बेटे की इस करतूत से मां जमीन पर गिरी तो गमछे से घोंट दिया गला, थाने में बोला- ठीक नहीं था मां का चाल-चलन

Mother murder: हत्या करने के बाद पुलिस को गुमराह करने खुद पहुंचा थाने (Police station) और मां के मरने की दर्ज कराई रिपोर्ट, पुलिस (Police) ने कड़ाई से पूछताछ की तो हत्या (Murder) की बात की स्वीकार

By: rampravesh vishwakarma

Published: 16 Apr 2021, 05:14 PM IST

विश्रामपुर. 3 दिन पहले एक महिला के अंधे कत्ल (Blind murder) की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने उसके बड़े बेटे को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बेटे ने ही गला घोंटकर मां की हत्या (Mother Murder) की थी और थाने में उसके अज्ञात कारण से मृत्यु की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने जब जांच की तो सच्चाई सामने आई।

पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसकी मां का चाल-चलन ठीक नहीं था तथा वह घर बेचने नहीं दे रही थी। इस कारण से उसने 12 अप्रैल को नए घर में सोते समय उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी।


बिश्रामपुर थाना क्षेत्र के ग्राम लक्ष्मणपुर कुम्दा निवासी सितंबर राजवाड़े ने 12 अप्रैल को रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी मां अमरेश बाई पति स्व. रामदयाल 55 वर्ष मृत हालत में घर में पड़ी है। उसकी कैसे मौत हुई यह पता नहीं चल सका है। पुलिस ने शव का पीएम कराया तो गला दबाकर हत्या (Murder) की पुष्टि हुई।

Read More: मां के साथ आपत्तिजनक हालत में देख प्रेमी की बेटे ने बहनोई के साथ मिलकर की नृशंस हत्या, बोरे में भरकर फेंकी लाश

पुलिस ने मृतिका के पड़ोसियों से जब पूछताछ की तो उन्होंने बड़े बेटे सितंबर के साथ विवाद की बात बताई। इस पर पुलिस ने सितंबर राजवाड़े को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो उसने 12 अप्रैल की रात करीब 1 बजे मां की हत्या करने की बात स्वीकार कर ली।

इसके बाद पुलिस ने उसके खिलाफ धारा 302 के तहत अपराध दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने शुक्रवार को उसे न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। पूरी कार्रवाई सूरजपुर एसपी के निर्देश पर की गई।

कार्रवाई में विश्रामपुर थाना प्रभारी सुभाष कुजूर, एएसआई लक्ष्मी गुप्ता, केडी बनर्जी, उमेश सिंह, प्रधान आरक्षक आनंद सिंह, संजय सिंह यादव, आरक्षक अकरम मोहम्मद, अखिलेश पाण्डेय, देवनंदन राजवाड़े, अजय प्रताप सिंह, संजय राजपूत, रविशंकर पाण्डेय, नागेश नाहक, रौशन सिंह व महिला सैनिक उर्मिला पटेल सक्रिय रहे।

Read More: जायदाद के लिए झगड़ा कर रहे थे 2 बेटे, मां बोली- शांत हो जाओ तो बड़े बेटे ने सिर पर टांगी मारकर उतार दिया मौत के घाट

इस कारण की हत्या
पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया कि पिता की मृत्यु के बाद उसकी मां लक्ष्मणपुर कुम्दा बस्ती स्थित नए घर में अकेले रहकर शराब बनाकर पीती और लोगों को भी पिलाती थी। मोहल्ले में घूमती रहती थी तथा उसका चाल-चलन भी ठीक नहीं था। इस कारण उसकी बदनामी हो रही थी।

उसने मां को पुराने घर में साथ रहने कहा था लेकिन वह नहीं मानी। वहीं उसके छोटे भाई के नाम से सड़क दुर्घटना के एक प्रकरण में कोर्ट द्वारा 3 लाख रुपए बतौर जुर्माना भरने नोटिस भी आया था।

रुपए की व्यवस्था के लिए वह और उसका भाई नए घर को 4 लाख में बेचना चाह रहे थे लेकिन मां ने यह कहते हुए मना कर दिया था कि उसके पिता की निशानी है। मां के चाल-चलन से हो रही बदनामी और घर बेचने देने में रोड़ा बन रही मां की उसने हत्या की योजना (Murder plan) बनाई।


पहले मुर्गा खिलाया फिर की हत्या
प्लान के अनुसार 12 अप्रैल की रात करीब 9 बजे वह पुराने घर से मुर्गा बनाकर मां को खिलाने लाया। जब जाने लगा तो उसने दरवाजे को खुला छोड़ दिया था। बेटे के जाने के बाद मां मुर्गा-शराब पीने-खाने के बाद सो गई। इधर रात करीब 1 बजे सितंबर राजवाड़े चोरी-छिपे घर में घुसा ओर सो रही मां का गला दबा (Murder to press throat) दिया।

जब वह जमीन पर गिरकर छटपटाने लगी तो वहीं रखे गमछे से उसका गला दबाकर हत्या (Murder) कर दी और फरार हो गया। फिर पुलिस को गुमराह करने उसने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned