script मिलर करें तो क्या करें! विंग्स ऐप सुविधा नहीं परेशानी बढ़ा रहा.. स्टेक बुक कराने के 48 घंटे बाद हो रहा कैंसिल | wings app create problem miller, stake canceled 48 hours book | Patrika News

मिलर करें तो क्या करें! विंग्स ऐप सुविधा नहीं परेशानी बढ़ा रहा.. स्टेक बुक कराने के 48 घंटे बाद हो रहा कैंसिल

locationरायपुरPublished: Jan 05, 2024 07:51:33 am

Submitted by:

Kanakdurga jha

Chhattisgarh Rice Mill : पुराने स्टाॅक का चावल जमा नहीं करने वालों के चलते एफसीआई ने तीन महीने लेट से चावल लेना शुरू किया।

rice_mills.jpg
Chhattisgarh Rice Mill : पुराने स्टाॅक का चावल जमा नहीं करने वालों के चलते एफसीआई ने तीन महीने लेट से चावल लेना शुरू किया। राइस मिलरों ने राहत की सांस ली ही थी कि नई आफत सामने है। एफसीआई ने विंग्स ऐप लॉन्च किया था ताकि ट्रांसपोर्टेशन सुगम हो। हुआ उल्टा। चावल की सप्लाई दुर्गम हो गई।

दरअसल, राइस मिलरों को अब विंग्स ऐप के जरिए स्टेक की बुकिंग करानी होगी। माने चावल किस गोदाम में पहुंचाना है, ये विंग्स ऐप डिसाइड करेगा। अब हो ये रहा है कि विंग्स नजदीकी गोदाम छोड़कर दूर-दराज के गोदामों में राइस मिलरों के लिए स्टेक बुक कर रहा है। ट्रांसपोर्ट का खर्च बचने की बजाय बढ़ गया है। सप्लाई में लेटलतीफी हो रही है, वो अलग। राइस मिलरों की मानें तो विंग्स ऐप में इतने तरह के कागजात अपलोड करने कहा जाता है, जिसे जमा कराते-कराते पसीने छूट रहे हैं। सबसे बड़ी दिक्कत तो ये है कि ऐप पर स्टेक बुक कराने के 48 घंटे बाद बुकिंग कैंसिल हो जा रही है। मिलरों को समझ नहीं आ रहा है कि वे करें तो क्या करें!
यह भी पढ़ें

विद्यार्थियों की बढ़ी मुसीबत... स्कॉलरशीप पोर्टल में नहीं हो रहा छात्रों का रजिस्ट्रेशन, 6000 छात्रों का अटका नाम






विंग्स ऐप की नाकामी से परेशान राइस मिलरों ने गुरुवार को एफसीआई के जीएम देवेश यादव और डीजीएम से मुलाकात की। प्रदेश राइस मिलर एसोसिएशन के अध्यक्ष योगेश अग्रवाल ने बताया, इससे पहले ऐप्लीकेशन मिलरों के ट्रक को राज्य के किसी भी जिले में भेज दिया करता था। अब इसका रेंज जिले तक सिमटा है तो भी ट्रकों को दूर-दराज के एरिया में भेज रहा है। इससे मिलर खासे परेशान हैं।
यह भी पढ़ें

करोड़पति पंचायत : टैक्स वसूली से खाते में जमा हुए 3.24 करोड़ रुपए, इस काम में खर्च होंगे पैसे...




एफआरके का भुगतान भी जल्द करवाने की मांग की

राइस मिलर एसोसिएशन ने बीते वर्षों के एफआरके का भुगतान भी जल्द से जल्द करवाने की मांग उठाई। जीएम ने माना कि विंग्स ऐप में अभी कुछ खामियां हैं। इन्हें कुछ ही दिनों में दूर कर लिया जाएगा। एफआरके को लेकर वर्तमान वर्ष में इस मद का भुगतान मासिक या स्टैक आधार पर करने की बात भी स्वीकारी। इस दौरान विजय तायल, प्रमोद जैन, चंदन शर्मा, विनोद अग्रवाल, मनीष केडिया, दिलीप अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

ट्रेंडिंग वीडियो