scriptShri Ram-mata sita marriage celebration at janakpur wth ayodhya people | विवाह से पहले सीता ने क्यों कह दिया था अब आ गए 'तपस्या के दिन' | Patrika News

विवाह से पहले सीता ने क्यों कह दिया था अब आ गए 'तपस्या के दिन'

परंपरा- धर्म से विमुख हो चुके समय में भी जनकपुर के ग्रामीण रामजी से निभाते हैं यह नाता
- धर्म की स्थापना के लिए अयोध्या में अवतरित हुए परमेश्वर जब बने जनकपुर के पाहुन
- जनकपुर से अयोध्या तक छा गई थी खुशी, ऐसा था राजा जनक और दशरथ के बीच का संवाद...।

भोपाल

Published: September 23, 2022 04:17:55 pm

अपनी प्राणों से प्रिय पुत्री के सुयोग्य वर के लिए प्रतीक्षा करती माता सुनयना धनुष भंग होते ही विह्वल हो गईं। जिस सुदर्शन युवक को देखते ही पूरा जनकपुर पगला गया था, राजपथ पर चलते समय नगरवासियों के बच्चे जिसे छू भर लेने को लालायित हो रहे थे, पिछले तीन दिनों से जिसकी चर्चा से राजमहल का कोना कोना गूंज रहा था, वह अब सहज ही उन्हें बेटे के रूप में मिल गया था। माँ ने टूट कर देखा बेटी हो ओर! उनका का रोम रोम कह रहा था, सारा ऋण उतार दिया बेटी! तेरे कारण जनम जनम की प्यास बुझ गयी...

parampara_01.jpg

राजा जनक की आंखों से लगातार अश्रु बह रहे थे। जगत नियंता अब उनके दामाद थे। पुरुष सामान्यतः अपने कंधे से विद्वता की चादर नहीं उतारता, पर जनक के ऊपर से हर आवरण हट गया था। विद्वता के तीर्थ जनकपुर के राजा जनक इस समय पिता थे, केवल पिता...

वे उठे और जा कर राजर्षि विश्वामित्र के चरणों में झुक गए। राजर्षि ने आशीष दे कर कहा," शिव धनुष का निर्माण जिस हेतु हुआ था, वह पूर्ण हुआ। यह उत्सव का दिन है राजन! युग को अपना नायक मिल गया। उत्सव की घोषणा हो और अयोध्या में सन्देश भेजा जाय।"

"किन्तु एक परीक्षा अब भी शेष है गुरुदेव!" राजा जनक के मुख पर रहस्यमय मुस्कान थी।
"उसमें हमारी तुम्हारी कोई भूमिका नहीं राजन! वह राम का काज है, वे ही करें... तुम अपनी करो।" विश्वामित्र के मुख पर सन्तोष था।

राजा ने आज्ञा दी- वर्ष भर के लिए प्रजा को कर मुक्त किया जाय! हर विपन्न परिवार को वर्ष भर की आवश्यकता बराबर अन्न-धन दिया जाय। छोटे अपराधों में पकड़े गए बंदियों को मुक्त कर दिया जाय। नगर में उत्सव की घोषणा हो।

जनकपुर झूम उठा! धर्म की स्थापना के लिए अयोध्या में अवतरित हुए परमेश्वर अब जनकपुर के पाहुन थे, और जनकपुर को यह सौभाग्य दिलाया था सिया ने... भावविह्वल नगरजन ने प्रतिज्ञा ली- हम और हमारी सन्तति सृष्टि के अंत तक यह नाता निबाहेंगे। जगतजननी हमारी हर पीढ़ी के लिए बेटी ही रहेंगी और रामजी पाहुन! यह नाता कभी न टूटेगा... असंख्य युग बीत गए। कलियुग के प्रभाव में धर्म से विमुख हो चुके समय में भी जनकपुर के ग्रामीण यह नाता निभाते हैं।

राजा काम में लगे। अयोध्या में सन्देश भेजा गया, पुत्र की वीरता की कहानियां सुन सुन कर तृप्त हुए राजा दशरथ ने बारात सजाई, और राम विवाह की साक्षी होने निकली समूची अयोध्या एक दिन जनकपुर के पास कमला नदी के तट पर टिक गई।
बारात की अगवानी को नगर के बाहर आये महाराज जनक को गले लगा कर राजा दशरथ ने पूछा- आपकी कितनी पुत्रियां हैं मित्र?
गदगद जनक ने कहा, "कुल चार हैं समधी जी! दो मेरी, और दो मेरे अनुज की!"
- एक निवेदन करूँ मित्र?
- आदेश करिए महाराज!
- मेरे भी चार पुत्र हैं मित्र! अब बुढ़ापे में कहाँ उनके योग्य कन्याएं ढूंढता फिरूँगा। एक का चयन आपने किया है, तीन के लिए यह गरीब हाथ पसार रहा है। लगे हाथ हम दोनों मुक्त हो जाते..."

जनक ने तृप्त हो कर कहा," मेरा सौभाग्य है महाराज! चारों राजकुमार अब से मेरे पुत्र हुए और चारों राजकुमारियां आपकी पुत्रियां हुईं। पूरा जनकपुर आपका है महाराज, आप इस निर्धन राज्य में प्रवेश करें..."
बारात नगर में आयी। अयोध्या और जनकपुर के नगरवासी एक दूसरे में घुल मिल गए। उधर अंतः पुर में सन्देश गया, विवाह चारों कन्याओं का होना है। सिया के राम होंगे और उर्मिला के लक्ष्मण। माण्डवी के भरत और श्रुतिकीर्ति के शत्रुघ्न।
अपने कक्ष में बहनों के साथ बैठी सिया ने कहा, "अब अपने खिलौने छोटी बच्चियों को दे दो बहनों! हमारे खेल के दिन समाप्त हुए, अब कठिन तपस्या के दिन आ चुके हैं।"
सिया क्या कह रही थीं, यह तीनों में कोई न समझ सका! उर्मिला की आँखों में वह सुन्दर गौरवर्णी युवक बसा हुआ था, और अधरों पर मुस्कान...


क्रमशः

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

सच बोलने की सजा भुगतनी पड़ी... बिहार के कृषि मंत्री के इस्तीफे पर BJP ने नीतीश पर किया हमलाअमित शाह के जम्मू दौरे से पहले पुलवामा में आतंकी हमला, पुलिस का एक जवान शहीद, CRPF जवान जख्मीIAF की ताकत में होगा इजाफा, कल सेना में शामिल होगा स्वदेशी हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर, जानें इसकी खासियतIND vs SA 2nd T20: 2 गेंदबाज जो साउथ अफ्रीका को हराने में टीम इंडिया की मदद करेंगेबिहार के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने दिया इस्तीफा, डिप्टी सीएम को सौंपा पत्रहिमाचल पहुंचे जेपी नड्डा, BJP जिला कार्यालय का लोकार्पण करने के बाद पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ की बैठकपंजाबः लॉरेंस बिश्नोई का करीबी गैंगस्टर टीनू हिरासत से चौथी बार फरार, मूसेवाला मर्डर केस में होनी थी पूछताछकांग्रेस के तीन बड़े प्रवक्ताओं ने दिया इस्तीफा, मल्लिकार्जुन खड़गे को अध्यक्ष बनाने के लिए करेंगे प्रचार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.