scriptstory asirgarh fort burhanpur know shiva temple ashwathama | इस किले का इतिहास कर देगा हैरान, खुदाई में निकली हैं कई रहस्यमयी चीजें, महाभारतकाल से जुड़ी हैं यहां की मान्यताएं | Patrika News

इस किले का इतिहास कर देगा हैरान, खुदाई में निकली हैं कई रहस्यमयी चीजें, महाभारतकाल से जुड़ी हैं यहां की मान्यताएं

हैरान कर देगा असीरगढ़ किले का इतिहास।

बुरहानपुर

Published: March 22, 2021 05:45:17 pm

बुरहानपुर/ देश का दिल कहा जाने वाला मध्य प्रदेश अपने आप में जितनी सुंदरता और इतिहास समेटे हुए है, उतना ही ये रहस्यमयी स्थानों के लिए भी पहचाना जाता है।पौराणिक काल से जुड़ा यहां मौजूद चीजों का इतिहास न जाने कितनी अनसुलझी पहेलियों को खुद में समेटे हुए है। पुरातत्व विभाग में आने वाले आज भी ऐसे कई स्थान हैं, जो अपने आप में एक पहले कहे जाते हैं। इनका अर्थ जानने वाला, जितना इन्हें सुलझाने की कोशिश करता है, उतना ही उलझता जाता है। ऐसी ही एक अनसुलझी पहली प्रदेश के बुरहानपुर जिले में स्थित असीरगढ़ के किले की भी है, जिसके कई रोचक किससे हैं। कई जानकारों का तो यहां तक मानना है कि, इस किले का इतिहास महाभारत काल से भी जुड़ा हु है। तो आइये जानते हैं, क्या हैं इस किले की हैरान कर देने वाली बातें।

news
इस किले का इतिहास कर देगा हैरान, खुदाई में निकली हैं कई रहस्यमयी चीजें, महाभारतकाल से जुड़ी हैं यहां की मान्यताएं

खुदाई में मिली हजारों साल पुरानी चीजें

news

किले के आसपास रहने वाले लोगों की मानें तो, उनका मानना है कि इस किले के रहस्य कभी खत्म नहीं होते। आए दिन यहां लोगों को किले से जुड़ी नई-नई चीजों के बारे में पता चलता रहता है। यही वजह है कि, पुरातत्व विभाग की टीम इस किले का समय-समय पर मुआयना करती रहती हैं। हाल ही में किले की पश्चिमी दिशा में खुदाई हुई थी, । इस दौरान पुरातत्व की टीम को कई खास चीजें मिलीं। खुदाई किये जाने वाले स्थान पर जमीन के नीचे एक सुंदर महल मिला। जांच टीम का मानना है कि, ये महल रानी के लिए बनवाया गया होगा। इस रानी महल में गुप्त 20 कमरे मिल चुके हैं। पुरातत्व विभाग के मुताबिक, महल 100 बाय 100 की जगह में बना है। इस महल में एक स्नान कुंड भी है। साथ ही, खुदाई में एक जेल भी मिली है। जेल में लोहे की खिड़कियां लगी हैं। साथ ही, दरवाजे भी मिले हैं। जेल में लगभग चार बैरकें हैं।


किले से जुड़ा रहस्यमयी तथ्य

news

असीरगढ़ किला भारत की खास संरचनाओं में से एक है। ये किला सतपुड़ा की पहाड़ियों में बना हुआ है। समुद्र तल से करीब 250 फिट ऊंचाई पर बना ये किला आज भी अपने वैभवशाली अतीत की गाथा सुनाता है। ऊंचे पहाड़ पर स्थित इस किले में एक जलाशय भी है, ऐसा कहा जाता है कि, भले ही कितनी भी गर्मी पड़ जाए, ये जलाशय इतिहास में अब तक कभी सूखा नहीं है। यहां के लोगों का मानना है कि, भगवान कृष्ण के श्राप के शिकार हुए अश्वत्थामा इसी जलाशय में स्नान करके अब भी पास में स्थित शिव मंदिर में पूजा करने जाते हैं। भगवान शिव का मंदिर तालाब से थोड़ी दूर गुप्तेश्वर महादेव के नाम से प्रसिद्ध है। मंदिर के चारों तरफ गहरी खाईंयां बनीं हैं। माना जाता है कि इन खाइयों में से किसी एक में गुप्त रास्ता है, जो मंदिर से जुड़ा है।


महाभारतकाल से जुड़ी मान्यताएं

news

ये भी कहा जाता है कि, किले में महाभारत के कई प्रमुख चरित्रों में से एक अश्वत्थामा आज भी वहां वजूद हैं। अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने निकले अश्वत्थामा को उनकी एक चूक भारी पड़ गई और भगवान श्रीकृष्ण ने उन्हें युगों-युगों तक भटकने का श्राप दे दिया। लोगो का मानना है कि, अश्वत्थामा लगभग पिछले पांच हजार सालों से यहीं भटक रहे हैं। किले के संदर्भ में लोगों का मानना है कि, किले के गुप्तेश्वर महादेव मंदिर में अश्वत्थामा अमावस्या और पूर्णिमा तिथियों पर शिव की उपासना करते हैं। ये सिलसिला पिछले 5 हजार सालों से जारी है। हालांकि, ये सिर्फ लोगों की मान्यता है। अब तक कहीं से भी इस मान्यता की पुष्टि नहीं हुई है।


अश्वत्थामा कौन हैं?

news

अश्वत्थामा महाभारतकाल यानी द्वापर युग में जन्में थे। उन्हें उस युग का श्रेष्ठ योद्धा माना जाता था। वे गुरु द्रोणाचार्य के पुत्र और कुरु वंश के राजगुरु कृपाचार्य के भांजे थे। द्रोणाचार्य ने ही कौरवों और पांडवों को शस्त्र विद्या सिखाई थी। महाभारत के युद्ध के समय गुरु द्रोण ने हस्तिनापुर राज्य के प्रति निष्ठा होने के कारण कौरवों का साथ देना उचित समझा। अश्वत्थामा भी अपने पिता की भांति शास्त्र व शस्त्र विद्या में निपुण थे। पिता-पुत्र की जोड़ी ने महाभारत के युद्ध के दौरान पांडवों की सेना को छिन्न-भिन्न कर दिया था।


असीरगढ़ का नामकरण?

news

किले को लेकर देश-प्रदेश के विद्वानों का मानना है कि, इसका निर्माण रामायण काल में हुआ है। असीरगढ़ के नामकरण के पीछे एक इतिहास से संबंधित एक कथा जुड़ी है। कथा के अनुसार यहां कभी कोई आशा अहीर नाम का इंसान रहने आया था, जिसके पास हजारों पशु थे। कहा जाता है कि उन पशुओं की सुरक्षा के लिए आशा अहीर ने ईंट गारा - मिट्टी व चूना-पत्थरों का इस्तेमाल कर दीवारें बनाई थी। इसी वजह से कथा को महत्व देते हुए अहीर के नाम पर इस किले को असीरगढ़ नाम दिया गया। इस किले पर कई सम्राटों का शासन रहा है। यहां कई समय तक चौहान वंश के राजाओं ने भी राज किया है।


यहां कैसे पहुंचे?

news

असीरगढ़ किला मध्य प्रदेश के बुरहानपुर से लगभग 20 किमी की दूरी पर स्थित है। 20 किमी का यह छोटा सफर आप स्थानीय परिवहन साधनों की मदद से पूरा कर सकते हैं। बुरहानपुर का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा इंदौर इंटरनेशनल एयरपोर्ट है। रेल मार्ग के लिए आप बुरहानपुर रेलवे स्टेशन का सहारा ले सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे खेमे में आ चुके हैं सरकार बनाने भर के विधायक! फिर क्यों बीजेपी नहीं खोल रही अपने पत्ते?Maharashtra Political Crisis: ‘मातोश्री’ में मंथन! सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMaharashtra Political Crisis: 24 घंटे के अंदर ही अपने बयान से पलट गए एकनाथ शिंदे, बोले- हमारे संपर्क में नहीं है कोई नेशनल पार्टीBharat NCAP: कार में यात्रियों की सेफ़्टी को लेकर नितिन गडकरी ने कर दिया ये बड़ा काम, जानिए क्या होगा इससे फायदा2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामMumbai News Live Updates: शिवसेना ने कल पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ेंगे उद्धव ठाकरेनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकालCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.