दिल्ली के सोनू राम व कविता जोशी निभाएगी सीता की भूमिका, सोशल चैनल पर शाम 7 से 10 होगा सीधा प्रसारण

कोरोना काल (Covid-19) में जहां लोगों का मंदिर में दर्शन करना कम हो गया है, तो दूसरी ओर सालों पुरानी सांस्कृतिक धरोहर बन चुकी परंपराओं के जरिये आस्था और श्रद्धा के भाव को जिंदा रखने का प्रयास किया जा रहा है।

By: Karishma Lalwani

Published: 15 Sep 2020, 03:47 PM IST

अयोध्या . कोरोना काल (Covid-19) में जहां लोगों का मंदिर में दर्शन करना कम हो गया है, तो दूसरी ओर सालों पुरानी सांस्कृतिक धरोहर बन चुकी परंपराओं के जरिये आस्था और श्रद्धा के भाव को जिंदा रखने का प्रयास किया जा रहा है। ऐसा ही एक प्रयास रामनगरी अयोध्या में किया जा रहा है। यहां 17 से 25 अक्टूबर तक भव्य रामलीला के आयोजिन की तैयारी है। इसमें दिल्ली के कलाकारों के साथ बॉलीवुड के कुछ दिग्गज अभिनेता रामलीला का मंचन करेंगे। कार्यक्रम का प्रसारण सोशल मीडिया पर किया जाएगा। इस क्रम में मंगलवार को 'मेरा मां' फाउंडेशन के आयोजक अयोध्या पहुंचे और सरयू घाट के पास स्थित प्राचीन लक्ष्मण किला के मैदान में इस कार्यक्रम को कराए जाने का निर्णय किया। आयोजन में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृह मंत्री अमित शआह के साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को निमंत्रण भेजा गया है। कार्यक्रम का प्रसारण सात बजे से 10 बजे तक होगा।

बॉलीवुड अभिनेता करेंगे मंचन

रामलीला कार्यक्रम में भगवान राम व माता सीता की गाथा को बॉलीवुड के कलाकार प्रस्तुत करेंगे। इसमें प्रमुख भूमिका में असरानी-नारद, रवि किशन- भरत, मनोज तिवारी- अंगद, रजा मुराद- अहिरावण, शाहबाज खान- रावण, बिंदु दारा सिंह- हनुमान, राकेश बेदी- निषादराज, ऋतु शिवपुरी कैकेई रहेंगे।इसका अलावा 10 वर्षों से दिल्ली की रामलीला में अच्छी भूमिका निभाने वाले सोनू- भगवान राम की व कविता जोशी माता सीता की भूमिका में होंगे।

अयोध्या की रामलीला के चेयरमैन वेद प्रकाश ने इस मामले में कहा, ''हम लोगों की पांच वर्षों से अयोध्या में भव्य रामलीला करने की इच्छा थी। रामलीला कार्यक्रम से देश के अच्छे कलाकार व स्टार जुड़े हुए हैं। आज जिस प्रकार से देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण की नींव रखी है उसके बाद पहली बार भव्य रामलीला होने जा रही है। केवल देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी चर्चित होगी। आज पूरे विश्व में भगवान राम का नाम पहले से ही लिया जाता है। इस रामलीला के बाद राम के प्रति और भी भावना लोगों में जाकर करने का काम करेगी। यह रामलीला मेरी मां फाउंडेशन के अंतर्गत यह अयोध्या की रामलीला हो रही है। उन्होंने बताया कि यह रामलीला एक बहुत बड़े उद्देश्य को लेकर किया जा रहा है। कार्यक्रम के माध्यम से बुजुर्ग वर्ग के साथ-साथ युवा पीढ़ी भी इससे जुड़ेगी।

डिजिटल माध्यम से महीनेभर होगा प्रसारण

काशी में इस बार डिजिटल प्लेटफार्म पर पूरी दुनिया 30 दिन रामलीला देखेगी। प्रतिदिन दो मिनट 20 सेकेंड के एपिसोड में प्रत्येक प्रसंग को दर्शाया जाएगा। इस हिसाब से मात्र एक घंटा 10 मिनट में ही संपूर्ण रामायण प्रसारित हो जाएगी। काशी घाट वॉक के ट्विटर हैंडल पर रामलीला का प्रसारण एक अक्टूबर से 30 तक किया जाएगा। डिजिटल प्लेटफार्म पर प्रसारण के लिए रामलीला की रिकार्डिंग शुरू हो चुकी है। विभिन्न पात्रों के संवाद भी डब किए जा रहे हैं।

काशी घाट वॉक के संस्थापक, बीएचयू के न्यूरोलॉजिस्ट प्रो. वीएन मिश्रा ने बताया कि रामलीला का क्रम रामनगर की रामलीला के आधार पर निर्धारित किया गया है। वीडियो में दिखने वाले पात्र लुगदी से बने मुखौटे धारण करेंगे। विदेशों में रामलीला करने वाले कलाकारों को भेजने के लिए मुखौटों के 35 सेट तैयार कर लिए गए हैं।

ये भी पढ़ें: परम पूज्य स्वामी ब्रह्मानंद जी के 37 में स्थापना दिवस पर स्वामी ब्रह्मानंद पुरस्कार आयोजन

home minister amit shah PM Narendra Modi
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned