800 मीटर दूर थी पुलिस फिर भी 16 सेकंड में हत्या करके कैश लूटकर भागे बदमाश

बदमाशों ने पूरे प्लान के साथ दिया वारदात को अंजाम

By: Gaurav Sen

Published: 07 Jul 2019, 01:09 PM IST

ग्वालियर. मात्र 800 मीटर दूर चिरवाई नाके पर पुलिस की मौजूदगी के बाद भी बदमाश कैशवैन के गार्ड की हत्या कर 16 सेकंड में 8.28 लाख रुपया लेकर भाग गए लेकिन पुलिस को भनक तक नहीं लगी। जब लोगों ने फोन करके बताया तबपुलिस मौके पर पहुंची। अगर पुलिस सक्रिय होती तो बदमाश वारदात करने की हिम्मत नहीं कर पाते। बदमाश इस बात से वाकिफ थे कि चिरवाई नाके पर तैनात डायल 100 में मौजूद पुलिसकर्मी आराम फरमा रहे होंगे।

वारदात के बाद प्रभारी एसपी अमनसिंह राठौर, एएसपी पंकज पांडेय, सतेन्द्र तोमर कई थानों के टीआई के अलावा क्राइम ब्रांच की टीम सहित पूरा का कुनबा मौके पर पहुंच गया। अधिकांश पुलिसकर्मी सिर्फ घटनास्थल के आस-पास ही घूमकर फुटेज तलाशते रहे। बदमाशों की घेराबंदी के प्रयास तुरंत किए जाते तो शायद वे पुलिस गिरफ्त में होते ?

Smart City Gwalior : घर से निकलते ही कुछ दूर चलते ही रस्ते में हैं " गड्ढे ही गड्ढे "


रैकी के बाद हत्या और लूट

वारदात के तरीके से पुलिस अनुमान लगा रही है कि बदमाशों ने पूरी रैकी के बाद वारदात को अंजाम दिया है। हो सकता है वह पटेलनगर से ही पीछे लगे हुए हो। चूंकि विनयनगर और प्रेम मोटर्स के यहां उन्होंने इसलिए वारदात नहीं की हो कि उन्हे ंपता था कि उस समय उनके पास ज्यादा कैश नहीं है। इसलिए शिवपुरी लिंक रोड पर जब तीसरी जगह से कैश कलेक्ट हो गया। तब उन्होंने वारदात को अंजाम दिया। वह दूर खड़े होकर निगरानी भी रखे होंगे। जैसे ही कैशियर कैश लेकर बाहर आया उन्होंने अपनी बाइक कैश वैन की तरफ बढ़ाई होगी। पुलिस शहर के बाकी कैमरों को भी चेक कर रही है।

यह भी पढ़ें : कैश वैन के गार्ड को गोली मारकर 8 लाख की लूट, ड्राईवर हुआ घायल कैशियर सही सलामत

cash  <a href=loot and murder in gwalior" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/07/07/cashier_4804695-m.jpg">

मेरे सामने गार्ड को मारी गोली , तो मैं जान बचाकर भागा
मैं कैश लेकर वैन में बैठ पाया था कि बदमाशों ने हमला कर दिया। उन्होंने बिना कुछ कहे गार्ड को गोली मार दी। मैंने देखा तो जीप से उतरकर दौड़ लगा दी। रास्ते में कीचड़ में भी गिर पड़ा। बदमाश में मुझे भागते देखा तो मुझ पर भी पिस्टल तानी, लेकिन मैंने कीचड़ से उठकर ऑफिस के अंदर भागकर जान बचाई।
जैसा कि गोल पहाडिय़ा निवासी कैशियर रीतेश पचौरी ने पत्रिका को बताया

कहकरगए थे शाम को जल्दी आ जाऊंगा
गार्ड रमेश तोमर 10 साल से गार्ड की नौकरी कर रहे थे। उनकी पत्नी शांति देवी के अलावा दो बेटे कृपाल और दिलीप हैं। बेटी की शादी हो चुकी है। रिश्तेदारों ने बताया सुबह 9 बजे ड्यूटी के लिए निकले थे। पत्नी से कहा था शाम को घर जल्दी आ जाऊंगा लेकिन घर उनका शव पहुंचा।

पुलिस सुरक्षा पर सवाल

कैश वैन से लूट की तीसरी घटना

  • कैश वैन लूट की यह तीसरी घटना है। तीनों लूट में एक जैसा तरीका अपनाया गया है। संभावना है कि तीनों लूट में एक ही गैंग का हाथ हो सकता है। लूट ने पुलिस सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए हैं।
  • 27 मई को डीडी नगर में बैंक में पैसा जमा करने वाली वैन से 2 लाख 89 हजार लूटे थे।
  • मई 2018 सिटी सेंटर में बैंक में घुसकर बदमाशों ने कैश वैन के गार्ड को गोली मार 26 लाख रुपए लूटे थे।
cash loot and murder in gwalior

ऐसे हुई वारदात

  • दोपहर 12:30 बजे कैश कलेक्शन वैन शिवपुरी लिंक रोड पर इंस्टाकार्ट के सामने रुकी।
  • 12 बजकर 41 मिनट 30 सेकंड पर कैशियर रीतेश ने वैन में बैग रखा और सीट पर बैठ गया।
  • इसके एक सेकंड बाद 12 बजकर 42 मिनट 31 सेकंड पर बदमाशों की बाइक वहां आकर रुकी।
  • फिर 3 सेकंड बाद 12 बजकर 42 मिनट 34 पर सेकंड पर गार्ड को गोली मारकर बंदूक छीन ली।
  • इसके बाद 36 वे सेकंड में सीट पर रखा कैश से भरा बैग लूट लिया।
  • करीब 16 सेकंड में पूरी वारदात करने के बाद 12 बजकर 41 मिनट 46 सेकंड पर रफूचक्कर हो गए।
Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned