अफगानिस्तानः रक्षा मंत्री के घर के बाहर कार बम से हमला, सरकार ने भारत से लगाई तालिबान से बचाने की गुहार

अफगानिस्तानी रक्षा मंत्री के आवास के बाहर धमाका, कार बम से हमले को दिया अंजाम, चार घंटे तक चली फायरिंग के बाद चार हमलावर मार गिराए

By: धीरज शर्मा

Published: 04 Aug 2021, 08:01 AM IST

नई दिल्ली। एक बार फिर बम धमाके से अफगानिस्तान ( Afghanistan ) दहल उठा। काबुल ( Kabul ) में मंगलवार को कार बम ( Car Bomb Blast ) से तेज धमाका हुआ। बताया जा रहा है कि स्थानीय समय के मुताबिक रात 8 बजे कार बम से यह हमला हुआ।

धमाके के बाद अफगान सुरक्षाबलों और हमलावरों के बीच करीब 4 घंटे तक फायरिंग हुई। इस गोलीबारी में चार हमलावरों को ढेर कर दिया गया है। वहीं अफगानी सरकार ने तालिबान से बचाने के लिए भारत से गुहार लगाई है।

यह भी पढ़ेंः अफगान सेना-तालिबान में भीषण जंग: फ्लाइट बंद, 300 आतंकियों को मार गिराया

अफगानिस्तान में हालात लगातार नाजुक होते जा रहे हैं। एक बार फिर काबुल में कार बम से हमला हुआ है। आंतरिक मंत्रालय के मुताबिक, अफगान सुरक्षाबलों ने हमले में शामिल चारों हमलावरों को मार गिराया।
यह ब्लास्ट अफगानिस्तान के रक्षा मंत्री जनरल बिस्मिल्लाह मोहम्मदी के घर के पास हुआ। अफगान मीडिया के मुताबिक, ब्लास्ट के बाद दोनों ओर से काफी फायरिंग भी हुई।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक कार बम हमले ने एक गेस्टहाउस को निशाना बनाया जो कार्यवाहक रक्षा मंत्री बिस्मिल्लाह मोहम्मदी का था। विस्फोट के समय रक्षा मंत्री वहां नहीं थे। हमला काबुल के डिस्ट्रिक्ट 10 के शिरपुर इलाके में हुआ।

यहां रक्षा मंत्री मोहम्मदी के अलावा अफगानिस्तान के पूर्व उप राष्ट्रपति मार्शल अब्दुल राशिद दोस्तम भी रहते हैं। यह इलाका हाई सिक्योरिटी वाले ग्रीन जोन में आता है।

धमाके के बाद कुछ हमलावर रक्षा मंत्री के घर में घुसते भी देखे गए थे, हालांकि, अफगानिस्तान के रक्षा मंत्री घर में नहीं थे और वे पूरी तरह सुरक्षित हैं।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों में अफगानिस्तान में हिंसा तेजी से बढ़ी है। तालिबान ने नागरिकों और अफगान सुरक्षा बलों के खिलाफ अपने आक्रमण को तेज कर दिया है।

यह भी पढ़ेंः अफगानिस्तान में आक्रामक हो रहा है तालिबान, असमंजस की स्थिति में अफगान सेना

भारत से लगाई गुहार
अफगानिस्तान ने तालिबान से बचाने के लिए भारत से गुहार लगाई है। विदेश मंत्री मोहम्मद हनीफ अतमार ने अपने भारतीय समकक्ष एस जयशंकर से बात की। इस दौरान उन्होंने युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में तालिबान और विदेशी आतंकवादी समूहों के हमलों से तेजी से बिगड़ रही स्थिति हवाला दिया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की इमरजेंसी मीटिंग बुलाने का आह्वान किया।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned