प. बंगाल पंचायत चुनाव: मेनिफेस्टो पर बांग्लादेश की हिंसा की तस्वीर पर फंसी भाजपा, अब दी ऐसी सफाई

भाजपा ने बंगाल पंचायत चुनाव के लिए अपने मेनिफेस्टो जारी कर दी है लेकिन इसके साथ भाजपा को शर्मिंदगी भी झेलनी पड़ रही है।

By: Anil Kumar

Published: 25 Apr 2018, 07:36 PM IST

नई दिल्ली । जैसे-जैसे पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव का तारीख नजदीक आते जा रहा है वैसे-वैसे राज्य में सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। भाजपा ने पंचायत चुनाव के लिए अपने मेनिफेस्टो जारी कर दी है लेकिन इसके साथ भाजपा को शर्मिंदगी भी झेलनी पड़ रही है। दरअसल भाजपा ने मेनिफेस्टो जारी करते हुए एक बड़ी चुक कर दी है। भाजपा ने अपने मेनिफेस्टों में हिंसा की कुछ तस्वीरों के जरिए बंगाल की ममता सरकार को घेरने की कोशिश की लेकिन स्वयं ही अपने जाल में फंस गई। हिंसा की जिस तस्वीरों को बंगाल से जोड़कर बताया गया असल में वह तस्वीर बांग्लादेश की निकली। बता दें कि भाजपा ने मंगलवार को मेनिफेस्टो जारी किया था।

बांग्लादेश में हुई हिंसा की तस्वीरों से बनाया कॉलार्ज

गौरतलब है कि भाजपा ने अपने मेनिफेस्टो के बुकलेट के कवर के पिछले हिस्से में हिंसा की तस्वीरों का कोलार्ज के रूप में प्रकाशित किया था। ये तस्वीरें भाजपा ने सत्तारूढ़ दल टीएमसी को घेरने के लिए लगाई थी, लेकिन ये तस्वीरें बांग्लादेश में 2013 में युद्ध अपराधों से जुड़े मुकदमों के बाद भड़की हिंसा के दौरान की निकली। आपको बता दें कि भाजपा हमेशा से ममता सरकार पर पश्चिम बंगाल में हिन्दुओं के साथ अत्याचार करने का आरोप लगाती रही है। इसी सिलसिले में ये तस्वीरें मेनिफेस्टो के माध्यम से जारी की गई थी। बता दें कि इस तस्वीर में कुछ प्रदर्शनकारी मुस्लिम टोपी पहने और हाथ में लाठियां लिए हुए दिखाए गए हैं। साथ हीं तस्वीर में कुछ वाहन जलते नजर आ रहे हैं। कोलार्ज में लगे कुछ अन्य तस्वीरों में हिन्दू देवी-देवताओं की क्षतिग्रस्त मूर्तियों को भी दिखाया गया है। अब ऐसा कहा जा रहा है कि भाजपा की ओर से मेनिफेस्टो में प्रयोग की गई तस्वीरें बांग्लादेश के नसीरनगर में अक्टूबर 2016 में हुई हिंसा के दौरान की है।

प. बंगाल पंचायत चुनाव : हिंसा के बीच वाट्सएप के माध्यम से 9 उम्मीदवारों ने भरा नामांकन

मंगलवार को भाजपा ने जारी किया था मेनिफेस्टो

आपको बता दें कि मंगलवार को बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष और टीएमसी छोड़कर भाजपा में आए वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय ने मेनिफेस्टो जारी किया था। इस दौरान मीडिया ने जब इन मेनिफेस्टो में लगे तस्वीरों के बारे में पूछा तो दिलीप घोष ने बचाव करते हुए कहा कि यह तस्वीरें आज के बंगाल के हाल को दिखाने के लिए प्रयोग किया गया है।आपतको बता दें कि भाजपा की ओर से इस तरह का कोई पहला मामला नहीं है। भाजपा ने कई फर्जी और मुद्दों से असंबंधित तस्वीरों को बंगाल से जोड़कर जारी किया है। पिछले वर्ष भाजपा के प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने बसीरहाट हिंसा को बंगाल से जोड़ते हुए एक तस्वीर ट्वीट की जो कि वास्तव में गुजरात हिंसा की थी। इसके अलावे नूपुर शर्मा पर कोलकाता पुलिस फर्जी खबर फैलाने के मामले में केस भी दर्ज कर चुकी है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned