योगी सरकार पर मौलाना महमूद मदनी ने लगाया बदले की भावना से काम का करने आरोप, जानें क्या है मामला

Highlights

- बॉम्बे हाईकोर्ट की औरंगाबाद डिवीजन बेंच के फैसले के बाद जमीयत उलमा-ए-हिंद ने खोला सरकार के खिलाफ मोर्चा

- मौलाना मदनी बोले- यूपी सरकार का व्यवहार अत्यधिक गलत और बदले की भावना पर आधारित रहा

- तब्लीगी जमात के खिलाफ देशभर में दर्ज मुकदमे वापस लेने की मांग

By: lokesh verma

Published: 25 Aug 2020, 11:38 AM IST

सहारनपुर. बॉम्बे हाईकोर्ट की औरंगाबाद डिवीजन बेंच के फैसले के बाद जमीयत उलमा-ए-हिंद ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खाेल दिया है। मौलाना अरशद मदनी के बाद राष्ट्रीय महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने कहा कि तब्लीगी जमात के विरुद्ध देशभर में दर्ज मुकदमों को तत्काल वापस लिया जाए। इसके साथी ही जमातियों पर जेलों में हुए अत्याचार का उनको उचित मुआवजा दिया जाए।

यह भी पढ़ें- भाजपा नेता ने उड़ाई सोशल डिस्टेंस धज्जियां, हजारों लोगों की भीड़ जुटाकर किया सड़क का शिलान्यास

maulana-mahmood-madni.jpg

मौलाना महमूद मदनी ने बयान जारी करते हुए कहा है कि बॉम्बे हाईकोर्ट की औरंगाबाद डिवीजन बेंच के तब्लीगी जमात को लेकर दिए गए फैसले का वह स्वागत करते हैं। उन्होंने इस फैसले को उन सरकारों के लिए सीख लेने वाला बताया, जो देशहित को उपेक्षा कर सांप्रदायिक कट्टरपंथियों के संगीत पर नृत्य करती हैं। उन्होंने कहा कि जस्टिस टीवी नालावाडे और जस्टिस एमजी सेवलेकर की बेंच का फैसला ऐसा पारदर्शी दर्पण है, जिसमें केंद्र और राज्य सरकारें अपना विकृत चेहरा देख सकती हैं। कोर्ट ने फैसले में जिन तथ्यों पर प्रकाश डाला है उनसे सांप्रदायिकता, धर्मांधता और तानाशाही की हार हुई है।

मौलाना महमूद मदनी ने कहा कि अदालत के फैसले ने न सिर्फ सरकार को जागरूक करने का कार्य किया है, बल्कि देश के सम्मान, संविधान, उसकी प्रतिष्ठा और उसकी महान परंपरा के प्रति इसके अनुत्तरदायी व्यवहार पर चेतावनी भी दी है। मौलाना ने आरोप लगाते हुए कहा कि खासतौर पर यूपी की सरकार को इससे सीख हासिल करनी चाहिए, जिसका व्यवहार अत्यधिक गलत और बदले की भावना पर आधारित रहा है।

यह भी पढ़ें- बसपा नेता के ‘Paytm’ किया डाउनलोड तो खाते से उड़े लाखों, जानिए क्या है पूरा मामला

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned