दिवाली पर दिये जलाने के पारंपरिक और वैज्ञानिक कारण जानिए

दिवाली के दिन घरों को दिये से रोशन क्यों किया जाता है?

Devendra Kashyap

October, 1802:25 PM

धर्म कर्म

दिवाली को लेकर इस वक्त हर घर में तैयारी चल रही है। हर कोई अपने-अपने घरों में साफ-सफाई कर रहा है ताकि दिवाली के दिन वे अपने घर को दिये से रोशन कर सकें। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि इस बार दिवाली 27 अक्टूबर को है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दिवाली के दिन घरों को दिये से रोशन क्यों किया जाता है?


इस सवाल पर आप सोच में पड़ गए न। हो सकता है कि आप ये भी कहें कि पहले से मनते आ रहा है इसलिए हमलोग भी मना रहे हैं लेकिन ऐसा नहीं है। आज हम आपको दिवाली पर दिये जलाने के पीछे का पारंपरिक और वैज्ञानिक कारण बताएंगे।

diwali1.jpg

पारंपरिक कारण

दरअसल, कुछ दिन पहले आपने दशहरा मनाया था। धार्मिक मान्यता के अनुसार, दशहरा के दिन भगवान राम ने रावण पर विजय प्राप्त की थी। यही कारण है कि इसे बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। कहा जाता है कि भगवान राम 14 वर्ष के वनवास काट कर जब अयोध्या लौटे तो अयोध्यावासियों ने उस दिन दिये जलाकर उनका स्वागत किया। कहा जाता है कि उस दिन कार्तिक मास की अमावस्या तिथि थी। तब ही से कार्तिक माह के अमावस्या तिथि को दिये जलाए जाते हैं और दिवाली मनाई जाती है। तब ही से यह परंपरा शुरू हो गई. जो आज तक जारी है।

diwali.jpg

वैज्ञानिक कारण

दिवाली के दिन दिये जलाने के वैज्ञानिक कारण भी है। दरअसल, ये वो समय है जब मौसम में बदलाव होता है। वर्षा ऋतु के बाद शरद ऋतु का आगमन होता है। कहा जाता है कि मौसम बदलने से मच्छरों का प्रकोप एका एक बढ़ जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, दिये जलने से मच्छर उस ओर आकर्षित होते हैं और दिये की ओर जाते हैं और दिये से जलकर मर जाते हैं। यही कारण है कि दिवाली के दिन दिये जलाना शुभ माना जाता है।

Show More
Devendra Kashyap
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned