अयोध्या में बवाल, हनुमानगढ़ी पर लगा ताला, नाराज व्यापारियों ने अयोध्या बंद कराया

- हनुमानगढ़ी में प्रसाद चढ़ाने को लेकर मंहत और पुजारियों में विवाद
- प्रशासन के मान मनोव्वल के बाद खुलवाया ताला, श्रद्धालुओं का शुरू हुआ दर्शन पूजन
- पुराने लड्डू चढ़ाने से नाराज थे हनुमानगढ़ी के संत
- लड्डू फेंके जाने के बाद नाराज हुए अयोध्या के व्यापारी

By: Mahendra Pratap

Updated: 30 Jun 2021, 12:35 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

अयोध्या. Ayodhya Organically रामलला की जन्मभूमि अयोध्या के प्रसिद्ध मंदिर हनुमानगढ़ी मंदिर में लड्डू चढ़ाने को लेकर बड़ा विवाद हो गया है। हनुमानगढ़ी पर लड्डू चढ़ाए जाने के विरोध में मंहत और मंदिर के पुजारियों विवाद हो गया। जिसके बाद नाराज मंहत ने मंदिर में ताला लगवा दिया। मंदिर के बंद होने से श्रद्धालु उग्र हो गए। अयोध्या प्रशासन ने सूचना के बाद मंहत और पुजारियों में समझौता कराया और मंदिर खुलवा दिया। नगा संतों को कहना था कि मंदिर में पुराना प्रसाद चढ़ाया जा रहा है। जिस पर ये नगा संत बाजार में व्यापारियों को समझाने गए। जहां झड़प में कई दुकानें के लड्डूओं को फेंक दिया गया। लड्डू फेंके जाने के बाद नाराज व्यापारियों ने सभी दुकाने बंद करवा दी, और अयोध्या बंद का ऐलान कर दिया।

जीनोम सीक्वेंसिंग की रिपोर्ट में खुलासा, कोरोना की डेल्टा वेरिएंट ने दूसरी लहर में मचाई थी तबाही

प्रसाद चढ़ाने पर रोक

मामला यह था कि हनुमानगढ़ी के गद्दीनशीन मंहत की इच्छा थी की प्रसाद चढ़ाया जाए पर पुजारियों का कहना था कि प्रशासन ने प्रसाद चढ़ाने पर रोक लगा रखी है। जिससे नाराज मंहत ने हनुमानगढ़ी मंदिर में ताला जड़वाया दिया। लिला प्रशासन अलर्ट मोड पर आ गया और तुरंत दोनों पक्षों में समझौता कराया गया। और मंदिर खुलवा दिया गया। इसी बीच पुजारियों ने प्रशासन को बताया कि, दुकानदार प्रसाद में जो लड्डू बेच रहे हैं वो पुराने हैं और खराब हैं।

लड्डू फेंकने से नाराज अयोध्या के व्यापारी

इसके बाद पुजारियों ने तय किया कि वो दुकानदारों और व्यापारियों को समझाए कि नया प्रसाद बेंचे। इसी बीच कहासुनी में पुजारियों में किसी ने लड्डूओं को फेंक दिया। इससे व्यापारी और दुकानदार नाराज हो गया। और नारेबाजी करने लगे। लड्डू फेंकने से नाराज अयोध्या के व्यापारियों ने एकमत होकर दुकानें बंद कर दी और अयोध्या बंद का ऐलान कर दिया। इस वक्त अयोध्या का मामला गरमाया हुआ है। प्रशासन सतर्क है।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned