सावन की तरह भादो भी है खास, जानें Bhadrapada 2019 का महत्व

सावन की तरह भादो भी है खास, जानें Bhadrapada 2019 का महत्व

Devendra Kashyap | Updated: 15 Aug 2019, 05:35:55 PM (IST) धर्म कर्म

Bhadrapada 2019 : हिन्दू पंचांग के अनुसार, सावन महीना के बाद भादो आता है। भादो को भाद्रपद भी कहा जाता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार, सावन महीना ( month of sawan ) के बाद भादो आता है। भादो को भाद्रपद ( Bhadrapada 2019 ) भी कहा जाता है। चातुर्मास में आने वाला दूसरा महीना भादो होता है। यह महीना भगवान श्रीकृष्ण के जन्म लेने से संबंधित है। भगवान कृष्ण भादो महीने में रोहिणी नक्षत्र के वृष लग्न में जन्म लिया था। भादो महीना भी सावन ( Sawan 2019 ) की तरह पवित्र माना जाता है।

Bhadrapada 2019

कजरी तीज : भाद्रपद की कृष्ण पक्ष की तृतीया को कजरी तीज का त्यौहार मनाया जाता है। इस बार कजरी तीज 18 अगस्त को है। यह त्यौहार उत्तर भारत के कई क्षेत्रों में मनाया जाता है।

Bhadrapada 2019

भगवान श्रीकृष्ण का प्रिय महीना : भादो के महीना में भगवान श्रीकृष्ण की आराधना की जाती है। भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को हुआ था। इस बार कृष्ण जन्माष्टमी ( Krishna Janmashtami ) 24 अगस्त को है।

Bhadrapada 2019

गणेश चतुर्थी : जन्माष्टमी के बाद गणेश चतुर्थी ( Ganesh Chaturthi ) का त्यौहार मनाया जाता है। इस बार गणेश चतुर्थी 2 सितंबर को है। इस दिन भगवान गणेश ( Lord Ganesha ) की पूजा की जाती है। माना जाता है कि इस दिन चंद्र दर्शन नहीं करना चाहिए।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned