यहां 13 हज़ार से ज्यादा लोग हो चुके हैं संक्रमित, पर इनमें से आधे लोग नहीं जानते 'कैसे हुआ कोरोना'

सावधान हो जाएं, क्योंकि ये नहीं जानते 'कैसे हुआ कोरोना'।

By: Faiz

Published: 10 Sep 2020, 04:45 PM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस तेजी से अपने पाव पसार रहा है। राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमण के हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। यहां रोजाना औसतन 200 से 250 सामने आ रहे हैं। बुधवार को जारी कोरोना बुलेटिन पर गौर करें तो, एक दिन में यहां 262 नए मामले सामने आए थे। सितंबर के नौ दिनों में करीब 1800 मरीजों की बढ़ोतरी हो चुकी है। साथ ही, इतने ही दिनों के भीतर 28 लोग संक्रमण का शिकार होकर जान भी गवा चुके हैं। राजधानी में कुल मरीजों का आंकड़ा 13244 हो गया है। लेकिन, इनमें करीब आधे यानी 6052 संक्रमित ऐसे भी हैं, जिन्हें नहीं पता कि उन्हें कोरोना कैसे हुआ। जबकि ये मरीज न तो किसी संक्रमित के संपर्क में आए और न ही इनकी कोई कॉन्टैक्ट हिस्ट्री सामने आई है।

 

पढ़ें ये खास खबर- तेजी से बिगड़ रहे हैं हालात, 11000 कोरोना मरीज ठीक हो चुके, पर प्लाज्मा डोनेट नहीं कर रहे लोग


स्वास्थ मंत्रालय की रिपोर्ट में खुलासा

इस बात का खुलासा स्वास्थ्य मंत्रालय की भोपाल कोविड पेशेंट कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग रिपोर्ट में हुआ है, जिसमें कहा गया है कि, 13244 मरीजों के संपर्क में 59374 थे। इनमें 50923 सिम्टोमेटिक (जिनमें लक्षण दिखे) थे। वहीं, 8884 मरीज हाई रिस्क श्रेणी में थे। स्वास्थ्य संचालनालय के अफसरों की मानें तो, जिन 6052 मरीजों की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री नहीं मिली है, उनसे शहर में हजारों लोगों को संक्रमण फैसले की संभावनाओं से भी इंकार नहीं किया जा सकता।

 

पढ़ें ये खास खबर- MP : बाढ़ आपदा से हुए नुकसान का आंकलन करेगा केन्द्रीय दल, 3 दिन तक यहां होगा सर्वे


8 दिन में 60 मरीज़ गवा चुके हैं जान

बता दें कि, राजधानी के कोविड अस्पतालों में मार्च महीने से लेकर 9 सितंबर तक 313 मरीज़ अपनी जान गवा चुके हैं। इनमें से 33 की मौत अस्पताल में भर्ती होने के 30 मिनट से लेकर 24 घंटे के बीच हुई। जिला प्रशासन की कोविड पेशेंट डेथ लाइन लिस्ट के मुताबिक, कोरोना से मरने वालों में 2 मरीज ऐसे हैं, जिनकी मौत घर से अस्पताल के बीच हो गई।

 

पढ़ें ये खास खबर- Corona Update : 80 हजार के करीब पहुंची MP में संक्रमितों की संख्या, अब तक 1640 ने गवाई जान


सिर्फ दो माह में आठ गुना बढ़े एक्टिव केस

प्रदेश में लगातार दूसरे दिन 1800 से ज्यादा (1869) नए संक्रमित मिले। कुल संक्रमित 79192 हो गए हैं। खास बात ये है कि एक जुलाई को 2625 एक्टिव केस थे, जो अब आठ गुना बढ़कर 17205 हो गए हैं। यह आंकड़ा अब तक का सर्वाधिक है। इनमें भी सर्वाधिक चार हजार एक्टिव मरीज इंदौर में हैं। मंगलवार को कुल 22 हजार 597 सैंपल जांचे गए, इसलिए संक्रमण दर में सोमवार की 8.2% की तुलना में कोई इजाफा नहीं हुआ। भी 8.2 फीसदी पर है।

 

पढ़ें ये खास खबर- अब कोरोना नियम तोड़ना पड़ेगा भारी, 500 से लेकर 5 हजार तक वसूला जाएगा स्पॉट फाइन


अब नहीं होगी घर-घर जांच, यहां मुफ्त होगा टेस्ट

राज्य सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण की घर-घर जाकर जांच व्यवस्था को समाप्त कर दिया है, लेकिन ये भी स्पष्ट है कि, अब जो भी व्यक्ति फीवर क्लीनिक या कोविड के लिए अधिकृत हॉस्पिटल में सेंपल देकर टेस्ट कराना चाहेगा, उससे कोई शुल्क नहीं वसूला जाएगा। इसे लेकर भ्रम की स्थिति थी, जिसे मंगलवार को कैबिनेट बैठक के बाद गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने स्पष्ट किया। अभी भी कोविड सेंपल के टेस्ट और इलाज नि:शुल्क ही हो रहे हैं। केंद्र की आयुष्मान योजना के तहत जिन अस्पतालों में इलाज हो रहा है, वहां तो पैसा नहीं लगेगा। जहां आयुष्मान योजना लागू नहीं है, मसलन कोई शासकीय मेडिकल कॉलेज है, वहां मरीजों को बिल दिया जाएगा। वो अपनी स्वेच्छा से जितना चाहे बिल भुगतान कर सकता है।

coronavirus
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned