'टीका नहीं तो वेतन नहीं' का आदेश मीडिया में वायरल होते ही रद्द

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (जीपीएम) जिले के आदिवासी विभाग के उस आदेश को मीडिया में आते ही रद्द कर दिया गया है, जिसमें टीका न लगावने पर वेतन काटने की बात कही गई थी।

By: Ashish Gupta

Published: 28 May 2021, 03:21 PM IST

बिलासपुर. गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (जीपीएम) जिले के आदिवासी विभाग के उस आदेश को मीडिया में आते ही रद्द कर दिया गया है, जिसमें टीका न लगवाने पर वेतन काटने की बात कही गई थी। यह आदेश आदिवासी विभाग के आयुक्त ने जारी किया था।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के आधे गांव कोरोना वायरस मुक्त, तीसरी लहर की आशंका के बीच अच्छी खबर

इस आदेश की कॉपी मीडिया में आने के बाद जब प्रशासन से इस संबंध में पूछा गया ता कलेक्टर नम्रता गांधी ने बताया, इस आदेश को रद्द करवा दिया गया है। आदिवासी विभाग में कार्यरत सभी कर्मचारियों का वेतन बनवाने संबंधी बात बताते हुए कलेक्टर ने कहा, आदेश को लेकर किसी प्रकार का भ्रम नहीं है। सभी कर्मचारियों का वेतन बनेगा।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में वैक्सीन का महा'संकट’, 18 प्लस का टीकाकरण बंद, जानिए आगे कब होगा टीकाकरण

यह था आदेश में
गौरेला पेंड्रा मरवाही में आदिवासी विभाग में सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को टीका लगवाना जरूरी कर दिया गया था। जीपीएम के सहायक आयुक्त आदिवासी विभाग ने 21 मई को जारी अपने आदेश में कहा था, जो भी टीका नहीं लगवाएगा, उसका इस माह का वेतन रोक दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में इन 3 किन कारणों से कोरोना वायरस हुआ था खतरनाक, इन पर कड़ाई से ही सुधरे हालात

विभाग के अंतर्गत संचालित कार्यालय, आश्रम एवं छात्रावासों के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को कोरोना वैक्सीन तत्काल लगवानी है। वैक्सीन लगवाकर उसका प्रमाण पत्र दिखाने पर ही वेतन बनेगा।आदेश के मुताबिक वेतन रुकने पर संबंधित अधिकारी ,कर्मचारी स्वयं जिम्मेदार होंगे।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned