script #Crimenews ऐसी भी दुश्मनी, युवकों पर करवा दिया झूठा सामूहिक दुष्कर्म का केस | Such enmity, false gang rape case was filed against the youth | Patrika News

#Crimenews ऐसी भी दुश्मनी, युवकों पर करवा दिया झूठा सामूहिक दुष्कर्म का केस

locationरतलामPublished: Dec 29, 2023 10:17:29 pm

Submitted by:

Kamal Singh

- सामूहिक दुष्कर्म के प्रकरण में मौके की तस्दीक करने पर कार व आरोपियों की लोकेशन कई किमी दूर मिली


- प्रकरण में न्यायालय के समक्ष पेश की खारजी, गिरफ्तार आरोपियों को उन्मोचित करने के लिए की जाएगी कार्रवाई

#Crimenews ऐसी भी दुश्मनी, युवकों पर करवा दिया झूठा सामूहिक दुष्कर्म का केस
#Crimenews ऐसी भी दुश्मनी, युवकों पर करवा दिया झूठा सामूहिक दुष्कर्म का केस
रतलाम. ताल थाने में गत 26 अक्टूबर को सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज करवाने वाली महिला खुद कटघरे में खड़ी हो गई है। उसने दुर्भावना से ग्रसित होकर दुष्कर्म के आरोपियों के नाम यह केस दर्ज कराया था। यही नहीं पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया था। बाद में इसकी जांच में घटनास्थल और आसपास के सीसीटीवी कैमरे की तस्दीक करने पर मामला झूठा निकला। अब पुलिस न केवल आरोपियों को उन्मोचित करने का केस पेश करेगी वरन झूठी रिपोर्ट दर्ज कराने वाली महिला के खिलाफ भी केस पंजीबद्ध करेगी। जिले में अपनी तरह का यह पहला केस है।

यह था मामला


ताल पुलिस को 26 अक्टूबर को फरियादी महिला ने बताया था कि वह दोपहर एक बजे के करीब अपने भांजे के साथ बाइक पर ताल आ रही थी। इस दौरान रास्ते में बाइक पंक्चर हो जाने से भांजा सुधरवाने गया था और वह वहीं पर खड़ी थी। इसी दौरान एक सफेद रंग की कार आकर रूकी जिसमे तीन व्यक्ति जुझार सिंह, राजेश सिंह डोडिया एवं कुलदीप सिंह बैठे थे। उन्होंने घर छोडऩे का बोलकर गाड़ी में बैठा लिया। फिर उसे अनजान जगह पर ले जाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। बाद में धमकी भी दी और मारपीट भी की। अगले दिन जब तीनों व्यक्ति कार में बैठाकर आबूपुरा के पास मगरे पर छोडक़र चले गए थे। पुलिस टीम ने आरोपी राजेश पिता गोकुल सिंह डोडिया, जुझार सिंह पिता मंगूसिंह पंवार, निवासी टूटियाखेड़ी जिला उज्जैन को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किए जहां से जेल भेज दिए गए थे।

घटनास्थल तस्दीक करने पर चला पता


घटना की सत्यता के बारे जानकारी प्राप्त करने के लिए अग्रिम विवेचना के दौरान घटना स्थल के आसपास के सीसीटीवी कैमरे चेक किए जिसमें फरियादी के बताए घटनाक्रम के संबंधित कोई तथ्य नहीं मिले। फरियादी की बताई कार के संबंध में जानकारी प्राप्त करने के लिए जावरा शहर के सीसीटीवी कैमरे चेक करने पर उक्त वाहन घटना के समय घटनास्थल से 50 किमी दूर जावरा शहर में दिखाई दी।
सीसीटीवी कैमरे में देखे

तीनों आरोपियों की घटना के समय की उपस्थिति के संबंध में तथ्यात्मक जांच की गई। कुलदीप सिंह के घटना के दिन घर से निकलने तथा शराब की दुकान ग्राम रूपेटा पर जाने, उसके दोस्त के साथ रूपेटा से जावरा जाने के फुटेज सीसीटीवी कैमरे में देखे गए। तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर भी आरोपी घटनास्थल पर नही होने की पुष्टि हुई। विवेचना के दौरान आरोपियों की मोबाइल लोकेशन, सीसीटीवी कैमरे से मिले फुटेज, साक्षियों के कथन आदि के आधार पर प्राप्त तथ्यों का विश्लेषण करने पर फरियादी द्वारा पंजीबद्ध रिपोर्ट असत्य पाई गई।

प्रकरण खरजी कराएंगे


तथ्यात्मक रूप से झूठा केस होने से इस मामले में विस्तृत खारजी रिपोर्ट न्यायालय के समक्ष पेश की गई। न्यायालय ने उक्त प्रकरण में पुलिस किया प्रस्तुत तथ्यों के आधार पर प्रकरण को खारिज कर पूर्व में गिरफ्तार आरोपियों को उन्मोचित करने की कार्रवाई की जाएगी। झूठी रिपोर्ट करने पर फरियादी महिला के विरुद्ध भी 182/211 सीआरपीसी के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में आरोपियों को बचाने के एवज में रिश्वत लेने के आरोप के चलते तत्कालीन थाना प्रभारी करणसिंह पॉल को एसपी लाइन अटैच कर चुके हैं। टीआई अभी भी लाइन में ही है।

ट्रेंडिंग वीडियो