इंसानियत शर्मसार : मंदसौर गैंगरेप पीडि़ता के परिजन से नेताओं को चाहिए ‘धन्यवाद’, पढि़ए पूरा मामला

मंदसौर की दुष्कर्म पीडि़ता मासूम से मिलने शुक्रवार को एमवाय पहुंचे नेताओं ने इंसानियत को शर्मिंदा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

इंदौर. मंदसौर की दुष्कर्म पीडि़ता मासूम से मिलने शुक्रवार को एमवाय पहुंचे नेताओं ने इंसानियत को शर्मिंदा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। भाजपा विधायक माता-पिता से कहने लगे कि आपसे मिलने सांसद आए हैं, उन्हें धन्यवाद तो दो। उधर, कांग्रेसी नेता इस बात पर अस्पताल स्टाफ से उलझ गए कि उन्हें भाजपा नेताओं की तरह जूते-चप्पल पहनकर क्यों नहीं जाने दिया गया।

बच्ची का एमवाय के आईसीयू में इलाज चल रहा है। शुक्रवार को पूरे दिन अस्पताल में नेताओं का तांता लगा रहा। सुबह 10 बजे के लगभग मंदसौर के सांसद सुधीर गुप्ता अस्पताल पहुंचे। उनके साथ इंदौर एक के विधायक सुदर्शन गुप्ता और इंदौर 3 की विधायक उषा ठाकुर भी थीं। विधायक गुप्ता माता-पिता से बोले कि सांसद सुबह 4 बजे उठकर बच्ची से मिलने यहां आए हैं। उन्हें धन्यवाद तो दो। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है, विधायक के यह कहने का माता-पिता पर कोई असर नहीं हुआ, उन्होंने भाव शून्य होकर बस उनकी तरफ हाथ जोड़ दिए। इसके बाद कांग्रेस नेता वहां पहुंचे। उन्हें कुछ देर इंतजार करना पड़ा। बाद में जब ये बच्ची से मिलने जाने लगे तो स्टाफ ने गेट पर रोक दिया और जूते-चप्पल उतारकर ही आईसीयू में आने को कहा। कांग्रेसी नेता भडक़ गए। उनका कहना था हमसे भेदभाव किया जा रहा है। कांग्रेस नेता अर्चना जायसवाल ने कहा, इलाज के पुख्ता इंतजाम हों।

मुख्यमंत्री ने किया ट्वीट

दुष्कर्म पीडि़ता को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा है, ‘बिटिया की तबीयत में तेजी से सुधार हो रहा है। हम न सिर्फ उसका अच्छे से अच्छा इलाज करवाएंगे, बल्कि आगे चलकर उसकी पढ़ाई-लिखाई, लालन-पालन का भी ध्यान रखेंगे। वह पूरे प्रदेश की बेटी है। मेटी बेटी हैं। उसके साथ हमेशा हम सबका आशीर्वाद रहेगा।’

एक घंटे तक मासूम को नोचते रहे

आरोपी इरफान ने पुलिस पूछताछ में स्वीकार किया कि वह बच्ची को स्कूल के बाहर से फुसलाकर ले गया। पीछे से आसिफ आया। दोनों ने शराब पी। फिर एक घंटे तक मासूम को नोचते रहे। वह चीखी तो मारने की कोशिश की। बाद में और शराब पी, चिकन खाया। सीएसपी राकेश मोहन शुक्ल के मुताबिक इरफान ने कबूला कि दोनों के पास पैसे नहीं थे, मोबाइल 5000 हजार रुपए में बेच दिया। उन्हीं पैसों से बीयर और चिकन खरीदा। शक नहीं हो, इसलिए दोनों बाजार में घूमते रहे। देर रात घर जाकर सो गए।

सीजीआइ से मिले मुख्यमंत्री

मंत्रालय में संभागायुक्तों-आईजी की बैठक में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा, घटना से व्यथित हूं। दोषियों को फांसी होनी चाहिए। डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला बोले, २० साल में प्रदेश में किसी को फांसी नहीं लगाई गई है। तब सीएम ने कहा, हम प्रयास करेंगे। बाद में सीएम ने जबलपुर में मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा से मुलाकात कर आग्रह किया कि दुष्कर्म मामले में हाइकोर्ट व सुप्रीम कोर्ट में भी फास्ट ट्रैक कोर्ट जैसी सुनवाई होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने रात में ट्वीट किया- बेटी, मुझे देश की न्यायपालिका पर भरोसा है। हम नरपिशाचों के लिए फांसी की सजा की मांग करेंगे।

घाव भरने में लगेंगे 20 दिन

एमवाय अस्पताल के अधीक्षक डॉ. वीएस पाल ने बताया, जटिल सर्जरी के बाद बच्ची की हालत में सुधार हो रहा है। घाव भरने में 15 से 20 दिन लगेंगे। तब तक उसे गहन निगरानी में रखा जाएगा। स्टॉफ व परिजन के अलावा किसी को बच्ची के पास जाने की अनुमति नहीं है।

जनहित याचिका दायर

आनंद ट्रस्ट के सतपाल आनंद ने इंदौर हाईकोर्ट में याचिका दायर कर पीडि़ता का दिल्ली के एम्स अस्पताल में इलाज कराने की गुहार की। याचिका में प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की भी मांग की गई है।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned