Venus Rashi Parivartan effect : 16 अगस्त से बदलने जा रही है सभी राशियों की किस्मत, जानिये कौन होगा मालामाल और कौन बनेगा कंगाल!

Venus Rashi Parivartan effect :  16 अगस्त से बदलने जा रही है सभी राशियों की किस्मत, जानिये कौन होगा मालामाल और कौन बनेगा कंगाल!

Deepesh Tiwari | Updated: 14 Aug 2019, 10:15:03 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

भाग्य के कारक शुक्र का सिंह राशि effects on 12 zodiac sign due to Venus transit in Leo में प्रवेश Venus Rashi Parivartan effect प्रभाव और परेशानी से बचने के उपाय...

भोपाल। वैदिक ज्योतिष में भाग्य के कारक ग्रह शुक्र Venus Rashi Parivartan अगस्त 2019 में ही मंगल Mars व गुरु jupiter के परिवर्तन Rashi Parivartan के बाद 16 अगस्त 2019 को सिंह leo राशि zodiac sign में प्रवेश करने जा रहे हैं। शुक्र को राक्षसों का गुरु भी कहा जाता है। साथ ही कुंडली में नवम भाव के कारक होने के साथ ही शुक्र Venus Rashi को भौतिक सुख, वैवाहिक सुख, भोग-विलास, शौहरत, कला, प्रतिभा, सौन्दर्य, रोमांस, काम-वासना और फैशन-डिजाइनिंग आदि का कारक माना जाता है।

शुक्र वृषभ taurus और तुला libra राशि का स्वामी होता है और मीन pisces इसकी उच्च राशि है, जबकि कन्या virgo इसकी नीच राशि कहलाती है। शुक्र को 27 नक्षत्रों में से भरणी, पूर्वा फाल्गुनी और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्रों का स्वामित्व प्राप्त है। ग्रहों में बुध Mercury और शनि shani / saturn ग्रह शुक्र Venus के मित्र ग्रह हैं और तथा सूर्य sun / suryadev और चंद्रमा Moon इसके शत्रु ग्रह माने जाते हैं।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार वैदिक ज्योतिष vedic jyotish में शुक्र ग्रह को एक शुभ ग्रह माना गया है। इसका रंग गुलाबी व रत्न हीरा माना गया है। पंडित शर्मा के मुताबिक हिन्दू धर्म में शुक्र ग्रह को लेकर कई पौराणिक कथाओं का उल्लेख मिलता है।

grahon ki chaal astrology
IMAGE CREDIT: patrika

मान्यता है कि भगवान शिव के वरदान से शुक्राचार्य Venus Rashi Parivartan effect इस पृथ्वी लोक और परलोक की सारी संपत्ति के स्वामी हैं। वहीं आदिपर्व के अनुसार, शुक्र संपत्तियों का ही नहीं बल्कि औषधि और मंत्र आदि के भी स्वामी माने गये हैं। वैदिक ज्योतिष में शुक्र को लाभ दाता ग्रह माना गया है।

शुक्र के प्रभाव effect of Venus से भौतिक और वैवाहिक सुखों की प्राप्ति होती है। ऐसे में अगर किसी जातक की कुंडली में शुक्र की स्थिति शुभ न हो अथवा वह पीड़ित हो तो जातक को भौतिक और वैवाहिक सुखों का आनंद नहीं मिल पाता है और उसे जीवन में कठिनाइयों Rashi Parivartan का सामना करना पड़ता है।

ऐसे समझें गोचर का समय व अवधि : Venus Rashi Parivartan Time ...
शुक्र ग्रह 16 अगस्त 2019, शुक्रवार को रात्रि 08:23 बजे सिंह राशि में गोचर करेगा और 10 सितम्बर 2019, मंगलवार को प्रातः 01:24 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेगा। ऐसे में शुक्र के इस गोचर Venus Rashi Parivartan का प्रभाव सभी 12 राशियों में भी पड़ेगा और इसका असर effect of Venus सीधे हर राशि के जातक के दैनिक जीवन पर पड़ेगा।

वहीं एक खास बात ये भी है कि इसके ठीक अगले दिन यानि 17 अगस्त को सूर्य भी राशि परिवर्तन करते हुए सिंह राशि में आ जाएंगे, जिसके चलते वे शुक्र परिवर्तन से संकट में आईं कई राशियों को राहत देने का काम करेंगे।

मेष - चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ
IMAGE CREDIT: patrika

शुक्र के सिंह राशि में गोचर के 12 राशियों पर असर : Venus Rashi Parivartan effects ...

1. मेष राशि फल / Venus effect on aries

शुक्र आपकी राशि से पंचम भाव में गोचर करेंगे। कुंडली में यह संतान भाव माना जाता है। इस भाव से रोमांस, संतान, रचनात्मकता, बौद्धिक क्षमता, शिक्षा और नए अवसरों को देखा जाता है। शुक्र का यह गोचर आपके प्रेम संबंधों में मिठास लाएगा। रिश्तों में प्यार के बढ़ने से निजी संबंध मज़बूत होंगे। अगर आप सिंगल हैं तो किसी के साथ प्यार की नई शुरुआत हो सकती है। अगर पहले से ही प्यार में हैं तो पार्टनर के साथ विवाह की बात भी चल सकती है। आर्थिक जीवन में शुक्र का गोचर आपको सफलता प्रदान करेगा।

इस दौरान छोटे-मोटे लड़ाई-झगड़े भी होते रहेंगे। साथ ही शिक्षा के क्षेत्र में छात्रों को पढ़ाई में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। उनका मन पढ़ाई की बजाय कहीं और लग सकता है। इस दौरान सेहत का भी ख़्याल रखें।

उपाय: शुक्रवार के दिन कन्याओं को मोमबत्तियां दान करें।

वृषभ - ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वु, वे, वो
IMAGE CREDIT: patrika

2. वृषभ राशि फल / Venus effect on taurus

आपकी राशि से शुक्र चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे। कुंडली में चौथा भाव सुख व माता का भाव माना गया है। इस भाव से माता, जीवन में मिलने वाले सभी प्रकार के सुख, चल-अचल संपत्ति, लोकप्रियता एवं भावनाओं को देखा जाता है।
शुक्र के गोचर से आप अपने निजी जीवन से प्रसन्न रहेंगे। घर-परिवार में ख़ुशियां आएंगी। वहीं यदि आप जॉब के कारण घर से दूर रहते हैं तो परिजनों के साथ समय बिताने का मौ़क़ा मिल सकता है। कार्यक्षेत्र में भी परिस्थितियां आपके अनुकूल होंगी। इस अवधि में आपकी आर्थिक परेशानियां दूर होंगी। समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ेगा। साथ ही आपकी लोकप्रियता में वृद्धि होगी। आर्थिक जीवन से भी आपको सकारात्मक परिणामों की प्राप्ति होगी। शुक्र के गोचर से आपकी चल-अचल संपत्ति में वृद्धि होगी। इस दौरान आप कोई नया वाहन या फिर किसी प्रकार की नई संपत्ति आदि ख़रीद सकते हैं।

उपाय: शुक्रवार के दिन उंगली में हीरा धारण करें ( लेकिन किसी जानकार को कुंडली दिखाने के बाद ), शुभ रहेगा।

मिथुन - क, की, कु, घ, ड, छ, के, को, ह
IMAGE CREDIT: patrika

3. मिथुन राशि फल / Venus effect on gemini

आपकी राशि से शुक्र तीसरे भाव में जाएगा। कुंडली में तीसरे घर को पराक्रम व भाई बहनों का भाव कहा जाता है। इस भाव से व्यक्ति के साहस, इच्छा शक्ति, छोटे भाई, जिज्ञासा, जुनून, ऊर्जा, जोश और उत्साह को देखा जाता है।

इस गोचर के प्रभाव से आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी। आप निडरता से अपनी बातों को रखेंगे। साथ ही आपके व्यक्तित्व का भी विकास होगा और आपके अंदर आत्म-विश्वास बढ़ेगा। किसी मुनाफ़े के लिए आप जोख़िम उठाना पसंद करेंगे। कार्य क्षेत्र में आपकी ऊर्जा आपको सदैव कार्य के प्रति क्रियाशील बनाए रखेगी। वैवाहिक जीवन में आपको आनंद आएगा और प्रेम जीवन में रिश्ते प्रगाढ़ होंगे।

इस दौरान अति आत्मविश्वास से बचें। क्योंकि यह आपकी छवि को चोट पहुंचा सकता है। किसी बात को लेकर लाइफ/लव पार्टनर से बहसबाज़ी भी संभव है। ऐसी स्थिति में ख़ुद को शांत रखें।

उपाय: भगवान शिव की पूजा करें और उन्हें सफेद चंदन व फूल चढ़ाएं।

कर्क - हि, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो
IMAGE CREDIT: patrika

4. कर्क राशि फल / Venus effect on cancer

आपकी राशि से द्वितीय भाव में इस दौरान शुक्र गोचर करेगा। ज्योतिष में दूसरे भाव से व्यक्ति के परिवार, उसकी वाणी, प्रारंभिक शिक्षा और पैत्रिक धन आदि का विचार किया जाता है।

इस दौरान आपको कई वित्तीय फायदे होंगे और आप अपने भविष्य के लिए अच्छी रक़म जोड़ सकेंगे। आय के स्रोतों में वृद्धि होने की संभावना है। शुक्र का गोचर आपके आर्थिक पहलू को और भी मजबूत स्थिति में लाएगा। आर्थिक पक्ष को लेकर कोई रुकी हुई योजना पुनः प्रारंभ हो सकती है। प्रॉपर्टी से भी फायदा संभव है। संवाद शैली में सुधार आएगा और आप दूसरों को अपनी बातों से आकर्षित कर पाएंगे। घर में परिजनों के बीच सामंजस्य का वातावरण देखने को मिल सकता है।

इस दौरान उनकी पढ़ाई में व्यवधान पैदा हो सकता है। शिक्षा के क्षेत्र में जातकों का मन थोड़ा कम जबकि पारिवारिक मुद्दों पर अधिक लग सकता है।

उपाय: शनिवार को बजरंग बली को सिंदूर चढ़ाएं।

सिंह - मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टु, टे
IMAGE CREDIT: patrika

5. सिंह राशि फल / Venus effect on leo

शुक्र ग्रह आपकी ही राशि में गोचर करेगा जो प्रथम भाव में स्थित होगा। ज्योतिष में प्रथम भाव को लग्न कहा जाता है।
इस दौरान आप अपने अच्छे कार्यों के लिए जाने जाएंगे। बीते समय में किए गए संघर्षों का लाभ इस दौरान प्राप्त होगा। शुक्र के प्रभाव से आपके व्यक्तित्व में सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेगा जिससे आपके प्रति लोग आकर्षित होंगे। गंभीर मुद्दों पर लोग आपकी सलाह ले सकते हैं। भाई-बहनों का सहयोग प्राप्त हो सकता है। अपने लिए कुछ ऐसा करेंगे जिससे आपको खुशी हासिल होगी। प्रेम जीवन में साथी आपकी ओर अधिक आकर्षित होगा।

इस दौरान अपने जीवन साथी से कुछ ऐसा न कहें या करें जिससे बात आगे बढ़े।

उपाय: शुक्रवार के दिन मंदिर में देवी को लाल गुलाब अर्पित करें।

कन्या - टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो
IMAGE CREDIT: patrika

6. कन्या राशि फल / Venus effect on virgo

आपकी राशि से शुक्र द्वादश भाव में प्रवेश रहेगा। ज्योतिष में यह व्यय भाव कहलाता है। इस भाव से ख़र्चे, हानि, मोक्ष, विदेश यात्रा आदि को देखा जाता है।

कॅरियर में नए अवसर के लिए आप विदेश की ओर भी अपना रुख़ कर सकते हैं । लंबी दूरी की यात्रा संभव है। यह यात्रा आपके लिए लाभकारी सिद्धि हो सकती है। पिकनिक या कहीं बाहर घूमने जाने का प्लान बन सकता है।

गोचर के दौरान भोग-विलास के प्रति आपका मन ज़्यादा लगेगा और मन वासनात्मक क्रियाओं में अधिक लगेगा। आर्थिक जीवन की बात करें तो, आपके ख़र्चों में वृद्धि होने की प्रबल संभावना है। अनावश्यक रूप से धन ख़र्च होगा। ऐसी स्थिति में आपको अपने व्यय को नियंत्रण में रखना होगा अन्यथा आपके सामने आर्थिक संकट की घड़ी आ सकती है। विदेश गमन के योग बन रहे हैं। जीवन साथी की सेहत का खास ख़्याल रखें।

उपाय: शुक्रवार के दिन भगवान शिव को दही व चीनी का भोग लगाएं और फिर ब्राह्मणों को दान करें।

तुला - रा,री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते
IMAGE CREDIT: patrika

7. तुला राशि फल / Venus effect on libra

आपकी राशि से एकादश भाव में शुक्र स्थित रहेंगे। कुंडली में यह भाव आमदनी का भाव कहा जाता है। इस भाव से आय, जीवन में प्राप्त होने वाली सभी प्रकार की उपलब्धियां, मित्र, बड़े भाई-बहन आदि को देखा जाता है।

इस दौरान आपके जीवन में खुशहाली व समृद्धि आएगी। आप जो भी करेंगे उसमें सफलता मिलेगी। दिल की कोई मुराद पूरी हो सकती है। विपरीत-लिंगके जातकों की मदद से आगे बढ़ने में आपको सहयोग मिलेगा। आर्थिक लाभ की संभावना है। प्रेम संबंधों में प्यार और बढ़ेगा। सामाजिक समारोह में जाना पसंद करेंगे, साथ ही दोस्तों व रिश्तेदारों के संग अच्छा समय गुज़ारेंगे।

बच्चों की सेहत में थोड़ी बहुत गिरावट आ सकती है।

उपाय: शुक्रवार को रिंग फिंगर में अच्छी क्वालिटी का ओपल रत्न धारण करें ( लेकिन किसी जानकार को कुंडली दिखाने के बाद )।

वृश्चिक - तो, ना, नी, नू, या, यी, यू
IMAGE CREDIT: patrika

8. वृश्चिक राशि फल / Venus effect on scorpio

आपकी राशि से शुक्र का दशम भाव में गोचर रहेगा। ज्योतिष में दशम भाव करियर, पिता की स्थिति, रुतबा, राजनीति और जीवन के लक्ष्यों की व्याख्या करता है। इसे कर्म और आय का घर भी माना गया है।

शुक्र के कर्म भाव में गोचर से आपको कार्य क्षेत्र में ज़बरदस्त लाभ होगा। आपके कार्य क्षेत्र का दायरा बढ़ेगा। करियर में तरक्की होगी। ऑफिस में आपको नई ज़िम्मेदारी मिल सकती है और आपका प्रभाव क्षेत्र भी बढ़ सकता है। किसी विदेशी कंपनी से संधि हो सकती है जो आपके करियर व बिज़नेस के लिए बेहद प्रगतिशील व लाभदायक साबित होगी। कार्य से संबंधी छोटी या फिर लंबी यात्रा भी संभव है। कार्यक्षेत्र पर बिज़नेस और लाइफ पार्टनर का सहयोग पूर्ण रूप से प्राप्त होगा।
निजी संबंधों में बहस से बचने के साथ ही कार्यालय में भी अनैतिक संबंधों से दूरी बनाए रखें।

उपाय: गाय की पूजा करें व उन्हें गुड़ खिलाएं।

धनु - ये, यो, भा, भी, भू, धा, फ, ढ, भे
IMAGE CREDIT: patrika

9. धनु राशि फल / Venus effect on sagittarius

शुक्र आपकी राशि से नवम भाव में गोचर करेंगे। ज्योतिष में नवम भाव को भाग्य भाव कहते हैं और शुक्र इसी भाव के कारक ग्रह माने जाते है। इस भाव से व्यक्ति के भाग्य, गुरु, धर्म, यात्रा, तीर्थ स्थल, सिद्धांतों का विचार किया जाता है।
आपको गोचर के दौरान अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। भाग्य का साथ आपको कई क्षेत्रों में सफल परिणाम दिलाएगा। छात्रों को गुरुजनों का आशीर्वाद प्राप्त होगा। उनके आशीर्वाद से आप अपनी पढ़ाई में अच्छा प्रदर्शन करेंगे। आप अपने सिद्धांतों को आगे रखेंगे और उन्हीं के अनुसार कार्य करेंगे। सामाजिक कार्यों को करने में आपका मन लगेगा।

उपाय: हर गुरुवार को पीपल के वृक्ष को बिना छुए पानी दें।

मकर - भो, जा, जी, जू, खा, खू, गा, गी
IMAGE CREDIT: patrika

10. मकर राशि फल / Venus effect on capricorn

आपकी राशि से शुक्र अष्टम भाव में स्थित होगा। वैदिक ज्योतिष में कुंडली के अष्टम भाव को आयुर्भाव या मृत्यु भाव भी कहा जाता है। इस भाव से जीवन में आने वाले उतार-चढ़ाव, अचानक से होने वाली घटनाएं, आयु, रहस्य, शोध आदि को देखा जाता है।

ससुराल पक्ष से रिश्ते बेहतर होंगे। संभव है कि उनकी ओर से आपको कोई प्यारा तोहफ़ा मिले।
गोचर के प्रभाव से आपका मन भौतिक सुखों के प्रति अधिक लगेगा। मन में वासनात्मक विचार अधिक आएंगे। ऐसे में आपको इन पर नियंत्रण रखना होगा। कार्य क्षेत्र में थोड़ी परेशानियां आएंगी। लेकिन अगर आप मेहनत और ईमानदारी से अपना कार्य करेंगे तो इन परेशानियों को आसानी से दूर कर लेंगे। इस दौरान आपको सेहत से जुड़ी परेशानियां हो सकती है।

उपाय: हर रोज़ दुर्गा मंत्र का जाप करें।

कुम्भ - गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा
IMAGE CREDIT: patrika

11. कुंभ राशि फल / Venus effect on Aquarius

आपकी राशि से शुक्र सप्तम भाव में प्रवेश करेंगे। ज्योतिष में कुंडली के सातवें भाव को विवाह भाव भी कहा जाता है। इस भाव से व्यक्ति के वैवाहिक जीवन, जीवनसाथी एवं जीवन के अन्य क्षेत्रों में बनने वाले साझेदारों का विचार किया जाता है।
शुक्र का शुभ प्रभाव आपके वैवाहिक जीवन को मधुर बनाएगा। जीवनसाथी और आपके बीच सामंजस्य की स्थिति बनेगी। जीवनसाथी आपकी भावनाओं की कद्र करेगा, साथ ही आप दोनों के बीच प्रेम भी बढ़ेगा। निजी जीवन में सकारात्मकता आएगी। वहीं प्रेम जीवन में भी आप अपने लव पार्टनर के प्रति अधिक आकर्षित होंगे। दूसरी ओर, यदि आप किसी साझेदारी में व्यापार कर रहे हैं तो उसमें आपको ज़बरदस्त मुनाफ़ा होने की उम्मीद है।

उपाय: शुक्रवार को शुक्र यंत्र स्थापित करके पूजा करें।

मीन - दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, चि
IMAGE CREDIT: patrika

12. मीन राशि फल / Venus effect on pisces

आपकी राशि से शुक्र का षष्टम भाव में गोचर रहेगा। ज्योतिष में इस भाव को शत्रु भाव कहा जाता है। इस भाव से विरोधियों, रोग, पीड़ा, जॉब, कम्पीटीशन, रोग प्रतिरोधक क्षमता, शादी-विवाह में अलगाव और क़ानूनी विवादों को देखा जाता है।

वहीं चूंकि शुक्र एक अच्छा ग्रह है, लेकिन अच्छे ग्रह छठे, आठवें और द्वादश भाव में अच्छे फल नहीं देते हैं। ऐसे में अगर आप इस काल में किसी कॉम्पीटीशन की तैयार कर रहे हैं तो अपनी मेहनत को दोगुना कर लीजिए। क्योंकि कठिन परिश्रम के बल पर ही आपको सफलता मिलने की संभावना है। इस दौरान आपको थोड़ा सतर्क रहना होगा। सेहत के नज़रिए से शुक्र का गोचर आपके लिए ठीक नहीं है। ऐसी स्थिति में आपको अपनी सेहत पर ध्यान देना होगा। वहीं कार्य क्षेत्र में आपको अपने विरोधियों से सावधान रहने की आवश्यकता है। वे आपके ख़िलाफ़ कोई साज़िश रच सकते हैं।

उपाय: आटे की लोई व गुड़ गाय को खिलाएं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned