आईआईटी में बवाल जारी...आईआईटी छात्रों के साथ गुंडई कर रहे डायरेक्टर

भूखे छात्रों को धरना स्थल से बाहर नहीं जाने दे रहे सुरक्षाकर्मी, कल से कक्षाओं का बहिष्कार

By: amit mandloi

Published: 20 Jan 2018, 10:10 PM IST

देश के बाकी आईआईटी और प्रीमियम संस्थानों की तुलना में मैस के लिए ज्यादा राशि वसूलने के बावजूद बेस्वाद और गुणवत्ताविहीन भोजन दिया जा रहा
-मैस में बाकी आईआईटी से ज्यादा राशि चुकाने पर भी नहीं मिलता अच्छा भोजन
-मेनगेट पर की नारेबाजी

इंदौर. आईआईटी, इंदौर में शनिवार को लगातार तीसरे दिन भारी हंगामा हुआ। मैस का बहिष्कार करने वाले छात्र-छात्राओं ने शनिवार को कैंपस से बाहर जाने की कोशिश की तो सुरक्षाकर्मियों ने सख्ती से रोक दिया। भूख से बिलखते छात्रों ने प्रबंधन के खिलाफ मेनगेट पर नारेबाजी की। छात्र सोमवार से कक्षाओं का बहिष्कार करेंगे।

आईआईटी के छात्र प्रबंधन के मनमाने रवैये के खिलाफ मैदान पकड़ चुके हैं। प्रबंधन ने छात्रों के हंगामे को दरकिनार कर बात सुनने से ही इनकार कर दिया है। छात्रों का कहना है, यहां देश के बाकी आईआईटी और प्रीमियम संस्थानों की तुलना में मैस के लिए ज्यादा राशि वसूलने के बावजूद बेस्वाद और गुणवत्ताविहीन भोजन दिया जा रहा है। गुरुवार रात को डायरेक्टर प्रो. प्रदीप माथुर के बंगले के घेराव से शुरू हुआ प्रदर्शन शनिवार को भी जारी रहा। छात्र मैस संचालन का जिम्मा संभाल रहे भोपाल केटरर्स को हटाने व बंद किए जा चुके दो अन्य कैंटीन दोबारा शुरू करने की मांग कर रहे हैं। दो दिन ज्यादातर छात्रों ने बाहर ढाबों पर खाना खाया था। इसकी जानकारी मिलने पर प्रबंधन ने शनिवार को उन्हें बाहर जाने से रोक दिया। सुरक्षाकर्मियों ने बैरिकेड्स लगाने के साथ टीन भी ठोंक दिए। छात्र भूखे होने का हवाला देकर चिल्लाते रहे, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने बाहर नहीं जाने दिया।


जिमखाना की सदस्यता निरस्त

डायरेक्टर के साथ जिमखाना सदस्यों की बैठक के बाद छात्रों की नाराजगी और बढ़ गई है। डायरेक्टर माथुर ने उनकी बात सुनने से ही इनकार कर जिमखाना सदस्यों पर हंगामे के लिए बाहरी लोगों को लाने का आरोप लगाते हुए जिमखाना की सदस्यता भी निरस्त कर दी। शनिवार को छात्रों को इसकी जानकारी मिली। छात्रों का कहना है, फैकल्टी की ओर से उन पर प्रदर्शन खत्म करने का दबाव बनाया जा रहा है।


एमएचआरडी से दखल की मांग

छात्रों ने अपने स्तर पर एमएचआरडी को भी शिकायतें भिजवाई हैं। हंगामे की गूंज दिल्ली तक भी पहुंचाने की कोशिश की जा रही है। प्रदर्शन के वीडियो एमएचआरडी, पीएमओ, मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को ट्वीट किए गए हैं। एमएचआरडी मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से भ्रष्ट और तानाशाह मैनेजमेंट से मुक्ति दिलाने की मांग की है। छात्र चाहते हैं, एमएचआरडी के ही प्रतिनिधि आईआईटी आकर मामले में दखल दें।
छात्रों के समर्थन में एबीवीपी
छात्रों के समर्थन में एबीवीपी कार्यकर्ता भी सिमरोल कैंपस पहुंचे। सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें गेट से पहले ही रोक लिया। एबीवीपी नगर मंत्री वीरेंद्रसिंह सोलंकी ने छात्रों को गेट तक बुलवा लिया। छात्रों ने कार्यकर्ताओं से कहा, हमें खराब खाना दिया जाता है। चार महीने से डायरेक्टर को शिकायत की, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। कार्यकर्ताओं के हंगामे के बाद आईआईटी के डिप्टी रजिस्ट्रार (एडमिन) सुनील पहुंचे और जानकारी दी कि छात्रों की शिकायत पर कमेटी बनाई गई है।

 

amit mandloi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned