'श्रीफल' नारियल से अधूरी पूजा को कैसे करें पूर्ण, जानिए यहां

'श्रीफल' क्यों, क्या और कैसे लें लाभ

By: Tanvi

Published: 25 Apr 2018, 02:02 PM IST

हिन्दू धर्म में पूजा-पाठ और अन्य कर्मकांडों का विशेष महत्व है, पूजा के दौरान घटित होने वाली शुभ घटनाएं तो भले ही किसी की नजर में आएं या ना आएं, लेकिन अगर कुछ ऐसा घटित हो जाए जो सही नहीं है तो मन में वहम जरूर आ जाता है। सभी मंदिरों में लगभग हर श्रद्धालु नारियल जरुर चढ़ाता है। श्रीफल को हम ईश्वर को भेंट के रुप में अर्पित करते हैं। कई लोग इसे नारियल के नाम से भी जानते हैं, दरअसल नारियल का संस्कृत शब्द श्रीफल होता है, और श्री का अर्थ लक्ष्मी से होता है, लक्ष्मी के बिना कोई भी शुभ कार्य पूर्ण नहीं हो सकता है इसलिए शुभ कार्यों में नारियल अवश्य रखा जाता है।

 

 

 

shrifal

ऐसा माना जाता है कि नारियल को फोडते समय हम भगवान के सामने अपना अहंकार को समर्पित कर रहे हैं। ऐसा करने पर अज्ञानता और अहंकार का कठोर कवच टूट जाता है और नारियल के सफेद हिस्से के रूप में ये आत्मा की शुद्धता और ज्ञान का द्वार खोलता है। सामान्यत: जल, सफेद और चांदी की वस्तुओं में चंद्र का वास होता है और जहां चंद्रमा का वास होता है वहां शांति स्थापित होती है। नारियल की शिखाओं में सकारात्मक ऊर्जा का भंडार भी होता है यही वजह है कि पूजन कार्यों और शुभ कार्यों में नारियल को कलश पर रखकर इसकी पूजा की जाती है।

shrifal

क्या आप जानते हैं एकाक्षी नारियल का महत्व

एकाक्षी नारियल माता लक्ष्मी का साक्षात स्वरूप माना जाता हैए एकाक्षी नारियल का अपना अलग महत्व है। नारियल में दो काले बिंदू होते हैं जो की नारियल की आंखे कहलाती है लेकिन बहुत ही कम मात्रा में ऐसे नारियल प्रयास करने से मिल जाते हैं, जिस पर एक ही आंख होती है। एकाक्षी नारियल घर में स्थायी सम्पतिए ऐश्वर्य और आनन्द देता है। नारियल पर चंदन, केशर, रोली मिलाकर उसका तिलक ललाट पर लगाने से व्यक्ति हर कार्य में पूर्ण सफलता प्राप्त करने लगता है। एकाक्षी नारियल में धन आकर्षण की अद्भुत क्षमता होती है।

shrifal

आपको बताते है एकाक्षी नारियल की पूजा कैसे करें?

एकाक्षी नारियल प्राप्त होने पर किसी शुभ मुहूर्त जैसे दीपावली, रवि-पुष्य, गुरु-पुष्य, होली इत्यादि में इसका विधि के अनुसार पूजन करें।

  • अपने पूजा के स्थान पर एक चौकी पर लाल वस्त्र बिछाएं।
  • उक्त चौकी पर एकाक्षी नारियल की स्थापना करें।
  • घी व सिन्दूर का लेप तैयार करें।
  • नारीयल की आंख छोड़कर पूरे नारियल पर घी व सिन्दूर का लेप लगाएं।
  • एकाक्षी नारियल को कलावा या मौली से लपेटकर अच्छी तरह से पूरा ढंककर लाल रेशमी वस्त्र में बांधकर उसकी षोडषोपचार पूजा करें।
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned