Republic Day 2020 जब अंग्रेजों का पड़ा बालक अटल से पाला, यह थाना है गवाह

जिस उम्र में बच्चे ठीक से चलना भी नहीं सीख पाते उस उम्र में अटल जी का वास्ता अंग्रेज सैनिकों से पड़ा था।

आगरा। पूर्व प्रधानमंत्री व भारत रत्न स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के गांव बटेश्वर स्थित जंगलात कोठी आज भी अंग्रेजों की मुखालफत और अटल जी के देशप्रेम की गवाही देती है। अटल जी आज भले ही हमारे बीच में नहीं हैं लेकिन गणतंत्र दिवस के खास मौके पर उनसे जुड़ी एक घटना की चर्चा जरूर है। बाल्य अवस्था से ही अटल बिहारी वाजपेयी असाधारण रहे। जिस उम्र में बच्चे ठीक से चलना भी नहीं सीख पाते उस उम्र में अटल जी का वास्ता अंग्रेज सैनिकों से पड़ा था।

यह भी पढ़ें- National tourism day आगरा से 4000 करोड़ रुपये तक का पर्यटन कारोबार, 3.5 लाख लोग पा रहे प्रत्यक्ष रोजगार

लूट केस में हुई थी पूछताछ
वरिष्ठ पत्रकार शंकर देव तिवारी बताते हैं कि सन् 1932 में ब्रिटिश हुकूमत के दौरान अटल जी के पैतृक गांव बटेश्वर में जंगलात (जिला परिषद मवेशी खाना) और बटेश्वर से तकरीबन तीन किलो मीटर की दूरी पर स्थित बिजकौली पोस्ट ऑफिस में लूट हुई थी। यह लूट ब्रिटिश हुकूमत को सीधी चुनौती जैसी थी। ब्रिटिश हुकूमत बौखला गई और इस लूट में शामिल लोगों की धरपकड़ के लिए अभियान शुरू किया गया। इसी तफ्तीश में बालक अटल का भी नाम आया।

यह भी पढ़ें- भ्रष्टाचार के खिलाफ CM योगी की कार्रवाई से खलबली, 13 अफसर निलंबित

बाह थाने पर हुई थी पूछताछ
शंकर देव तिवारी बताते हैं कि जंगल में वन विभाग की कोठी थी उसी के पास यह लूट हुई थी। किसी ने अंग्रेजों को सूचना दी कि लूट के समय बालक अटल भी मौका ए वारदात के नजदीक था। फिर क्या था अंग्रेजों ने बालक अटल को बाह थाने बुला लिया और पूछताछ की। उस समय अटल जी की उम्र महज छह वर्ष थी। कहा तो यह भी जाता है कि अंग्रेजों ने उस समय अटल जी को नौ दिन तक बाल सुधारग्रह आगरा में भी रखा था हालांकि इस बात के पुख्ता प्रमाण नहीं मिलते हैं। कुछ लोगों का कहना है कि अटल जी से सिर्फ थाने पर पूछताछ हुई थी इसके बाद यह स्पष्ट हो गया था कि उनका इस लूट से कोई लेना देना नहीं था। अटल जी के परिवार के किसी बच्चे का मुंडन था इसलिए वह बाहर गए थे और खेलते खेलते बकरियों के पीछे-पीछे वन विभाग के ऑफिस तक जा पहुंचे थे

यह भी पढ़ें- भरतपुर से एटीएम लूटकर भाग रहे जगराम गैंग की पुलिस से मुठभेड़

लगा था कलेक्टिव फाइन
लेकिन इतने भर से अंग्रेज संतुष्ट कहां होने वाले थे। अंग्रेजों ने बटेश्वर सहित छह गांवों में कलेक्टिव फाइन लगाया था। इन गांवों में पंडित राम प्रसाद बिस्मिल के नाना का पिनाहट ब्लॉक स्थित गांव जोधापुरा भी शामिल था। इन साब बातों का अरबी भाषा में लिखित प्रमाणित दस्तावेज भी मौजूद है जिसका ट्रांसलेशन अटल जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद किया गया था।

Show More
अमित शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned