George Floyd Death: America में प्रदर्शनकारियों ने कोलंबस की प्रतिमा तोड़ी, आग लगाकर नदीं में फेंका

HIGHLIGHTS

  • अमरीका के रिचमॉन्ड शहर ( Richmond City ) स्थित क्रिस्टोफर कोलंबस की प्रतिमा प्रदर्शनकारियों ने तोड़ ( Christopher Columbus Statue Demonstration in America ) दी। इतना ही नहीं उसमें आग लगा दी और एक नदी में फेंक दिया।
  • प्रदर्शनकारियों ने कोलंबस की प्रतिमा ( Columbus Statue ) को कई रस्सियों की मदद से उखाड़ फेंका और उसकी जगह स्प्रे से लिखा 'कोलंबस नसंहार का प्रतीक है।'

By: Anil Kumar

Published: 10 Jun 2020, 10:55 PM IST

वाशिंगटन। अमरीका ( America ) में लगातार प्रदर्शन का सिलसिला जारी है। अफ्रीकी-अमरीकी अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड ( George Floyd ) की पुलिस कस्टडी में मौत के खिलाफ लोग सड़कों पर उतरे हैं और विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शनकारियों ने अमरीका के रिचमॉन्ड शहर ( Richmond City ) स्थित क्रिस्टोफर कोलंबस की प्रतिमा तोड़ ( Christopher Columbus Statue Demonstration in America ) दी। इतना ही नहीं उसमें आग लगा दी और एक नदी में फेंक दिया।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, हजारों की संख्या प्रदर्शनकारी शहर के बायर्ड पार्क में जमा हुए और विरोध जताया। इसके करीब दो घंटे से कम समय में प्रदर्शनकारियों ने कोलंबस की प्रतिमा को उखाड़ फेंका।

महात्मा गांधी की प्रतिमा से छेड़छाड़ को Donald Trump ने बताया शर्मनाक, कहा- ऐसा करना अपमानजनक

रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार रात करीब साढ़े 8 बजे प्रतिमा को कई रस्सियों की मदद से उखाड़ फेंका और उसकी जगह स्प्रे से लिखा 'कोलंबस नसंहार का प्रतीक है।' प्रदर्शनकारियों ने प्रतिमा में आग लगा दी और पार्क स्थित एक नदी में फेंक दिया।

1927 में लगाई गई थी प्रतिमा

रिचमॉन्ड टाइम्स-डिस्पैच ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि पार्क में पुलिस मौजूद नहीं थी। हालांकि घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस की टीम को एक हेलीकॉप्टर में उस इलाके का चक्कर लगाते देखा गया। बता दें कि दिसबंर 1927 में रिचमॉन्ड में कोलंबस की प्रतिमा ( Columbus Statue ) लगाई गई थी और यह क्रिस्टोफर कोलंबस की पहली प्रतिमा थी।

मालूम हो कि जॉर्ज फ्लॉयड की मौत ( George Floyd Death ) के बाद अमरीका के 140 शहरों में प्रदर्शन हो रहा है। प्रदर्शनकारियों ने अब तक अरबों की संपत्ति को नुकसान पहुंचाया है। इतना ही नहीं उग्र होते प्रदर्शन को देकते हुए अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( US President Donald Trump ) ने मिलिट्री को तैनात कर दिया और कई शहरों में कर्फ्यू भी लगा दिया है।

George Floyd Death: शिकागो में 31 मई रहा सबसे खूनी दिन, राह चलते लोगों को बनाया गया निशाना

मंगलवार को जॉर्ज फ्लॉयड का अंतिम संस्कार किया गया। 46 वर्षीय फ्लॉयड के शव को अंतिम संस्कार के लिए शनिवार रात ह्यूस्टन लाया गया था। इसके बाद सोमवार को फाउंटेन ऑफ प्रेज चर्च में शव को एक सुनहरे रंग के खुले ताबूत में रखा गया ताकि लोग उनको श्रद्धांजलि दे सके। इस दौरान कई शहरों से हजारों की संख्या में लोग श्रद्धांजलि देने पहुंचे।

जॉर्ज फ्लॉयड के शव को ह्यूस्टन मेमोरियल गार्डेस कब्रिस्तान में दफनाया गया। यहीं पर उनकी मां लारेंसी फ्लॉयड की भी कब्र है। फ्लॉयड का बचपन ह्यूस्टन के थर्ड वार्ड में हुआ था और वह अपने स्कूल का प्रसिद्ध फुटबॉल खिलाड़ी था जिसने स्थानीय लोकप्रिय डीजी स्क्रू के साथ रैप भी किया था।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned