Uric Acid Control :- यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए रोजाना खाएं ककड़ी, गाजर और बेरीज

Uric acid control :- शरीर में यूरिक एसिड बढ़ जाने के कारण कई प्रकार की समस्याएं होती है। जोड़ों में दर्द, पैरों की उंगलियों, एड़ियों, घुटनों में दर्द, गठिया आदि समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अगर आपको ऐसे लक्षण नजर आए तो तुरंत ये घरेलू उपाय करें।

 

By: Subodh Tripathi

Published: 10 Jun 2021, 07:20 PM IST

किडनी की फिल्टर करने की क्षमता कम हो जाने पर Uric Acid की मात्रा शरीर में बढ़ने लगती है। जो हड्डियों के बीच में एकत्रित होने से उठने बैठने चलने में परेशानी आदि की समस्याएं खड़ी हो जाती है। पैरों में और जोड़ों में दर्द रहता है। इसे कंट्रोल करने के लिए कुछ घरेलू उपाय किए जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें - कमजोरी के कारण फूलने लगती है सांस तो डाइट में शामिल करें यह फूड्स।

संतरे का सेवन करें -

यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए संतरा बहुत फायदेमंद होता है। संतरे में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी होता है। जो यूरिक एसिड को लेवल करने में काफी मददगार साबित होता है।

यह भी पढ़ें - धूल मिट्टी से एलर्जी है तो घर से निकलने से पहले रखें यह ध्यान।

गाजर का सेवन करें-

गाजर और ककड़ी शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होती है। इन में पर्याप्त मात्रा में पानी होता है। इनका सेवन करने से शरीर से विषैले पदार्थ बाहर निकलते हैं। ऐसे में यूरिक एसिड भी कंट्रोल होता है।

यह भी पढ़ें - कामकाजी महिलाएं और गृहणियां फिट रहने के लिए घर में करें यह उपाय।

पर्याप्त मात्रा में पीएं पानी-

पानी हमारे बॉडी को डिटॉक्स करने का काम करता है। यानी शरीर से विषैले तत्वों को पसीने के रूप में बाहर निकाल देता है। अगर आप रोजाना भरपूर पानी पिएंगे, तो निश्चित ही यूरिक एसिड भी कंट्रोल होगा।

यह भी पढ़ें - बच्चों को मास्क पहनने के लिए इस तरह करें तैयार। नहीं करेंगे फिर आनाकानी।

सेब का सेवन करें -

सेबफल का सेवन करने से यूरिक एसिड कंट्रोल में रहता है। क्योंकि इसमें सभी पोषक तत्व होते हैं। जो शरीर में पहुंचकर यूरिक एसिड के असर को खत्म करने का काम करते हैं। इसलिए कम से कम रोजाना 1 सेब जरूर खाना चाहिए।

स्ट्रॉबेरी ब्लूबेरी खाएं-

स्ट्रॉबेरी, ब्लू बेरी और बेरीज में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। जो हमारे शरीर में यूरिक एसिड के लेवल को कंट्रोल करने में काफी मददगार होते हैं। क्योंकि यह यूरिक एसिड के क्रिस्टल को तोड़कर जोड़ों में जमा नहीं होने देते हैं। इस कारण जोड़ों के दर्द सहित अन्य समस्या नहीं होती है।

Subodh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned