मुंबई की सड़कों पर नहीं दिखेगी ये गाड़ी, कभी मानी जाती थी शहर की पहचान

मुंबई की सड़कों पर नहीं दिखेगी ये गाड़ी, कभी मानी जाती थी शहर की पहचान

Pragati Vajpai | Updated: 09 Oct 2019, 04:56:30 PM (IST) कार रिव्‍यूज

  • सड़कों नहीं दिखेगी प्रीमियर पद्मिनी
  • जून 2020 से बंद हो जाएगी ये टैक्सी

नई दिल्ली: कई बॉलीवुड फिल्मों में नजर आ चुकी काली-पीली टैक्सी प्रीमियर पद्मिनी टैक्सी को मुंबई की लाइफ लाइन मानी जाती है । लेकिन अब इस गाड़ी का सफर थमने वाला है। जून 2020 से इस कार का सफर हमेशा के लिए बंद हो जाएगा।

आपको बता दें कि वैसे तो प्रीमियर पद्मिनी टैक्सी का प्रोडक्शन 2000 में बंद कर दिया गया था। लेकिन करीब 3000 टैक्सी मुंबई में चलती रही, जिनकी संख्या अब घटकर करीब 50 रह गई है। ये 50 टैक्सी भी अब अगले से दिखना बंद हो जाएगी । चलिए आपको हम बताते हैं इस कार का इतिहास

महंगी कार और बाइक्स पर नहीं पड़ा मंदी का असर , 1 दिन में डिलीवर हुई 200 मर्सिडीज

1964 में शुरू हुआ था सफर-

1964 में Fiat 1100 डिलाइट कार के नाम से मुंबई की सड़कों पर दौड़ना शुरू किया था। 1974 में इसका नाम भारतीय रानी पद्मिनी के नाम पर प्रीमियर पद्मिनी रख दिया गया है। स्लीक डिज़ाइन और हल्की कदकाठी की वजह से मुंबई की तंग सड़कों पर ये कार आराम से चली जाती थी यही वजह थी की मुंबई अथॉरिटीज ने इस कार को चुना था । लेकिन 2013 में सरकार ने प्रदूषण के चलते बीस साल से पुराने वाहन को सड़क से हटाने का निर्देश दिया। यही वजह है कि अब इस कार का आखिरी बची गाड़ियां भी इतिहास का हिस्सा हो जाएंगी।

स्मार्ट कार नहीं यहां बनने वाली है स्मार्ट रोड, गाड़ियां नहीं बल्कि सड़कें चलेंगी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned