SBI Alert: Online Transaction करने पर सतर्क रहें कस्टमर्स, वर्ना हो सकता है बड़ा नुकसान

- लॉकडाउन के दौरान Online Transaction पर लगातार फ्रॉड की घटनाएं
- SBI ने सभी ग्राहकों को ईमेल पर जारी किया अलर्ट, अलर्ट रहने को कहा

By: Saurabh Sharma

Updated: 25 Apr 2020, 10:35 AM IST

नर्ठ दिल्ली। देश मे लॉकडाउन है। कोरोना वायरस ( coronavirus ) के केसों की लगाातार बढ़ती संख्या को देखते 3 मई के बाद की स्थिति के बारे में भी कुछ नहीं कहा जा सकता। वहीं दूसरी ओर लॉकडाउन में ऑनलाइन ट्रांजेक्शन ( Online Transaction ) की संख्या में भी काफी इजाफा हुआ है। दूसरी ओर ऑनलाइन ट्रांजेक्शन पर फ्रॉड ( Fraud On Online Transaction ) के मामले भी सामने आ रहे हैं। जिसे देखते हुए देश का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक ( State Bank of India ) काफी सतर्क हो गया है। साथ ही अपने कस्टमर्स को भी एलर्ट रहने को बोल रहा है। ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचने के लिए बैंक की ओर से ईमेल भी किया है। जिसमें ग्राहकों को जरूरी बातों के बारे में ध्यान रखने के लिए बोला गया है। आइए आपको भी बताते हैं कि एसबीआई ( SBI Alert ) की ओर से अपने ग्राहकों को किस तरह का अलर्ट जारी किया है।

किसी भी अनजान लिंक पर ना क्लिक
देश के सबसे बैंक की ओर से अपने ग्राहकों को ईमेल में कहा है कि आपके पास ईमेल, व्हाट्सऐप या फिर एसएमएस पर आए किसी भी अनजान लिंक पर बिल्कुल भी क्लिक ना करें। इस तरह के लिंक आपसे ओटीपी की डिमांड करते हैं। साथ ही बैंक अकाउंट की डिटेल भी मांगते हैं। डिटेल मिलने के बाद आापके साथ फ्रॉड हो जाता है। वहीं एसबीआई ने कस्टमर्स से नौकरी का ऑफर करने वाले , कैश प्राइज जीतने वाले वाली स्कीम्स से दूर रहने की सलाह दी हैै। ऐसे लिंक के चक्कर में आकर आप अपनी जरूरी डिटेल्स एंटर करते और आपका अकाउंट खतरे में पड़ जाता है।

बदलते रहे अपने पासवर्ड
एसबीआई ने ग्राहकों से कहा है कि इस माहौल में अपना ऑनलाइन बैंकिग पासवर्ड, लॉगिन और ट्रांजैक्शन पासवर्ड को नियमित अंतराल बदलते रहें। साथ ही इस पासवर्ड को किसी के साथ भी शेयर ना करें। अपने पासवर्ड की कोडिंग कुछ इस तरह से करें जिसमें एल्फाबेट के साथ न्यूमैरिक नंबर्स और स्पेशल कैरेक्टर्स भी हों। ऐसे पासवर्ड को क्रैक करना थोड़ा मुश्किल होता है। वहीं किसी बैंक के नाम से कॉल आने पर आपसे ओटीपी या दूसरी कोई डिटेल मांगता है तो समझ जाएं कि आपके साथ फ्रॉड होने वाला है। कोई बैंक आपसे आपका ओटीपी नंबर, कार्ड का सीवीवी नंबर नहीं मांग सकता है।

बैंक की वेबसाइट पर जाकर लें पूरी जानकारी
अगर आपको बैंक के कस्टमर केयर से बात करनी है या फिर बैंक से रिलेटिड जानकारी हासिल करनी है तो आप सीधे बैंक की ऑफिशियल वेबसाइट पर जानकर देखें। गूगल सर्च करने का जोखिम ना उठाएं। अक्सर गूगल सर्च करने पर आपको बैंक का नंबर या फिर अन्य दूसरी जानकारी गलत मिल जाती है। जिसका फायदा फ्रॉड करने वाले उठा लेते हैं। वहीं बैंक ने इस बात पर जोर देकर कहा है कि अगर किसी के साथ ऑनलाइन फ्रॉड होता है तो इसे बिल्कुल भी ना छिपाएं। अपने नजदीक के पुलिस स्टेशन पर जाकर जानकारी दें। साथी अपने करीबी बैंक ब्रांच पर पूरी जानकारी दें।

कोरोना वायरस coronavirus
Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned