script पत्रिका की टॉक शो : सिरोही में हो रोजगार के अवसर, युवाओं को मिले मौका | Talk show from Patrika in Rajasthan Patrika office sirohi | Patrika News

पत्रिका की टॉक शो : सिरोही में हो रोजगार के अवसर, युवाओं को मिले मौका

locationसिरोहीPublished: Oct 31, 2023 05:23:38 pm

- राजस्थान पत्रिका कार्यालय में पत्रिका की ओर से टॉक शो का आयोजन

पत्रिका की टॉक शो : सिरोही में हो रोजगार के अवसर, युवाओं को मिले मौका
- राजस्थान पत्रिका कार्यालय में पत्रिका की ओर से टॉक शो का आयोजन
सिरोही. राजस्थान पत्रिका की ओर से विधानसभा चुनाव को लेकर मतदाताओं में जागरुकता के लिए सोमवार को पत्रिका कार्यालय में टॉक शो का आयोजन किया गया। जिसमें सिरोही पीजी कॉलेज के युवा वोटर्स ने भाग लिया। युवाओं ने कहा कि जिले में रोजगार के संसाधनों की कमी है, इसलिए युवाओं को रोजगार के बाहरी प्रदेशों में जाना पड़ रहा है, इसलिए बड़ी कम्पनियां व उद्योग स्थापित हो, साथ ही उच्च अध्ययन के लिए जिले में यूनिवर्सिटी भी खुलनी चाहिए। प्रस्तुत है युवाओं की जुबानी---
बड़ी कंपनी व उद्योग स्थापित हो, ताकि युवाओं को मिले रोजगार

सिरोही जिले में शिक्षित बेरोजगार युवाओं की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है। यहां रोजगार के संसाधन नहीं होने से युवाओं को पढ़ाई पूरी करने के बाद भी रोजगार के लिए बाहरी प्रदेशों में जाना पड़ रहा है। ऐसे में जो भी प्रत्याशी जीते उसे यहां बड़ी कंपनी व उद्योग स्थापित करने पर जोर देना चाहिए। ताकि जिले के युवाओं को रोजगार मिले। प्रदेश में पेपर लीक की घटनाओं से भी युवाओं में निराशा है, इसके लिए भी कड़े कदम उठाए जाए। इसके अलावा शिक्षा, चिकित्सा, पेयजल संबंधी समस्याओं का भी प्रमुखता से समाधान करने वाला जनप्रतिनिधि होना चाहिए। राजनीति में युवाओं की भी भागीदारी बढनी चाहिए। चुनाव में सभी मतदाताओं को वोट आवश्यक रूप से देना चाहिए, ताकि अच्छा प्रतिनिधि आगे आ सके।
मनोहर प्रजापति, ईएलसी ब्रांड एम्बेसडर, पीजी कॉलेज सिरोही

सिरोही में खुले यूनिवर्सिटी, ताकि यहीं कर सके उच्चतर अध्ययन

सिरोही जिले में पिछले पांच साल में कई कॉलेज खुले हैं, इससे युवाओं को उच्च अध्ययन की सुविधा हुई है, लेकिन अब यहां यूनिवर्सिटी भी खुलनी चाहिए, प्रोफेशनल कोर्सेज भी शुरू किए जाएं, कॉउंसलिंग सुविधा हो, ताकि युवाओं को उच्च स्तरीय अध्ययन के साथ ही बेहतर विकल्प मिल सके। अभी सिर्फ सरकारी नौकरी की तरफ भाग रहे हैं। उनके पास दूसरा कोई अवसर नहीं है। ऐेसे में मतदान करना हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। सभी मतदाताओं को सोच समझकर अपने मत का प्रयोग करना चाहिए। कुछ गरीब लोग अपने मत को बेच देते हैं, उनको भी जागरुक करना चाहिए। मैं शिक्षित, योग्य व ईमानदार नेता को मत देकर देश के भविष्य का निर्णय करूंगी और अन्य मतदाताओं को भी जागरुक करूंगी। मतदान हमारी ताकत है, हम सभी को मतदान जरूर करना चाहिए।
खुशबू वैष्णव, ईएलसी ब्रांड एम्बेसडर, पीजी कॉलेज सिरोही

कॉलेज में आवाजाही के लिए हो बस की सुविधा

सिरोही में युवाओं के लिए रोजगार बहुत बड़ी समस्या है। सिरोही में रोजगार ना के बराबर है। ऐसे में सिरोही में रोजगार के अवसर बढऩे चाहिए। सिरोही महाविद्यालय में करीब 100 से 200 छात्र ऐसे हैं जो पिण्डवाड़ा व सरूपगंज क्षेत्र से पढऩे आते है। 100 से 150 छात्र शिवगंज से आते है। ऐसे में महाविद्यालय में आवाजाही के लिए प्रशासन की ओर से नि:शुल्क बस की सुविधा करनी चाहिए, ताकि आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थी भी पढऩे आ सके। ऐसे में युवाओं के हित की सोच रखने वाले को ही मत देंगे।
पीयूश दवे, युवा, सरूपगंज

अस्पताल में बढ़े उपचार सुविधा, ताकि मरीजों को मिले राहत

सिरोही में चिकित्सा व्यवस्था लचर है। जिससे मरीजों को उपचार के लिए पालनपुर, अहमदाबाद सहित अन्य जगह जाना पड़ा रहा है। सिरोही अस्पताल में इमरजेंसी मरीज आता है तो यहां पर उपचार नहीं किया जाता, सीधे आगे रेफर कर देते है। ऐसे में इमरजेंसी मरीज को अन्य जगह लेकर जाना पड़ा रहा है। सिरोही जिला अस्तपाल में सभी मरीजों का इलाज संभव हो। ताकि मरीजों को राहत मिल सकें। इस समस्याओं का तभी निस्तारण होगा, जब हम अपने मत का सही उपयोग करेंगे।
तोषित रावल, युवा, सिरोही

पेयजल की गंभीर समस्या, होना चाहिए समाधान

सिरोही जिले में पेयजल की गंभीर समस्या बनी हुई है। वैसे देखा जाए तो सिरोही शहर में तो भी पेयजल की समस्या इतनी नहीं है, लेकिन आसपास के गांवों में पेयजल की गंभीर समस्या बनी हुई है। कई जगह तो एक सप्ताह तक पानी आता भी नहीं है, टैंकर लाकर काम चलाना पड़ रहा है। उधर सडकें भी खस्ताहाल है। ऐसे में हम बात करें गोयली चौराहा की तो यहां की सडक़ इतनी खस्ताहाल है कि दिनभर धूल के गुबार उड़ रहे है। मैं विकास का विजन रखने वाले को अपना मत दूंगा और लोगों को भी प्रेरित करूंगा।
चिक्लीत रावल, युवा, गोयली

गांवों में भी हो विकास

सिरोही में रोजगार की बहुत कमी है। 24 घंटों लाइब्रेरी में पढ़ते रहते है फिर भी भर्तियां बहुत कम निकलती है। थकहार कर मां-बाप युवाओं को प्राइवेट नौकरी करने भेज देते है, जिससे युवाओं में जो टेलेंट होता हैं वो खत्म हो जाता है। युवा करना बहुत कुछ चाहता हैं लेकिन रोजगार के अवसर नहीं होने से कुछ भी नहीं कर पाता है। ऐसे में युवाओं के हित में कार्य करने वाले जनप्रतिनिधि होने चाहिए। मैं ऐसे ही व्यक्ति को वोट दूंगा और लोगों को भी प्रेरित करूंगा।
विपुल पुरोहित, युवा, बरलूट

नियम कायदे तय करें, स्थानीय लोगों को भी दें रोजगार

आबू-पिण्डवाड़ा क्षेत्र में बड़ी बड़ी दो फैक्ट्रियां है, लेकिन स्थानीय युवाओं को रोजगार नहीं दिया जाता। जनप्रतिनिधि भी इस तरफ कोई कदम नहीं उठाते। जबकि ऐसा नियम बनाना चाहिए, जहां कंपनी या फैक्ट्री खुल रही है, वहां के कुछ प्रतिशत लोगों को आवश्यक रूप से रोजगार के अवसर दिए जाएं। सिरोही के सबसे बड़े अस्पताल में क्षय रोग विशेषज्ञ नहीं है। वहीं सिरोही जिले में कृषि महाविद्यालय भी नहीं है। जिससे छात्रों को बाहर पढ़ाई करने जाना पड़ रहा है।
हितेश कुमार नामदेव, नई धनारी

विकास का विजन रखने वाले को देंगे मत, युवाओं में जागरुकता जरूरी

किसी भी क्षेत्र का विकास तभी संभव हैं, जब वहां के युवा जागरूक होंगे। ऐसे में सभी युवा अपने कर्तव्यों व जिम्मेदारी को लेकर सचेत हो गए तो उस क्षेत्र का विकास निश्चित है। आप किसी क्षेत्र में गार्डन बना दो, फिर उसमें टॉय ट्रेन चलाकर उसे विकास का नाम दे दो, तो यह गौर करने वाली बात है। मैं धरातल पर विसास करने की सोच वाले अच्छे व्यक्ति को अपना वोट दूंगी और युवाओं को भी जागरुक करूंगी। सभी को सोच समझकर अपना वोट देना चाहिए, ताकि क्षेत्र के विकास को गति मिले।
विशाखा रावल, सिरोही

कॉलेजों व स्कूलों में शिक्षकों के पद रिक्त, कैसे हो पढ़ाई

जिले के स्कूल व कॉलेजों में शिक्षकों के पद रिक्त पड़े हैं, इससे बच्चों का भविष्य दांव पर है। सभी जगह पद भरने चाहिए, ताकि शिक्षण व्यवस्था पर पटरी पर आए। रोजगार पjक शिक्षा, शुरू की जाए, काउंसलिंग सुविधा हो, रोजगार के संसाधन विकसित हो, ताकि युवाओं को रोजगार मिले। सिरोही शहर में विकास तो हुआ हैं लेकिन जिसमें होना चाहिए उस क्षेत्र में नहीं हुआ। पीजी कॉलेज में मैथ्स के प्रोफेसर की कमी है।इसलिए मैं सोच समझकर मत दूंगी और अन्य लोगों को भी प्रेरित करूंगी।

भूमिका रावल, पिण्डवाड़ा
एक शिक्षित विधायक ही समझ सकता है युवाओं की पीड़ा

विधायक शिक्षित होना चाहिए। क्योंकि एक शिक्षित विधायक ही युवाओं की पीड़ा समझ सकता है। क्योंकि एक शिक्षित युवा होते हुए भी बेरोजगार रहना कितना मुश्किल है। युवाओं के लिए रोजगार की योजनाएं लाई जाए, ताकि युवाओं को समय पर रोजगार मिल सकें। सिरोही में रोजगार नहीं होने से युवा गुजरात सहित अन्य राज्यों में जा रहे है। ऐसे में कुछ ऐेसे उद्योग लाए जाएं, जिसमें युवाओं को रोजगार के अवसर मिल सके। सभी को अपने मत का उपयोग करना चाहिए, ताकि अच्छे प्रतिनिधि आगे आएं और इस दिशा में कार्य करें।
निशा सुथार, सिरोही

मतदान को काम नहीं कर्तव्य समझें

बहुत से मतदाता मतदान को हल्के में लेते हैं। मतदान को काम नहीं समझकर मतदान को हमारा कर्तव्य समझाना चाहिए। अपना मत किसी के कहने पर नहीं, बल्कि खुद की इच्छा से ऐसे उम्मीदवार को देना चाहिए, जो वास्तव में जनता के लिए समर्पित रहने वाला हो। मैं ऐसे ही योग्य व्यक्ति को मत दूंगी और लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करूंगी।
रंजन कुमारी मेघवाल,बरलूट

ट्रेंडिंग वीडियो