मुंबई की संस्था देगी मप्र के निजी डॉक्टरों को प्रशिक्षण, बेहतर होगा इलाज

निजी चिकित्सालयों के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण

भोपाल/ प्रदेश के अस्पतालों में डॉक्टरों को प्रशिक्षित करने के लिए कमलनाथ सरकार ने एक ओर कदम उठाया है। सरकार ने निजी चिकित्सालयों के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण भी शुरू किया हे। इससे सरकारी अस्पतालों पर बढ़ते बोझ को काबू में करके निजी अस्पतालों में भी आयुष्मान योजना के तहत इलाज कराया जा सकेगा। इस इलाज में ट्रेंड डॉक्टरों की जरूरत के कारण सरकार ने इस प्रशिक्षण की शुरूआत की है।

आयुष्मान भारत निरामयम् द्वारा होटल लेक-व्यू, भोपाल में आज निजी चिकित्सालयों के लिये दो दिवसीय प्रशिक्षण प्रारंभ किया गया। प्रशिक्षण में निजी चिकित्सालयों को नेशनल एक्रेडिटेशन बोर्ड ऑफ हॉस्पिटल्स (एनएबीएच) प्रमाणीकरण प्राप्त करने की प्रक्रिया की जानकारी दी जा रही है।

प्रशिक्षण के पहले दिन एनएबीएच प्रिंसिपल एसेसर एण्ड डिप्टी डायरेक्टर, हिन्दूजा चिकित्सालय, मुम्बई डॉ. सुगंथी अय्यर ने 42 निजी चिकित्सालयों के प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया। इस दौरान आयुष्मान भारत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. जे. विजय कुमार ने स्वास्थ्य सेवाओं में गुणवत्ता लाने तथा अधिक से अधिक चिकित्सालयों को एनएबीएच प्रमाणीकरण के लिये प्रोत्साहित करने पर बल दिया। साथ ही, उन्होंने आयुष्मान भारत निरामयम् योजनांतर्गत एनएबीएच प्रमाणित निजी चिकित्सालयों को स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता बनाये रखने को भी कहा। प्रशिक्षण में कार्यपालन अधिकारी श्रीमती सपना लोवंशी तथा आयुष्मान भारत निरामयम् के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य निजी चिकित्सालयों को एनएबीएच प्रमाणीकरण की जानकारी देना, प्रमाणित चिकित्सालयों की गुणवत्ता बनाये रखना तथा अधिक से अधिक निजी चिकित्सालयों को आयुष्मान भारत निरामयम् योजना में पंजीकृत होने के लिये प्रोत्साहित करना है। इस तरह के प्रशिक्षण इंदौर एवं जबलपुर में भी शीघ्र ही आयोजित किये जायेंगे।

जीतेन्द्र चौरसिया Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned