झारखंड: धनबाद-गया रेलमार्ग पर नक्सलियों ने उड़ाई रेल पटरी, घंटों तक रेल सेवा बाधित

झारखंड: धनबाद-गया रेलमार्ग पर नक्सलियों ने उड़ाई रेल पटरी, घंटों तक रेल सेवा बाधित

Dhirendra Kumar Mishra | Updated: 16 Oct 2018, 07:51:29 AM (IST) क्राइम

रात साढ़े दस बजे से सुबह पांच बजे तक धनबाद-गया रेल मार्ग बंद रहा। घंटों तक दिल्ली-हावड़ा रेल मार्ग पर ट्रेनों का आवागमन बाधित रहा।

नई दिल्‍ली। झारखंड में धनबाद-गया रेलमार्ग पर नक्‍सलियों ने सोमवार आधी रात को रेल पटरी को उड़ा दिया। यह घटना चौधरीबाध और चिंगड़ो रेलवे स्‍टेशन के बीच की है। यहां पर नक्‍सलियों ने विस्‍फोटकों के जरिए रेल पटिरी को उड़ाने काम किया। जहां पर नक्‍सलियसों ने विस्‍फोट की घटना को अंजाम दिया वो गिरीडीह में पड़ता है। इस घटना के बाद दिल्ली-गया-हावड़ा रेल मार्ग पर रेल सेवा घंटों तक बाधित रहा। विस्‍फोटक हल्‍का होने के कारण इस घटना में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।

घंटों बाद शुरू हुई रेल सेवा
इस घटना की सूचना मिलने के बाद एहतियातन ट्रेनों को जहां तहां रोक दिया गया। रेल पटरी पर विस्‍फोट की वजह से कई ट्रेनें बीच रास्ते में फसी रहीं। रेलकर्मियों ने साढ़े तीन बजे के आसपास ट्रैक की मरम्मत कर ली। उसके बाद साढ़े चार बजे के आस पास इस रूट पर ट्रेनों का परिचालन शुरू हो पाया। इससे पहले कुछ ट्रेनों का रूट डाइवर्ट किया गया था। इस रूट से होकर जाने वाली चंबल एक्सप्रेस को दीनदयाल उपाध्याय जंकशन से पटना होकर भेजा गया। जबकि दून एक्सप्रेस पटना रूट पर डायवर्ट कर दिया गया।

2017 में भी उड़ाया था पटरी
आपको बता दें कि पिछले साल भी मई में इस रेल मार्ग पर नक्सलियों ने ट्रैक को उड़ाया था। हालांकि उस घटना में कोई घायल नहीं हुआ था। नक्सलियों ने झारखंड के गिरिडीह जिले में 28 मई 2017 की रात जमकर उत्पात मचाया था और रेल पटरी उड़ा दी थी। इस घटना को नक्‍सलियों ने हजारीबाग रोड रेलवे स्टेशन के समीप चिचाकी व कर्माबांध हॉल्ट के बीच अंजाम दिया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned