पहले घर बैठे TV देखने के मिल रहे थे पैसे, बाद में लगी लाखों की चपत, ठगों ने यूं ​खेला खेल

कई लोग यह भी सोचेंगे कि यदि टीवी देखने के ही पैसे मिल रहे हैं तो क्या गलत है? लेकिन ठहरिए (New Thug Trick Disclosed In Dhanbad Jharkhand) .(Thug Looted 30 Lakhs By Watch TV Scheme In Dhanbad Jharkhand) (Dhanbad News) (Jharkhand News) (Cyber Thugi) (Trending News)...

 

By: Prateek

Published: 12 Jun 2020, 01:28 PM IST

धनबाद: अगर कोई आपको कहे कि ''बीवी कमाऊ नहीं है तो कोई बात नहीं उसे टीवी दिखाइए जिससे आपको कमाई होगी।'' देखने यह बात बड़ी सीधी सी लगती है, कई लोग यह भी सोचेंगे कि यदि टीवी देखने के ही पैसे मिल रहे हैं तो क्या गलत है? लेकिन ठहरिए यह ठगों का एक झासा है जिस पर विश्वास करके लगभग 30 लोग अपने 30 लाख रुपए गंवा चुके हैं।

यह भी पढ़ें: Corona को लेकर 13 राज्यों के 46 जिलों ने बढ़ाई सरकार की चिंता, राष्ट्रीय दर की तुलना में दोगुने सक्रिय मामले

पटना बिहार के थे ठग...

ठग भी लोगों को चपत लगाने के लिए नए नए तरीके ढूंढ रही है। झारखंड के धनबाद जिले से ठगी का ऐसा ही नया मामला सामने आया है। भुईंफोड स्थित कोऑपरेटिव कॉलोनी निवासी प्रवीण टीवी ठगी के पहले शिकार है। उन्होंने बताया कि कैची पिक्सल कंपनी नामक कंपनी ने टीवी देखने पर पैसा कमाने की स्कीम बताई थी। कंपनी के कथित मालिक रोहित और राजेश पटना के रहने वाले बताए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Ladakh सीमा पर तनाव बरकरार, भारत ने सभी सैन्य ठिकानों पर हथियार और सेना के जवान बढ़ाए

यूं लिया झासे में...

इन्होंने अपनी स्कीम का प्रचार भी बड़े जोरो से किया था। और कह रहे थे कि 'कमाऊ बीवी नहीं है तो कमाऊ टीवी से फायदा उठाइए।' झासे में आकर प्रवीण ने दोनों से संपर्क किया। रोहित और राजेश ने बताया कि 45 हजार रुपए देने पर एक टीवी दिया जाएगा जिसे सुबह 10 से रात 10 बजे के बीच कभी भी चार घंटे तक चालू रखना है। इसके लिए प्रवीण को प्रति माह पांच हजार रुपए मिलने की बात कही गई। इस सस्ते लालच में आकर प्रवीण ने टीवी खरीद लिया।

यह भी पढ़ें: ICMR सर्वे : गांव के मुकाबले शहरी लोग ज्यादा मजबूत, हॉटस्पॉट एरिया में रहने वाली 30 प्रतिशत आबादी ने दी कोरोना को मात

यहां से शुरू हुआ बड़ा खेल...

प्रवीण के सहारे रोहित और राजेश ने मार्केट में पैर जमाने की सोची। वह यहीं नहीं रुके। उन्होंने प्रवीण से पांच लाख रुपए लेकर कंपनी की फ्रेंचाइजी दे दी। प्रवीण ने 30 लोगों को इस स्कीम में जोड़ लिया। प्रत्येक से 83 हजार रुपए लेकर उसने कंपनी के खाते में जमा करवा दिए। किसी को शक नहीं हो इसलिए कंपनी ने चार महीने तक तो सबके खाते में 5—5 हजार रुपए भेजे भी। इसके बाद पैसे आने का सिलसिला रुक गया। इसके बाद निवेशकों की बेचैनी बढ़ गई। इसके बाद रोहित और राजेश के फोन बंद आने लगे।

यह भी पढ़ें: Exclusive : कोरोना से आने वाले दिनों में और मुश्किल होंगे हालात

हुआ बड़ा पछतावा...

पहले घर बैठे TV देखने के मिल रहे थे पैसे, बाद में लगी लाखों की चपत, ठगों ने यूं ​खेला खेल

अब निवेशकों ने प्रवीण से जवाब मांगना शुरू कर दिया। परेशान प्रवीण ने पटना जाकर देखा तो कंपनी के कार्यालय बंद थे और रोहित व राजेश से कोई संपर्क भी नहीं हो पाया। प्रवीण के पैरों के नीचे से जमीन खीसक गई। उसे एहसास हुआ कि वह और अन्य सभी 30 लोग बड़ी ठगी का शिकार हो गए हैं। इस पर प्रवीण ने पुलिस में शिकायत की है। मामले की जांच जारी है।

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned