शराब की जगह पी गए होम्योपैथिक कफ सिरप, 9 की मौत, 4 गंभीर

- बिलासपुर के कोरमी गांव का मामला : पुलिस ने आरोपी डॉक्टर को किया गिरफ्तार .

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 07 May 2021, 12:03 AM IST

बिलासपुर. कोरोनाकाल में लॉकडाउन के चलते शराब न मिलने पर ग्रामीणों ने उसकी जगह पर होमियोपैथिक कफ सीरप का सेवन कर लिया। इस मामले में अब तक नौ ग्रामीणों की मौत हो चुकी है और चार की हालत नाजुक बनी हुई है। बता दें कि बुधवार को 4 ग्रामीणों की मौत हो गई थी।

गुरुवार दोपहर में प्रशासन की टीमें गांव पहुंचीं और लोगों से पूछताछ की। पुलिस ने इस मामले में फरार डॉक्टर एसआर चक्रवर्ती को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि सीरप चक्रवर्ती के पर्चे पर ही उपलब्ध हुआ था। आगे जांच में पता चलेगा कि यह सीरप दवा के हिसाब से लिखा गया था या नहीं। पुलिस मामले में चिकित्सक पर अपराध दर्ज करने की तैयारी कर रही है।

Read More : महासमुंद : जेल की दीवार फांदकर पांच बंदी फरार, तलाश जारी

पुलिस के मुताबिक सिरगिट्टी क्षेत्र के कोरमी गांव में शराब न मिलने पर कुछ लोगों ने होमियोपैथिक कफ सिरप डोसेरा-30 का सेवन कर लिया। इससे ग्रामीणों की हालत बिगडऩे लगी। 4 की गांव में ही मौत हो गई। वहीं 3 को गंभीर रूप से अपोलो व सिम्स में रेफर किया गया था। सुबह होते-होते अपोलो में दाखिल खेमचंद धुरी (40) व राम दयाल (40) ने दम तोड़ दिया। वहीं सिम्स में दाखिल कैलाश की उपचार के दौरान मौत हो गई। 4 लोगों की मौत के सदमें से ग्रामीण उबर भी नहीं पाए थे कि गुरुवार को हुई 3 और मौत से ग्रामीणों में मातम छा गया है। इस दौरान गांव में दीपक धुरी (32) की सिरप सेवन से मौैत होने की खबर लगते ही गांव में दहशत का महौल बन गया। दोपहर होते होते सिम्स में उपचार के लिए दाखिल कराए गए गोवर्धन उर्फ छोटू की मौत हो गई। सिम्स में यूनिटी हास्पिटल में अभी 4 लोगो का उपचार चल रहा है।

Read More : भीगने से बचने जिस पेड़ के नीचे दामाद, 3 पुत्रियों व एक पुत्र के साथ खड़ा था पिता, वहीं गिरी आकाशीय बिजली, 4 की मौत

डॉक्टर की भूमिका पर संदेह
कोरमी में जिस कफ सीरप के सेवन से लगातार ग्रामीणों की मौत हो रही है। वह सीरप गांव के ही होमियोपैथिक चिकित्सक एसआर चक्रवर्ती ने दिया था। यह सीरप बड़ी मात्रा में ग्रामीणों तक कैसे पहुंचा इसकी पुलिस जांच कर रही है।

शराब के बदले सीरप की थ्योरी पर अटकी पुलिस की जांच
पुलिस की अब तक की जांच में सामने आया है कि अवैध शराब पर प्रतिबंध जारी है। ऐसे में सीरप लोगों तक बिना प्रिस्क्रिप्शन के नहीं पहुंच सकता। इसका सेवन शराबियों में बड़ी मात्रा में किया जा रहा है।

91 फीसद एल्कोहल वाला सीरप
चिकित्सा विशेषज्ञों के मुताबिक यह सीरप 91 फीसद एल्कोहल वाला होता है इसे खांसी आदि में दिया जाता है। होमियोपैथी सीरप की कुछ बोतलें भी गांव से बरामद की गई हैं।

Read More : कोविड अस्पताल के दहलीज पर डेढ़ घंटे तड़पती रही महिला, बेटे के सामने तोड़ा दम

घटना के बाद स्वास्थ्य शिविर का आयोजन कोरमी में लगातार ग्रामीणों की मौत व सीरप के रिएक्शन को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग का अमला सुबह से ही गांव पहुंच गया व स्वास्थ्य शिविर का आयोजन कर ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कराया जा रहा है।

इनकी हालत है गंभीर रितेश (28) सिम्स में दाखिल, दीपक (21) सिम्स में उपचार, प्रदीप धुरी (25) यूनिटी हॉस्पिटल, रामा धुरी (55) की हालत गंभीर बनी हुई है।

मामले में मर्ग कायम कर जांच की जा रही है। चिकित्सक द्वारा गलत तरीके से सीरप का वितरण भी एक पहलू है। डॉक्टर पर अपराध दर्ज किया जा रहा है। बाकी अन्य पहलुओं को भी देख रहे हैं।
- फैजुल शाह होदा, थाना प्रभारी सिरगिट्टी

Read More : छत्तीसगढ़ में आज से लॉकडाउन 4.0 शुरू, जानिए किन चीजों को मिली छूट, देखें डिटेल

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned