गणेश प्रतिमाओं के आगे छप्पन भोग शृंगारित, महोत्सव की पूर्णाहुति आज

गणेश पूजन महोत्सव - घरों व गली-मोहल्लों में पूजन-आरती के आयोजन
दस दिवसीय गणेश पूजन महोत्सव की पूर्णाहुति आज, प्रतिमाआंे का होगा विसर्जन

By: Vimal

Published: 19 Sep 2021, 06:57 PM IST

बीकानेर. गणेश चतुर्थी से चल रहे दस दिवसीय गणेश पूजन महोत्सव की पूर्णाहुति रविवार को होगी। महोत्सव स्थलों पर भगवान गणेश का पूजन व आरती कर हवन में आहूतियां दी जाएगी। महोत्सव की पूर्णाहुति पर दस दिनों तक पूजित गणेश प्रतिमाओं का पवित्र सरोवरों के जल में विसर्जन किया जाएगा। वहीं पूजन महोत्सव के नौवे दिन शनिवार को घर-घर और गली-मोहल्लों में चल रहे गणेश पूजन महोत्सव में भगवान गणेश की प्रतिमाओं का पूजन-आरती की गई। बालिकाओं ने प्रतिमाओं के आगे नृत्य व डांडिया नृत्य प्रस्तुत किए। कई स्थानों पर गणेश प्रतिमाओं के छप्पन भोग अर्पित किए गए। बेणीसर बारी के बाहर रामकुमार हर्ष के यहां गणेश प्रतिमा के आगे 56 भोग का आयोजन किया गया।

 

प्रतिमाओं का होगा विसर्जन

गणेश पूजन महोत्सव की पूर्णाहुति पर दस दिनों तक घरों व गली-मोहल्लों में पूजित की गई गणेश प्रतिमाओं का सरोवरों के जल में विधि विधानपूर्वक विसर्जन किया जाएगा। श्रद्धालु श्रद्धा और भक्ति से सरोबार होकर अबीर, गुलाल लगाकर डांडिया नृत्य करते हुए नाचते-गाते सरोवरों के पास पहुंचेंगे। इससे पहले महोत्सव स्थलों पर भगवान गणेश का पूजन, महाआरती और हवन में आहूतियां दी जाएगी।

 

1100 मोदक का लगाया भोग
विजय भवन करणी माता मंदिर परिसर में चल रहे गणेश पूजन महोत्सव में शनिवार को भगवान गणेश के ११०० मोदक का विशेष भोग अर्पित किया गया। इस दौरान भगवान गणेश का पूजन कर आरती की गई। जसोलाई तलाई के पास सती माता भक्त मंडल की ओर से आयोजित दस दिवसीय गणेश पूजन महोत्सव में भगवान गणेश के छप्पन भोग शृंगारित किया गया। बारह गुवाड़ सदाफते, रत्ताणी व्यास चौक, भट्ठड़ों का चौक जालवाली गली में चल रहे गणेश पूजन महोत्सव में भगवान गणेश की पूजा-अर्चना कर महाआरती की गई। कीकाणी व्यास स्थित चूरा निवास में चल रहे महोत्सव में भगवान गणेश की प्रतिमा का कागज के नोट से शृंगार किया गया व छप्पन भोग अर्पित किए गए। लक्ष्मीनाथ घाटी में चल रहे गणेश पूजन महोत्सव में किशन मोदी के नेतृत्व में भगवान गणेश के छप्पन भोग अर्पित किए गए। वहीं घरों और मोहल्लों में चल रहे पूजन महोत्सव में विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों के आयोजन हुए।

 

अनन्त चतुर्दशी आज

अनन्द चतुर्दशी पर्व रविवार को मनाया जाएगा। भगवान विष्णु के अनन्त स्वरूप का पूजन कर आरती की जाएगी। ज्योतिषाचार्य पंडित राजेन्द्र किराडू के अनुसार सनातन धर्म में अनन्त चतुर्दशी व्रत का विशेष महत्व बतलाया गया है। इस दिन भगवान अनन्त का पुरुष सूक्त अथवा विष्णु सहस्त्रनाम से पूजन किया जाता है। इस अवसर पर श्रद्धालु विशेष प्रकार के धागो से बने अनन्त को धारण करते है। कई श्रद्धालु इस व्रत का उद्यापन भी करेंगे।

Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned