scriptNurses in Strike: Strike nurses will not get MSc permission | Nurses in Strike: नहीं मिलेगी हड़ताल करने वाली नर्सों को MSc की अनुमति, जानिए पूरा मामला... | Patrika News

Nurses in Strike: नहीं मिलेगी हड़ताल करने वाली नर्सों को MSc की अनुमति, जानिए पूरा मामला...

locationरायपुरPublished: Nov 26, 2023 02:37:56 pm

Nurses in Strike: स्वास्थ्य विभाग ने हड़ताल में रहने वाली नर्सों को उच्च शिक्षा के एनओसी देने से इनकार कर दिया है।

Nurses in Strike: नहीं मिलेगी हड़ताल करने वाली नर्सों को एमएससी की अनुमति, जानिए पूरा मामला...
Nurses in Strike: नहीं मिलेगी हड़ताल करने वाली नर्सों को एमएससी की अनुमति, जानिए पूरा मामला...
रायपुर। Nurses in Strike: स्वास्थ्य विभाग ने हड़ताल में रहने वाली नर्सों को उच्च शिक्षा के एनओसी देने से इनकार कर दिया है। इससे नर्सें सकते में आ गई हैं। स्वास्थ्य विभाग के डायरेक्टर ने कहा है कि उनकी हड़ताल के कारण आवश्यक सेवाएं बाधित हुईं। प्रदेश में विधानसभा चुनाव हुए हैं। आने वाले दिनों में लोकसभा भी चुनाव है। इस कारण नर्सों को एनओसी नहीं दी सकती।
यह भी पढ़ें

DSP के खिलाफ जारी वसूली आदेश पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक, जानिए क्या है पूरा मामला



विभाग ने ये भी कहा है कि उच्च शिक्षा अध्ययन की अनुमति की मांग अधिकार के रूप में नहीं की जा सकती। स्वास्थ्य विभाग के इस फरमान के बाद नर्स एसोसिएशन ने एसीएस हैल्थ को पत्र लिखकर एनओसी देने की मांग की है।
हाल ही में स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी नर्सों ने विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल की थी। ज्यादातर नर्सों के पास बीएससी की डिग्री होती है। इस कारण वे प्रमोशन के लिए एमएससी की पढ़ाई करना चाहती हैं। इसके लिए विभाग से एनओसी लेना जरूरी होता है। कई नर्सों ने एमएससी के लिए आवेदन तो कर दिया था, लेकिन बिना एनओसी के उनका चयन नहीं हो पाएगा। वे चिकित्सा शिक्षा विभाग की काउंसिलिंग में शामिल नहीं हो पाएंगी।
यह भी पढ़ें

Cyber Crime: अननोन कॉल रिसीव करना पड़ रहा महँगा, मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटर बनकर स्कैमर्स कर रहे घपला



इस मामले को लेकर कुछ नर्सों ने हाईकोर्ट में याचिका भी लगाई है। इस पर स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि कोर्ट के आदेश पर इस पर पुनर्विचार किया जा रहा है। इस संबंध में जल्द ही निर्णय लिया जाएगा। हर साल 10 से 15 नर्सें एमएससी करती हैं। उनके लिए प्रवेश में कोटा भी होता है। उन्हें कोर्स के दौरान वेतन मिलता है। ये इन सर्विस कैटेगरी के तहत एडमिशन के लिए आवेदन करती हैं। बाकी छात्राओं को स्टायपेंड दिया जाता है।

ट्रेंडिंग वीडियो