scriptNails were hammered into dozens of cows feet entering field cruelty limits crossed | हैवानियत की सारी हदें पार, खेत में घुस रही गायों के पैरों में ठोक दी कीलें | Patrika News

हैवानियत की सारी हदें पार, खेत में घुस रही गायों के पैरों में ठोक दी कीलें

locationदमोहPublished: Jan 05, 2024 06:20:58 pm

Submitted by:

Faiz Mubarak

खेतों में मवेशियों का घुसना मालिकों को इतना नागवार गुजरा कि उन्होंने करीब 12 गायों के खुरों में 2 इंच लंबी कील ठोक दी, ताकि वो चलने फिरने के लायक न बचें और उनकी फसलों में न घुसें।

news
हैवानियत की सारी हदें पार, खेत में घुस रही गायों के पैरों में ठोक दी कीलें

मध्य प्रदेश के दमोह जिले में हैवानियत की सारी हदें पार करते हुए पशु क्रूरता का सनसनीखेज मामला सामने आया है। दरअसल, जिले के तेंदूखेड़ा ब्लॉक में स्थित खेतों मवेशियों का घुसना खेत मालिकों को इतना नागवार गुजरा कि उन्होंने अपनी फसलें बचाने के लिए बेजुबान जानवरों के साथ हैवानियत की इंतेहा कर दी। बता दें कि इन हैवानों ने एक दो नहीं बल्कि करीब 12 गायों के खुरों में 2 इंच लंबी लोहे की कील ठोक दी, ताकि वो चलने फिरने के लायक न बचें और उनकी फसलों में न घुस सकें।

इस क्रूरता का परिणाम ये रहा कि सभी पशुओं के पैरों में गहरे घाव हो गए। यहां तक की चलना फिरना तो दूर अधिकतर के लिए तो खड़े हो पाना भी संभव नहीं है। हालांकि मवेशियों से इस तरह की क्रूरता की जानकारी लगने पर भगवती कल्याण संगठन के सदस्य गांव पहुंचे। उन्होंने इसकी सूचना जानवरों के डॉक्टर समेत स्थानीय पुलिस को दी। फिलहाल पुलिस ने पशु क्रूरता अधिनियम में मामला दर्ज करते हुए आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें- राम मंदिर के ध्वज पर सूर्य के साथ अंकित होगा वृक्ष, भगवान राम से है इस पेड़ का खास संबंध

जिसने भी पशुओं का हाल देखा, हैरान रह गया

news

बता दें कि पषुओं से क्रूरता का ये सनसनीखेज मामला जिले के तेंदूखेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम देवरी निजाम का है। यहां खेतों में खड़ी फसल के चक्कर में आसपास के मवेशी खेतों में घुस रहे थे। खेत में घुस रहे मवेशियों से छुटकारा पाने के लिए गांव के तीन लोगों ने करीब एक दर्जन गायों के खुरों में 2 इंच की कील ठोक दीं। घटना की जानकारी लगते ही भगवती मानव कल्याण संगठन की टीम पुलिस को लेकर मौके पर पहुंची। यहां उन्होंने जो नजारा देखा वो दिल दहला देने वाला था। क्रूरता किए जाने वाले मवेशी ठीक से खड़े तक नहीं हो पा रहे थे। साथ ही इनमें से अकसर तो दर्द से तडप रहे थे। संगठन के सदस्यों ने तत्काल सभी पशुओं के पैरों से कीलें निकाली, ताकि उनके दर्द में कुछ राहत हो। वहीं, पुलिस ने पड़ताल शुरु की तो पता चला कि ग्राम के ही गुड्डू अहिरवार, गुलाब आदिवासी और रीतेश आदिवासी ने पशुओं के साथ इस क्रूरता को अंजाम दिया है।

यह भी पढ़ें- गुना में एक और भीषण हादसा, टायर फटने से पलटी तेज रफ्तार बस, 14 यात्री गंभीर घायल


एक आरोपी गिरफ्तार, दो की तलाश जारी

news

मामले को लेकर तेंदूखेड़ा थाना प्रभारी फेमिदा खान का कहना है कि मंगलवार रात को भगवती मानव कल्याण संगठन से सूचना मिली थी कि गांयों के पैरों में कीले ठोकी गई हैं। सूचना पर स्टाफ के साथ मौके पर पहुंचे, जहां उन्होंने देखा कि दर्जनभर पशुओं के पैरों में कील ठोकी गई है। संगठन के कार्यकर्ताओं की शिकायत पर गुड्डू पिता बाबूलाल अहिरवार, गुल्ली उर्फ गुलाब आदिवासी, रितेश पिता मंगल आदिवासी पर पशु क्रूरता अधिनियम के तहत केस दर्ज करते हुए रीतेश आदिवासी को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं दो अन्य आरोपियों की तलाश शुरु कर दी गई है।

ट्रेंडिंग वीडियो