script‘टेक-आउट’-पैकेज्ड भोजन की लोकप्रियता से स्वास्थ्य जोखिम : नताशा कनाडे | Health risks of 'take-out'-packaged food: Natasha Kanade | Patrika News
बस्सी

‘टेक-आउट’-पैकेज्ड भोजन की लोकप्रियता से स्वास्थ्य जोखिम : नताशा कनाडे

हमारी आधुनिक जीवन शैली और व्यस्त कार्यक्रम के साथ, हम अपने पुराने घरेलू खाना पकाने के तरीकों से भटक रहे हैं। “टेक-आउट” और पैकेज्ड भोजन की बढ़ती लोकप्रियता हमें स्वास्थ्य जोखिमों की बढ़ती संख्या के लिए उजागर कर रही है। एक बार में छोटे-छोटे कदम उठाते हुए और एक बार जब हम उन ट्रिगर्स और कारकों को समझ लेते हैं जो हमारे पेट के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं, तो हम इसे पूरी तरह से खत्म करने की दिशा में आगे बढ़ सकते हैं।

बस्सीApr 19, 2022 / 10:09 pm

Gaurav Mayank

'टेक-आउट'-पैकेज्ड भोजन की लोकप्रियता से स्वास्थ्य जोखिम : नताशा कनाडे,'टेक-आउट'-पैकेज्ड भोजन की लोकप्रियता से स्वास्थ्य जोखिम : नताशा कनाडे

‘टेक-आउट’-पैकेज्ड भोजन की लोकप्रियता से स्वास्थ्य जोखिम : नताशा कनाडे,’टेक-आउट’-पैकेज्ड भोजन की लोकप्रियता से स्वास्थ्य जोखिम : नताशा कनाडे

जयपुर। अगर पेट स्वस्थ तो शरीर स्वस्थ, यह कहावत यूं ही नहीं बनी है। ज्यादातर बीमारियां पेट से ही शुरू होती हैं इसीलिए इसे हेल्दी बनाए रखना बेहद जरूरी है। जानी मानी न्यूट्रीशनिस्ट नताशा कनाडे (Natasha Kanade) हमें कुछ ऐसी ही हेल्दी टिप्स दे रही हैं। नताशा कनाडे एक सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट, अपने क्षेत्र में जाने-माने आहार विशेषज्ञों में से एक हैं। उनका प्लेटफॉर्म वजन प्रबंधन और जीवन शैली प्रबंधन कार्यक्रमों के लिए वन-स्टॉप स्वास्थ्य केंद्र है।
उन्होंने बताया कि हमारी आधुनिक जीवन शैली और व्यस्त कार्यक्रम के साथ, हम अपने पुराने घरेलू खाना पकाने के तरीकों से भटक रहे हैं। “टेक-आउट” और पैकेज्ड भोजन की बढ़ती लोकप्रियता हमें स्वास्थ्य जोखिमों की बढ़ती संख्या के लिए उजागर कर रही है। एक बार में छोटे-छोटे कदम उठाते हुए और एक बार जब हम उन ट्रिगर्स और कारकों को समझ लेते हैं जो हमारे पेट के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं, तो हम इसे पूरी तरह से खत्म करने की दिशा में आगे बढ़ सकते हैं।
पेट के स्वास्थ्य में सुधार करने के कुछ तरीके

अपने आहार योजना में प्रतिदिन विभिन्न प्रकार के प्रीबायोटिक और प्रोबायोटिक युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें। जैसे कि दही, अचार, हरी सब्जियां, केफिर, किमची, कोम्बुचा, मिसो, सौकरकूट और टेम्पेह। प्रीबायोटिक्स के उदाहरण – केले, कासनी की जड़, शतावरी, प्याज, लहसुन, सेब, जई, आर्टिचोक, अलसी और फलियां।
तनाव प्रबंधन
आंत के स्वास्थ्य सहित स्वास्थ्य के कई पहलुओं के लिए तनाव प्रबंधन की आवश्यकता होती है। नियमित रूप से व्यायाम, ध्यान, जर्नलिंग, अच्छी नींद और स्वस्थ आहार खाने से तनाव के स्तर को कम करने में मदद मिलती है।
नियमित व्यायाम
नियमित व्यायाम से हमारे पेट में लाभकारी रोगाणुओं की संख्या में वृद्धि होती है। इसलिए, व्यायाम के लिए कम से कम 20-30 मिनट, सप्ताह में कम से कम 3-4 बार करने का प्रयास करें।
हाइड्रेटेड रहना
खूब पानी पीने से आंतों की म्यूकोसल लाइनिंग और आंत में अच्छे बैक्टीरिया के संतुलन पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है। यह स्वस्थ आंत को बढ़ावा देने का एक आसान तरीका है।

चीनी से परहेज
अगर तुरंत नहीं तो चीनी का सेवन धीरे-धीरे कम करने की कोशिश करें।
पर्याप्त नींद
अनियमित नींद की आदतें और अशांत नींद हमारे आंत के वनस्पतियों पर नकारात्मक परिणाम दे सकती है, जिससे सूजन की स्थिति का खतरा बढ़ सकता है। लोगों को 7 से 8 घंटे की चैन की नींद लेनी चाहिए।
धूम्रपान से बचें
धूम्रपान आंत के स्वास्थ्य के साथ-साथ हृदय और फेफड़ों के स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। यह कैंसर के खतरे को भी काफी बढ़ा देता है।

Hindi News/ Bassi / ‘टेक-आउट’-पैकेज्ड भोजन की लोकप्रियता से स्वास्थ्य जोखिम : नताशा कनाडे

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो