Motivational Story: मां से किया था टॉपर बनने का वादा, CA Final में टॉप कर पूरा कर दिखाया

Motivational Story: जयपुर के अजय अग्रवाल बने सीए फाइनल के ऑल इंडिया टॉपर, 650 मार्क्स के साथ सबसे ज्यादा मार्क्स का बनाया रेकॉर्ड

By: सुनील शर्मा

Published: 14 Aug 2019, 04:55 PM IST

Motivational Story: जयपुर के अजय अग्रवाल ने सीए फाइनल (ओल्ड स्कीम) में ऑल इंडिया फर्स्ट रैंक हासिल कर देशभर में जयपुर का मान बढ़ाया है। आइसीएआइ जयपुर चैप्टर के चेयरमैन सीए लोकेश कासट ने बताया कि अजय ने सीए एग्जाम की हिस्ट्री में भी सबसे ज्यादा 650 मार्क्स स्कोर करने का रेकॉर्ड बनाया है। इससे पहले 630 मार्क्स सबसे ज्यादा स्कोर था। खास बात ये है कि अजय के भाई अतुल अग्रवाल ने भी मई-2018 के सीए फाइनल में ऑल इंडिया टॉप किया था।

ये भी पढ़ेः रियल एस्टेट में भी बना सकते है कॅरियर, ऐसे शुरु करें बिना पैसा लगाए बिजनेस

ये भी पढ़ेः फैशन डिजाइनिंग में बनाएं कॅरियर, हर महीने कमाएंगे लाखों, बॉलीवुड में भी चांस मिलेगा

द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टेर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) की ओर से मई 2019 का सीए फाइनल का रिजल्ट जारी किया गया। इसमें टॉप-50 रैंक (न्यू स्कीम) में शहर के 11 स्टूडेंट्स ने जगह बनाई है। इनमें अर्पित चित्तौड़ा ने एआइआर थर्ड, कृतिका अग्रवाल ने 6वीं, अमित दाधिच ने 14वीं, पुनीश बंसल ने 20वीं, केशव परवाल ने 20वीं, अभय बडाया व अखिल शर्मा ने 23वीं, प्रतीक जैन ने 25वीं, सौरव अग्रवाल ने 36वीं, सृष्टी खंडेलवाल ने 41वीं और अनिरूद्ध गुप्ता ने 46वीं रैंक हासिल की है। सिद्धार्थ पारख ने सीए फाउंडेशन में ऑल इंडिया 13वीं और नीरज लालवानी ने 23वीं रैंक स्कोर की है।

ये भी पढ़ेः ऐसे शुरु करें खुद का फोटोग्राफी बिजनेस, हर महीने कमाएंगे लाखों

ये भी पढ़ेः फेल होने के बाद आजमाएं ये 5 उपाय तो पक्का मिलेगी कामयाबी

देशभर से फाइनल एग्जाम (न्यू सिलेबस) में इस बार ग्रुप-1 में 16.87 परसेंट और ग्रुप-2 में 17.55 परसेंट रिजल्ट रहा है। दोनों ग्रुप में 20.85 परसेंट स्टूडेंट्स पास हुए हैं। इसी तरह ओल्ड सिलबेस में ग्रुप-1 में 18.40 परसेंट और ग्रुप-2 में 23.72 परसेंट रिजल्ट रहा है। वहीं दोनों ग्रुप का रिजल्ट 7.63 प्रतिशत रहा। फाउंडेशन का रिजल्ट 18.58 परसेंट रहा।

नीरज लालवानी (फाउंडेशन)
माता : कोमल लालवानी (होममेकर)
पिता : हरगुन दास लालवानी (प्राइवेट जॉब)
हार्डवर्क और कन्सिस्टेंसी ऐसी चाबी है, जो किसी भी सक्सेस का ताला खोल सकती है। साथ ही आपको स्मार्ट वर्क की भी जरूरत होती है। वहीं सोशल मीडिया से अक्सर दूर ही रहा।

अजय अग्रवाल
माता : मंजू अग्रवाल (होममेकर)
पिता : संतोष अग्रवाल (मेडिकल शॉप)
पैसों की कमी के चलते हमारी स्टडी कन्टीन्यू रखने के लिए मां ने एक टाइम का खाना छोड़ दिया था। उस वक्त खुद से वादा किया था कि लाइफ में हमेशा टॉप पर रहना है। बस इसी मोटो के साथ स्टडी की। बड़े भाई ने गाइड किया और सेल्फ स्टडी पर फोकस रखा। मेरा मानना है कि आपको टॉपर्स की गाइडेंस फॉलो करनी चाहिए। आप उनकी सक्सेस से सीख सकते हैं। वहीं सोशल मीडिया का मतलब सिर्फ वाट्सऐप और फेसबुक नहीं है। यहां से आप काफी कुछ सीख भी सकते हैं।

कृतिका अग्रवाल
माता : मृदुला गोयल (डिजाइनर)
पिता : दिनेश अग्रवाल (बिजनेसमैन)
न्यू सिलेबस में ऑल इंडिया 6वीं रैंक स्कोर करने वाली कृतिका का कहना है कि रेगुलर स्टडी और पैशेंस से हर सफलता पाई जा सकती है। मैं हमेशा सोशल मीडिया से दूर रही और आज सीए फाइनल के रिजल्ट के बाद पहली बार वाट्सऐप इंस्टॉल किया है। स्टूडेंट्स दूसरे ऑथर्स को पढऩे की बजाय सिर्फ आइसीएआइ की ओर से जारी स्टडी मैटेरियल पर फोकस करें। डेली 8 से 10 घंटे पढ़ाई करती थीं, वहीं एग्जाम टाइम में 15 घंटे तक पढ़ाई करती थी।

Show More
सुनील शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned