पति की बेवफाई से दुखी महिला डॉक्टर रेलवे ट्रैक पर लेटी, ट्रेन आने के डेढ़ मिनट पहले DSP ने बचाया

पति की बेवफाई से दुखी महिला डॉक्टर रेलवे ट्रैक पर लेटी, ट्रेन आने के डेढ़ मिनट पहले DSP ने बचाया
पति की बेवफाई से दुखी महिला डॉक्टर रेलवे ट्रैक पर लेटी, ट्रेन आने के डेढ़ मिनट पहले DSP ने बचाया

KRISHNAKANT SHUKLA | Updated: 23 Aug 2019, 09:40:39 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

रेलवे लाइन पर 28 वर्षीय महिला डॉक्टर खुदकुशी करने पहुंच गई। डॉक्टर रेलवे लाइन पर लेट कर ट्रेन के आने का इंतजार कर रही थी, तभी डीएसपी ट्रैफिक पराग खरे ने बचाया...

भोपाल. रचना नगर अंडरब्रिज के ऊपर से निकली रेलवे लाइन पर 28 वर्षीय महिला डॉक्टर खुदकुशी करने पहुंच गई। डॉक्टर रेलवे लाइन पर लेट कर ट्रेन के आने का इंतजार कर रही थी, तभी डीएसपी ट्रैफिक पराग खरे अपने इलाके के भ्रमण पर जा रहे थे। इसी बीच एक युवक ने उनका वाहन रोककर बताया कि महिला ट्रेन से कटकर अपनी जान देने पर आमदा है।

 

MUST READ : आतंकी संगठनों को मदद दे रहे MP के 3 एजेंट गिरफ्तार, SMS से पाकिस्तान को दी थी बधाई, पूछताछ जारी

 

वर्दी देख महिला भी आगे की ओर भागी

डीएसपी तुरंत ही अपनी कार से उतरकर नाला पार करते हुए रेलवे ट्रैक की ओर दौड़ पड़े। रेलवे ट्रैक पर जाकर उन्होंने देखा कि महिला जान देने पर आमदा है। पुलिस की वर्दी देख महिला भी आगे की ओर भागी। तभी दूसरे ट्रैक पर ट्रेन आ रही थी। इससे पहले वह ट्रेन की चपेट में आती, डीएसपी ने उसे पकड़ लिया। लेकिन धक्का देकर वह फिर भागी। तुरंत डीएसपी ने उसे पकडक़र दूसरी तरफ खींच लिया। देर रात जबलपुर से आए उसके भाई को पुलिस ने महिला को सौंप दिया।

 

MUST READ : 8 महीनों में मिले डेंगू के 98 मरीज, 6 और डेंगू मरीजों को हुई पुष्टि

 

डीएसपी की जुबानी : काफी गुस्से में थी, खुद को छुड़ाने मुझे थप्पड़ मारे

दोपहर करीब तीन बजे का वक्त रहा होगा। मैं अशोका गार्डन की तरफ से रचना नगर अंडर ब्रिज से होते हुए एमपी नगर की तरफ जा रहा था। ब्रिज के पास एक युवक ने मेरे वाहन को हाथ देकर रोका। उसने बताया कि एक महिला रेलवे ट्रैक पर लेटी है। मैंने तुरंत ही अपने वाहन से उतर ट्रैक की तरफ दौड़ लगा दी।

 

MUST READ : 23 और 24 को शुभ योग विद्यमान, बन रहा अमृत सिद्धि योग

 

करीब 100 मीटर दूर महिला ट्रैक पर लेटी हुई दिखाई पड़ी है। वह काफी गुस्से में थी। उसने अपने को छुड़ाने के लिए उन्हें चांटे मारे। इस दौरान वह हाथ छुड़ाकर भाग निकली। तभी मेरा ड्राइवर दिलीप आ गया। हम दोनों ने महिला को पकड़ा। लेकिन वह बेकाबू हो रही थी। इस पर मैंने महिला के हाथ और बाल पकड़े। झूमाझटकी में दोनों झाडिय़ों में जा गिरे।

तभी भीड़ में से दो-तीन लोग और आ गए। सभी ने पकडक़र महिला को मेरी गाड़ी में जबरदस्ती बैठाया। तब महिला फूट-फूट कर रोने लगी। इसके बाद उसे एमपी नगर थाने ले गए।
- पराग खरे, ट्रैफिक डीएसपी

 

 

दावा: डेढ़ मिनट लेट होते तो आ जाती ट्रेन


ट्रैफिक डीएसपी पराग खरे का कहना कि डेढ़ मिनट और लेट-लतीफी होती तो महिला ट्रेन की चपेट में आ जाती। बचाव के करीब डेढ़ मिनट बाद ही उस ट्रैक से ट्रेन निकली थी। इस दौरान आम लोगों ने भी पुलिस की काफी मदद की।

 

पिता की मौत, पति की बेवफाई से दुखी

महिला का अशोका गार्डन इलाके में होम्योपैथी का क्लीनिक है। उसने बताया कि दो साल पहले उसकी शादी हुई थी। पति उसे छोडक़र इंदौर में रह रहा है। चार माह पहले उसके पिता की भी मौत हो चुकी है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned