scriptइस साल मानसून कमजोर रहने की घोषणा, जानिए कहां हुई ऐसी भविष्यवाणी | Monsoon forecast : Prediction of weak monsoon this year in Rajasthan | Patrika News
बीकानेर

इस साल मानसून कमजोर रहने की घोषणा, जानिए कहां हुई ऐसी भविष्यवाणी

Monsoon Forecast : मौसम विभाग के सटीक पूर्वानुमानों के बीच बीकानेर के गंगाशहर उपनगर में मौसम की भविष्यवाणी करने की अनूठी परंपरा करीब डेढ़ सदी से चल रही है।

बीकानेरMar 26, 2024 / 04:10 pm

Rakesh Mishra

monsoon_forecast_for_rajasthan.jpg
Monsoon Forecast : मौसम विभाग के सटीक पूर्वानुमानों के बीच बीकानेर के गंगाशहर उपनगर में मौसम की भविष्यवाणी करने की अनूठी परंपरा करीब डेढ़ सदी से चल रही है। इसके तहत होलिका दहन के दिन रविवार को एक साल पूर्व होलिका दहन के दिन ही जमीन में पांच फीट गहरी दबी पानी से भरी मटकी खोदने पर वह सूखी निकली। ऐसे में इस साल मानसून कमजोर रहने की घोषणा की गई। वहीं मटकी के ऊपर जड़ों के मिलने से यह भी पूर्वानुमान लगाया गया है कि पशुओं के लिए चारे की कमी नहीं होगी।
गंगाशहर में चांदमलजी के बाग के पास स्थित खारिए कुंए के पास गंगाशहर की स्थापना के समय से हर साल होलिका दहन के दिन पानी से भरी मटकी जमीन में गाड़ने व अगले वर्ष दहन के दिन ही सुबह जमीन से मटकी निकालने तथा उसमें पानी की स्थिति को देखकर जमाने (मौसम) की घोषणा करने की परंपरा चल रही है। रविवार को सुबह करीब 9 बजे क्षेत्र के सर्वसमाज के लोगों ने जैसे ही गत वर्ष जमींदोज पानी की मटकी निकाली तो सर्वसम्मति से इस वर्ष जमाना कमजोर रहने की घोषणा की।
करीब 140 साल पुरानी है परंपरा
इसी दौरान आसपास के गांवों के लोगों और उनके रिश्तेदारों के भविष्यवाणी जानने के लिए फोन आने शुरू हो गए। इस परंपरा से पिछले छह दशक से जुड़े विनोद ओझा ने बताया कि देशनोक से करीब 140 साल पूर्व माहेश्वरी, ओझा समाज के साथ सर्व समाज के लोग यहां पर आए और गंगाशहर की स्थापना हुई। स्थापना के समय से ही होलिका दहन का कार्यक्रम लगातार यहां चल रहा है। उन्होंने बताया कि इस परंपरा की शुरुआत पंडित भोमाराम ओझा की ओर से करीब 140 साल पूर्व की गई, जो आज भी निरंतर जारी है।
अगले वर्ष के लिए फिर मिट्टी में दबाई मटकी
क्षेत्र के त्रिलोक चन्द भठ्ठड़ ने बताया कि सर्वसमाज के लोग यहां पर एकत्रित होते हैं और पिछले साल जमीन में दबी पानी से भरी मटकी को निकालते हैं। इसके बाद फिर उसी समय विधि विधान से पूजा अर्चना के साथ नई मटकी को करीब 5 फीट गहरे गड्ढे में गाड़ने की परंपरा पिछले कई दशकों से लगातार चल रही है। इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने विधि विधान से गणपति, वरुण देवता, विष्णु भगवान की पूजा अर्चना के साथ मटकी पूजन किया और उसको उसी स्थान पर अगले होलिका दहन तक के लिए जमीन में पांच फीट गहरा गाड़ दिया गया।

Hindi News/ Bikaner / इस साल मानसून कमजोर रहने की घोषणा, जानिए कहां हुई ऐसी भविष्यवाणी

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो