श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 90 वर्षीय महिला ने पेंशन के 22 हजार दिए दान

- 31 जनवरी को 30 हजार टोलियां निकलेंगी सहयोग मांगने के लिए
- अधिकतम 51 लाख रुपए मिले, 1 लाख से अधिक देने वाले कई
- रायपुर के कचना की रहने वाली हैं सेवानिवृत्त शिक्षिका

By: Ashish Gupta

Published: 30 Jan 2021, 03:52 PM IST

रायपुर. अयोध्या में बन रहे ऐतिहासिक श्रीराम मंदिर निर्माण (Ram Mandir Nirman) के लिए लोग बड़ी संख्या में समर्पण निधि देने सामने आ रहे हैं। इनमें से ही एक हैं रायपुर कचना निवासी 90 वर्षीय माला नीले। सेवानिवृत्त शासकीय शिक्षिका माला ने अपनी एक माह की पूरी पेंशन मंदिर निर्माण के लिए स्वेच्छा से दान की। उन्होंने स्वयं से श्रीराम मंदिर निर्माण निधि समर्पण अभियान समिति के पदाधिकारियों से संपर्क किया। पदाधिकारी उनके घर पहुंचे और राशि प्राप्त की। माला, श्रीराम की अनन्य भक्त हैं। अब तक जितने भी लोगों से समर्पण निधि मिली है, उनमें सबसे उम्रदराज माला ही हैं।

अब कक्षा 1 से आठवीं तक एक भी छात्र नहीं होंगे फेल, 9वीं-11वीं के लिए जारी हुआ ये नया नियम

छत्तीसगढ़ में निधि समर्पण अभियान को छत्तीसगढ़ से बड़े पैमाने पर समर्थन मिल रहा है। 'पत्रिका' से बातचीत में छत्तीसगढ़ में अभियान प्रमुख धनश्याम चौधरी ने बताया कि 31 जनवरी को होने वाले महाअभियान के लिए पूरे प्रदेश के लिए 30 हजार टोलियों का गठन किया गया है, एक टोली में 5 सदस्य हैं। ये कूपन लेकर 30 लाख घरों तक पहुंचेंगे। स्वेच्छा से सहयोग मांगेंगे। चौधरी बताते हैं कि अयोध्या से छत्तीसगढ़ के लिए 36 लाख कूपन मिले हैं, जो हर जिलों में भेज दिए गए हैं। पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज के हमारे भाइयों ने भी समर्पण निधि देने के लिए संपर्क किया है।

छत्तीसगढ़ से अब तक 5 करोड़ रुपए का निधि समर्पण
प्रांत निधि प्रमुख एवं सीए धवल शाह का कहना 28 जनवरी तक करीब 5 करोड़ रुपए श्रीराम जन्मभूमि निर्माण क्षेत्र के लिए छत्तीसगढ़ से समर्पित हो चुके हैं। 16 जनवरी से शुरू हुए इस अभियान के तहत अभी बड़े-बड़े लोगों, संस्थानों, उच्च पदों पर पदस्थ लोगों से समितियां मुलाकात कर रही हैं। हर रोज एक-एक रुपए का हिसाब रखा जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव बोले- जब तक कोवैक्सीन का तीसरा ट्रायल पूरा नहीं हो जाता, हम इसे नहीं लगाएंगे

10 और 100 वाली रसीद नहीं कट रहीं
सम्र्पण राशि जुटाने के लिए 10, 100 और 1000 रुपए की रसीदें छपवाई गई हैं। मगर, अभी 10 और 100 रुपए की रसीदों का इस्तेमाल नहीं हो रहा है। सिर्फ 1000 रुपए की रसीद काटी जा रही हैं। 10 और 100 रुपए की रसीद 31 जनवरी को आयोजित महाअभियान के दिन कटेगी।

इस पर लगाया जा सकता है अनुमान
10 रुपए की रसीद- अगर 30 लाख घरों से अगर 10-10 रुपए ही समर्पण राशि मिलती है, 3 करोड़ रुपए जुटेंगे।
100 रुपए की रसीद- 100 रुपए अगर सहयोग राशि मिलती है तो 30 करोड़ रुपए राशि जमा होंगे। मगर, इनमें से कई 1000 रुपए, 1 लाख रुपए या उससे अधिक भी सहयोग देंगे, दे रहे हैं।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned