scriptGang selling stolen vehicles on OLX exposed | सोती गंज में बंद हुआ चोरी की गाड़ियां काटने का धंधा तो चोरों ने OLX पर बेचने शुरू कर दिए वाहन | Patrika News

सोती गंज में बंद हुआ चोरी की गाड़ियां काटने का धंधा तो चोरों ने OLX पर बेचने शुरू कर दिए वाहन

गाजियाबाद की थाना कौशांबी पुलिस ने एक ऐसे गैंग का पर्दाफाश किया है, जो चोरी के वाहनों पर दूसरे वाहनों के नंबर डालकर ओएलएक्स पर लोगों को बेचते थे। पुलिस ने जाल बिछाकर आखिरकार इस गैंग के 2 शातिर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों के कब्जे से 21 चोरी के दुपहिया वाहन भी बरामद किए गए हैं।

गाज़ियाबाद

Published: January 10, 2022 04:25:14 pm

यदि आप ऑनलाइन सामान खरीदना ज्यादा पसंद करते हैं तो हमारी यह खबर आपके लिए खास साबित हो सकती है। क्योंकि ऑनलाइन सामान खरीदने में विशेष सावधानी रखने की आवश्यकता है? कहीं आप भी इस तरह से शिकार न हो जाएं। ऐसा ही एक मामला दिल्ली से सटे गाजियाबाद में सामने आया है। क्योंकि गाजियाबाद की थाना कौशांबी पुलिस ने एक ऐसे गैंग का पर्दाफाश किया है, जो चोरी के वाहनों पर दूसरे वाहनों के नंबर डालकर ओएलएक्स पर लोगों को बेचते थे। पुलिस ने जाल बिछाकर आखिरकार इस गैंग के 2 शातिर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि इनके दो अन्य साथी अभी फरार हैं, उन्हें भी जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। आरोपियों के कब्जे से 21 चोरी के दुपहिया वाहन भी बरामद किए गए हैं।
gang-selling-stolen-vehicles-on-olx-exposed.jpg
एसपी द्वितीय ज्ञानेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि थाना कौशांबी पुलिस ने भी विशेष अभियान चलाया हुआ है। पुलिस ने चेकिंग अभियान के तहत शादाब पुत्र आस मोहम्मद मुशीर मलिक पुत्र इस्लाम मलिक समेत दो शातिर अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। जबकि इनके दो अन्य साथी अभी फरार हैं। उनकी तलाश भी जारी है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इनके कब्जे से पुलिस ने 21 दुपहिया वाहन बरामद किये हैं। इस गैंग के सदस्य इन सभी दुपहिया वाहनों के नंबर और चेसिस नंबर बदल कर दूसरे वाहनों के नंबर अंकित कर उनके फोटो ओएलएक्स पर अपलोड कर ग्राहकों के संपर्क में आते थे और इन वाहनों को यह बड़ी आसानी से खपाने में कामयाब हो जाते थे।
उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गए गए आरोपियों ने बताया कि यह लोग चोरी के वाहनों को एक नियत स्थान पर खड़ा किया करते थे। वहां पर उस वाहन के इंजन नंबर और चेसिस नंबर साफ कर दूसरे सही वाहनों के चेचिस नंबर और इंजन नंबर लगाकर उस वाहन को ओएलएक्स पर डाल दिया करते थे। जिसके बाद उन्हें ग्राहक मिलता था। तो उसे कम पैसे में ही बेच दिया करते थे। उन्होंने बताया कि अभी तक 100 से भी ज्यादा वाहनों को इस तरह से बेच चुके हैं।
यह भी पढ़ें- UP Election 2022: संवेदनशील घोषित हुई यूपी की 95 विधानसभा सीटें, देखें कहीं इसमें आपका इलाका तो नहीं

आधा दर्जन वाहन ट्रेस किए गए

एसपी सिटी ने बताया कि इनके कब्जे से चोरी के 21 दुपहिया वाहनों को बरामद किया गया। इनमें से करीब आधा दर्जन वाहन ट्रेस किए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि अभी यह भी जानकारी की जा रही है कि उन्होंने ओएलएक्स के माध्यम से कितने लोगों को चोरी के वाहन बेचे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.