा। उन्होंने कहा व्यारमा नदी का प्रोजेक्ट तैयार हो चुका है। लगभग उसमें 2 लाख हेक्टेयर की सिंचाई होगी। उसको जोड़ देंगे तो हमारा पूरा जिला जो बचा हुआ है, क्योंकि हमें कुछ पानी केन बेतवा से मिल रहा है और हमारी जो पांच परियोजनाएं हैं उनमें भी लगभग 175000 एकड़ की सिंचाई उससे भी होगी।
-१०० करोड़ की परियोजना बनाई है: मंत्री लोधी
पर्यटन मंत्री धर्मेन्द्र सिंह ने कहा दमोह पर्यटन और संस्कृति के क्षेत्र में बहुत समृद्ध शाली जिला है। इसके लिए बांदकपुर कॉरिडोर से शुरू कर रहे हैं। 100 करोड़ की परियोजना कॉरिडोर के लिए बनाई गई है। उस पर जल्दी ही काम शुरू होगा। विजन डॉक्यूमेंट बनाकर हम यहां से कलेक्टर के माध्यम से भेजेंगे और उस विजन डॉक्यूमेंट को लेकर मंत्रिमंडल के माध्यम से कैबिनेट में योजना बनाकर उस विजन डॉक्यूमेंट पर काम किया जाएगा। सारे विभागों को लेकर आज विजन डॉक्यूमेंट को लेकर चर्चा हुई और जिले के सभी बुद्धिजीवियों को भी बुलाया गया, जिसमें उन्होंने अपनी-अपनी राय दी है।
-५ नदियों को जोडऩे का है प्लान: डॉ. कुसमरिया
पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया ने कहा जिले में 5 नदिया बेबस, सुनार, कोपरा और व्यारमा जिले से निकली हैं। यदि इन पांचो नदियों को जोड़ दिया जाता है तो दमोह जिले में कभी पानी की कमी नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा किया जाए, मुख्यमंत्री जी से चर्चा हुई थी। उन्होंने कहा कुम्हारी क्षेत्र में 10 तालाब बहुत अच्छे बने है। सिंचाई के लिए नहरे बनाए ताकि खेतों में पानी जा सके। उन्होंने कहा दिव्यांगो के उपकरणों के सुधार का काम बहुत पहले किया गया था।
-१५ जुलाई तक बनाना है डॉक्यूमेंट
पूर्व वित्त मंत्री एवं दमोह विधायक जयंत कुमार मलैया ने कहा दमोह जिले के हर विधानसभा में एक-एक विजन डॉक्यूमेंट तैयार करने के लिए अलग-अलग वर्गों के लोगों को बुलाया गया। सभी ने हर विभाग के बारे में जो उनके विचार थे। उन विचारों को व्यक्त किया। सभी को कलेक्टर ने आमंत्रित किया है और इसके बाद 15 जुलाई तक विजन डॉक्युमेंट बनाने की बात कही गई है।
बैठक में जो सुझाव है, उसमें प्रमुख इस प्रकार से हैं
-दमोह को पर्यटन के नक्शे में लाया जाए।
-सिंगल क्लिक पर सारी जानकारी वेबसाइट पर मिल जाए।
-बकायन में आयोजित होने वाले महोत्सव को संस्कृत विभाग के कैलेंडर में शामिल किए जाने की बात रखी गई।
-जबलपुर, दमोह, ओरछा मार्ग का निर्माण कार्य अभी तक शुरू नहीं किया गया है। शीघ्र शुरू कराया जाए, जो भी बाधा है दूर कराई जाए।
-धार्मिक स्थल कुंडलपुर, बांदकपुर, नोहलेश्वर आदि के लिये सड़क उच्चस्तरीय बनवाई जाए, जिसमें सभी तरह के वाहनों का आवागमन सुगम रहे।
-जिले को एयर कनेक्टिविटी से जोड़े जाने की बात प्रमुखता से रखी गई। इस अवसर पर कहा गया कि दमोह जिले के तीर्थ क्षेत्र को हवाई कनेक्टिविटी से जोड़ा जाए। साथ ही दमोह को जबलपुर से पुणे की फ्लाइट शुरू कराई जाए।
-नोहटा में बिजली पोल बनाने की फैक्ट्री को पुन: शुरू करने की बात रखी गई।
-जिले में सांची पार्लर अधिक संख्या में खोले जाएं, ताकि युवाओं को रोजगार मिल सके।
इन बिंदुओं पर हुई चर्चा

-बैठक के दौरान एक जिला एक उत्पाद की चर्चा की गई। कहा गया कि यहां की जो चना दाल है, एक जिला एक उत्पाद में शामिल है। अच्छी क्वालिटी की है। इसकी बिहार यूपी आदि में अच्छी डिमांड भी है।
-स्कूली शिक्षा तकनीकी, शिक्षा उच्च शिक्षा और मेडिकल शिक्षा पर भी चर्चा की गई। दमोह में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के संबंध में चर्चा कर सुझाव दिए गए कि स्वास्थ्य सुविधाओं में विशेष रूप से हृदय रोग विशेषज्ञ और न्यूरो के डीएम डॉक्टर की पदस्थापना यहां पर कराई जाए। साथ ही एमआरआई की स्थापना पर जोर दिया गया।
-पॉलिटेक्निक कॉलेज दमोह को पॉलिटेक्निक कॉलेज ही रखा जाए। इंजीनियरिंग कॉलेज नई जगह पर बनाया जाए। दमोह में लॉ कोर्स शुरू करने के बाद भी रखी गई।

किसान कल्याण व कृषि विकास के मछली पालन के संबंध में भी अपनी बात रखी गई। मछली पालन और कृषि सिंचाई के बारे में विचार रखे गए। यहां पर नहर का सुधार के साथ बलराम तालाब योजना को पुन: शुरू करने की बात रखी गई।
जटाशंकर, भीमकुंड, बांदकपुर, कुंडलपुर, सिंग्रामपुर को लिंक मार्ग विकसित करने और चोरैया गुफा, बंशीपुर का विकास, बरी कनोरा को अतिक्रमण मुक्त करने आदि विषयों पर भी सुझाव रखे गए।

Hindi News/ News Bulletin / बांदकपुर कॉरिडोर के लिए १०० करोड़ की बनाई गई है कार्ययोजना, जल्द होगा काम शुरू

ट्रेंडिंग वीडियो